पारसोली थाने से हुई एक क्विंटल डोडा चूरा चोरी मामले का खुलासा पुलिस ने सात आरोपियों को गिरफ्तार किया , एक बाल अपचारी डिटेन

चित्तौड़गढ़। जिले के पारसोली थाने से हुई एक क्विंटल डोडा चूरा चोरी करने के मामले का खुलासा किया है। इस मामले में पुलिस ने सात आरोपियों को गिरफ्तार किया है। वहीं एक बाल अपचारी को डिटेन किया है। मामले में चोरी गया माल और वारदात में प्रयुक्त ऑटो भी बरामद किया है।
पुलिस अधीक्षक प्रीति जैन ने कोतवाली थाने में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में खुलासा किया है।
कार्रवाई करने वाली टीम में राशमी थानाधिकारी शिवलाल मीणा, हैड कांस्टेबल मुकेश कुमार, संजय कुमार, राजकुमार, कांस्टेबल रामवतार, ललितसिह, सुरेशनाथ, राजेन्द्रकुमार, मनोहर, महेन्द्रसिह, वेणीगोपाल, जयदीप, विकास शामिल थे।
गिरफ्तार आरोपी –
मामले में पुलिस ने गणपत उर्फ गुणिया पुत्र पिता रामलाल कंजर, शिवलाल पुत्र हंसराज कंजर, दुर्योधन पुत्र भरतरी कंजर, श्यामलाल पुत्र चन्द्रसिंह, दिलीप पुत्र शंभूलाल कंजर, छितर पुत्र मांगीलाल गुर्जर व कैलाश पुत्र नाथू गुर्जर को गिरफ्तार किया।

क्या है मामला –
पुलिस अधीक्षक प्रीति जैन ने बताया कि हैड कांस्टेबल ने पुलिस थाने में लिखित रिपोर्ट दी कि थाना पारसोली के प्रकरणों में जप्तशुदा डोडा चूरा मालखाना परिसर में जगह नहीं होने से सुरक्षा की दृष्टि से महिला हवालात मे रखा था। 28 जनवरी की रात को अज्ञात बदमाश महिला हवालात के गेट पर लगी हथकड़ी को काट कर आठ कट्टों में भरा 129 किलो डोडा चूरा चोरी कर ले गए। इस पर रिपोर्ट दर्ज कर जांच बेगूं डिप्टी रतनाराम देवासी को सौंपी गई। मामले में एएसपी रावतभाटा ज्ञानप्रकाश नवल के निकट सुपरविजन मे तथा रतनाराम देवासी वृताधिकारी वृत बेंगू के नेतृत्व में शिवलाल मीणा थानाधिकारी पुलिस थाना राशमी व पुलिस थाना पारसोली के पुलिसकर्मियों की एक विशेष टीम का गठन किया गया। गठित टीम ने पारसोली थाने के हवालात में रखा डोडा चूरा के कट्टे चोरी होने के सम्बंध में तकनीकी साधन इंटेलीजेन्सी का प्रयोग करते हुए व मुखबीर मामुर कर प्रकरण की घटना को अंजाम देने वाले आरोपीगणों के बारे में मालुमात की गई। इसमें सामने आया कि मण्डावरी गांव के दिलीप कंजर व उसके साथियों द्वारा उक्त घटना को अंजाम दिया गया है। इस पर उक्त डेरे के चालाना व संदिग्ध व्यक्तियों पर पुलिस टीम द्वारा उनकी वर्तमान गतिविधियों की जानकारी प्राप्त कर उन पर विशेष निगरानी रखी गई। 2 फरवरी को जरिये मुखबीर सूचना मिली कि थाना पारसोली के मालखाने से रात्री के समय डोडा चूरा चुराने वाले दिलीप कंजर के साथी गणपत उर्फ गुणीया कंजर, शिवलाल कंजर, दुर्योधन कंजर, श्यामलाल यादव आदि मण्डावरी से आगे नाल का नया गांव जाने वाले रास्ते से अन्दर की तरफ खाई में झरमरियों को आड़ में छिप कर बैठे है। इस पर गठित विशेष टीम द्वारा उक्त स्थान की चारों तरफ से घेराबंदी कर दबिश दी। इस पर खाई में बैठे पांचो व्यक्ति पुलिस जाप्ता को देख कर भागने लगे, जिन्हें घेरा देकर व उनके पीछे दौड कर पकड़ा। मौके से मंडावरी निवासी गणपत पुत्र रामलाल कंजर, शिवलाल पुत्र हसौदा उर्फ हंसराज कन्जर, दुर्योधन पुत्र भरतरी कंजर, कांकरिया निवासी श्यामलाल यादव पुत्र चन्द्ररसिंह जाति यादव तथा एक व विधि से संघर्षरत बालक होना पाया गया। इस पर अनुसंधान अधिकारी व गठित टीम द्वारा उक्त पांचो से गहनता से पूछताछ
की गई। इसमें इन्होंने 28 जनवरी की रात्री को पारसोली थाने से डोडा चूरा चुराने की वारदात को अपने अन्य साथियों के साथ करना स्वीकार किया। इस पर उक्त चारों को गिरफ्तार किया गया तथा विधि से संघर्षरत को निरुद्ध किया गया। पुलिस पूछताछ में उन्होंने प्रकरण की उक्त घटना को अपने अन्य साथी दिलीपसिंह पुत्र शम्भूलाल कंजर निवासी कंजर बस्ती मण्डावरी व लखन पुत्र शम्भूलाल कंजर निवासी कंजर बस्ती मण्डावरी के साथ मिल कर अंजाम देना तथा उक्त घटना को अंजाम देने के लिए अपने अन्य साथी छितर पुत्र मांगीलाल गुर्जर निवासी तिरोली की झोपीया थाना पारसोली, कैलाश पुत्र नाथू गुर्जर निवासी धाबाईजी जी का चौक थाना बेंगू व बन्टी पुत्र रामस्वरूप कंजर निवासी कंजर बस्ती पीपलीखेड़ा थाना बेगू जिला चित्तौड़गढ़ के द्वारा लीडिंग ऑटो उपलब्ध कराया गया। गठित टीम द्वारा उक्त अन्य आरोपीगणों की तला शुरू की गई तलाश की। मामले में गुरुवार सुबह मुखबीर से सूचना मिली कि उक्त घटना का मुख्य सरगना वांछित आरोपी दिलीप सिंह कंजर अपने ससुराल मेघनिवास थाना बेंगू की पहाड़ियों के उपर जंगल में छिप कर फरारी काट रहा है तथा वहीं इसके ससुराल वाले चोरी छिपे उसे रात्री के समय खाना उपलब्ध कराते है। इस पर गठित टीम ने मुखबीर की सूचना के बताये अनुसार मेघनियास की पहाड़ियों की घेराबंदी कर आरोपित को पकड़ा। बाद में छितर पुत्र मांगीलाल गुर्जर निवासी तिरोली की झोपड़ीया थाना पारसोली व कैलाश पुत्र नाथू गुर्जर निवासी भाबाई जी का खेड़ा ऑटो में बैठ कर चेंची रोड से रतनगढ़ की तरफ जाने वाले है। इस पर गठित टीम ने दोनों को पकड़ा। पूछताछ में आरोपित गणपत उर्फ गुणिया कंजर, विलाल कर दुर्योधन कंजर, दिलीपसिंह कंजर, श्यामलाल यादव व विधि से संघर्षरत बालक की निशानदेही से प्रकरण में चोरी 112 किलो डोडा चूरा जप्त कर लिया। मुख्य सरगना दिलीप कंजर ने पूछताछ पर बताया कि प्रकरण की घटना के कुछ दिन पूर्व किसी अन्य मामले में पारसोली थाना पुलिस ने आरोपी दिलीप कंजर को शांति भंग के आरोप में गिरफ्तार कर हवालात में रखा था। उसी दौरान उसने महिला हवालात में रखे डोडा चूरा चोरी की योजना बनाई। बाद में अपने साथियों के साथ मिल कर पारसोली थाने के पीछे से दीवार फान्द कर वारदात को अंजाम दिया। प्रकरण में आरोपी लखन कंजर निवासी मंडावरी, बंटी पुत्र रामस्वरूप कंजर निवासी पीपलीखेड़ा थाना की तलाश तथा प्रकरण में अग्रिम अनुसंधान जारी है। उक्त मामले के खुलासे में हेड कांस्टेबल मुकेश कुमार गुर्जर वह कांस्टेबल रामवतार ललित सिंह वह दुर्गेश की महत्वपूर्ण भूमिका रही

Leave a Reply