आजादी का अमृत महोत्सव के तहत जनजातीय कार्य मंत्रालय जनजातीय शिल्प मेला, वेबिनार व जनजातियों पर कार्यशालाओं का आयोजन और जनजातीय उपलब्धि प्राप्तकर्ताओं को सहायता प्रदान करेगा

आजादी का अमृत महोत्सव (India@75) भारत की स्वतंत्रता के 75 साल पूरे होने का उत्सव मनाने और स्मरण करने के लिए भारत सरकार की एक पहल है। प्रधानमंत्री ने 12 मार्च, 2021 को अहमदाबाद स्थित साबरमती आश्रम से ‘पदयात्रा’ (आजादी मार्च) को हरी झंडी दिखाकर इसका उद्घाटन किया था। जनजातीय कार्य मंत्रालय 12 मार्च, 2021 से आजादी का अमृत महोत्सव मनाने के लिए कई कार्यक्रमों और गतिविधियों का आयोजन कर रहा है।

भारत सरकार ने देश के एक प्रतिष्ठित स्वतंत्रता सेनानी व जनजातीय नेता बिरसा मुंडा के जन्मदिन पर सभी जनजातीय स्वतंत्रता सेनानियों को सम्मानित करने के लिए 15 नवंबर को जनजातीय गौरव दिवस के रूप में घोषित किया है। आजादी का अमृत महोत्सव के तहत जनजातीय कार्य मंत्रालय ने उत्तर पूर्वी राज्यों सहित राज्यों और संबंद्ध संगठनों के समन्वय में 15 नवंबर, 2021 से 22 नवंबर 2021 तक ‘प्रतिष्ठित सप्ताह’ उत्सव का आयोजन किया।

आने वाले दिनों में कोविड महामारी की स्थिति को देखते हुए भौतिक/वर्चुअल और हाइब्रिड मोड में विभिन्न गतिविधियों/कार्यक्रमों जैसे कि राष्ट्रीय/राज्य स्तरीय जनजातीय शिल्प मेला/नृत्य महोत्सव/चित्रकला प्रतियोगिता, ऑडियो वीडियो डॉक्यूमेंटेशन व एनिमेटेड फिल्में, विभिन्न क्षेत्रों में उपलब्धि प्राप्त करने वाले जनजातियों को सहायता प्रदान करना, जनजातीय मामलों पर वेबिनार व कार्यशाला का आयोजन करना और नवनिर्मित जनजातीय अनुसंधान संस्थान के भवनों का उद्घाटन करने की योजना है।

यह जानकारी जनजातीय कार्य मंत्री श्री अर्जुन मुंडा ने आज राज्यसभा में दी।

Leave a Reply