बजट में घर देने के नाम पर फिर किया गया मजाक : मिथुन अहिरवार

 

प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता मिथुन अहिरवार ने बताया है कि 2022 तक सभी को घर देने के जुमले को पूरा न करने पर जो प्रश्न पूछे जा रहे हैं उसकी वजह से मोदी सरकार अपना मानसिक संतुलन खो बैठी है।

इसकी झलक इस बार के बजट में दिखाई देती है जहां यह कहा गया है कि 48 हज़ार करोड रुपए में 80 लाख नए घर बनाए जाएंगे 48 हज़ार करोड को 80 लाख से भाग करने पर ₹60000 प्रति घर की राशि प्राप्त होती है।

श्री अहिरवार ने कहा की अब जब घर बनाने का सारा मटेरियल महंगा हो चुका है तो मोदी सरकार यह बताएं कि क्या यह संभव है कि ₹60000 में इस महंगाई के जमाने में साठ हज़ार में एक घर बन जाए, इतने में तो जमीन भी नहीं मिलती, घर का प्लास्टर भी नहीं होता।

उन्होंने कहा कि कोराना काल में बेघर और भूखे हो चुके गरीबों के साथ बजट में अधिकृत रूप से यह जो मजाक किया गया है, यह जो छलावा किया गया है इसके लिए शर्मसार होकर निर्मला सीतारमण जी को माफी मांगनी चाहिए।

श्रीमान संपादक महोदय ससम्मान प्रकाशनार्थ

Leave a Reply