सेवानिवृत्त के बाद आईएएस को फिर कोई पद क्यो दिया जाये!

सेवानिवृत्त के बाद आईएएस को फिर कोई पद क्यो दिया जाये!


आईएएस अफसर पूरी नोकरी में बंगला ,नोकर चाकर सरकारी सुविधाओं का भोग करते हैं सेवा में रहते तो यह उनका दायित्व हो सकता है किंतु सेवानिवृत्त के बाद इन्हें पदों पर शुशोभित करने की परिपाटी क्यो ? हा सरकार को सेवानिवृत्त के बाद उन अफसरों को पदों पर शुशोभित करना चाहिए जो स्वेच्छा से अपनी पेंशन छोड़ना चाहते हो ?आखिर पेंशन और वेतन, बंगला नोकर चाकर पर प्रतिमाह लाखो का खर्च क्यो ? इससे सरकार पर ही वित्तिय बोझ बढ़ता है !आईएएस मनोज श्रीवास्तव सेवानिवृत्त हो रहे हैं और प्रयास शुरू हो गये की सेवानिवृत्त के बाद भी वापसी हो जाये? मनोज श्रीवास्तव का कार्यकाल ताउम्र मलाईदार पोस्ट का रहा दिग्विजयसिंह के मुख्यमंत्री रहते लगातार राजगढ़, झाबुआ, मंदसौर, इंदौर कलेक्टर रहे चंद समय के आबकारी आयुक्त, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव,वाणिज्य कर के प्रमुख सचिव और अंतिम कार्यकाल पंचायत विभाग के ए सी एस रहे कुल मिलाकर ताउम्र मलाईदार पोस्ट पर काबिज रहे आखिर कितने आईएएस है जो हमेशा मुख्यधारा में रहे? उसके बाद भी मनोज श्रीवास्तव की सेवानिवृत्त के बाद ताजपोशी के प्रयास क्यो ? यह समझ से परे है ? ज्ञातव्य है कि राधेश्याम जुलानिया ,मनोज श्रीवास्तव के कार्यकाल में अरबो के आश्रय निधि शुल्क घोटाले दबे रहे? पंचायत मंत्री की नोटशीट के बाद भी दोनो मामले पर लीपापोती करते रहे?

Leave a Reply