विश्व मितव्ययिता दिवस 30 अक्टूबर 2020 पर विशेष

मितव्ययिता की संस्कृति को बचाना होगा-ललित गर्ग- प्रत्येक वर्ष 30 अक्टूबर को पूरी दुनिया में विश्व मितव्ययिता दिवस मनाया जाता है। मितव्ययिता दिवस केवल बचत

Continue reading

ऐसे थे ‘सुपर कम्युनिस्ट’ लाल बहादुर शास्त्री जी

मैं 1965 में गुरुकुल कांगड़ी का छात्र था। उसी समय देश में भयंकर सूखा पड़ने से खाद्यान्न की बहुत कमी हो गई थी और अमेरिका

लेख – कोरोना महामारी से बदले जीवन का सन्देश

– ललित गर्ग- कोरोनारूपी महामारी एवं महाप्रकोप से जुड़ी हर मुश्किल घड़ी का सामना हमने मुस्कराते हुए किया। हालात ने जितना भी गिराने की कोशिश

15 वर्षीय नाबालिग बालिका के साथ सामूहिक दृष्‍कृत्‍य करने वाले 05 आरोपियो को हुआ आजीवन कारावास

बालिका से देह व्‍यापार कराने वाली महिला समेत 03 आरोपियो को हुआ 20 वर्ष का सश्रम कारावासमाननीय सर्वोच्‍च न्‍यायालय के आदेश से कोरोना महामारी के

लेख – पर्यटन से ही लौटेगी खुशी और मुस्कान

– ललित गर्ग –कोरोना महामारी ने जीवन के मायने ही बदल दिये हंै, इस महाप्रकोप के समय में हर व्यक्ति किसी-ना-किसी परेशानी से घिरा हुआ

पत्रकारो को मिलेगा कोराना योद्धा का सम्मान

जर्नलिस्ट काउंसिल ऑफ इंडिया संगठन ने प्रेस काउंसिल का आभार जताया । जेसीआई के पदाधिकारी पिछले काफी समय से पुलिस कर्मियो,स्वास्थ्य कर्मियो और सफाई कर्मियो

लेख- सार्थक नेतृत्व का पत्थर है वेतन कटौती

– ललित गर्ग –आदर्श नेतृत्व की परिभाषा है, ”सबको साथ लेकर चलना, निर्णय लेने की क्षमता, समस्या का सही समाधान, कथनी-करनी की समानता, लोगांे का

श्री नरेंद्र मोदी के 70वें जन्म दिवस- 17 सितम्बर 2020 पर विशेष

नरेन्द्र मोदी रूपी रोशनी का भारत-ललित गर्ग –एक संकल्प लाखों संकल्पों का उजाला बांट सकता है यदि दृढ़-संकल्प लेने का साहसिक प्रयत्न कोई शुरु करे।

लेख हिन्दी के बिना देश की तरक्की अधूरी

– ललित गर्ग- प्रत्येक 14 सितबंर को हिंदी दिवस मनाया जाता है। देश की आजादी के पश्चात 14 सितंबर, 1949 को भारतीय संविधान सभा ने

डरा रहे हैं आर्थिक गिरावट के आंकड़े

-ललित गर्ग-कोरोना महामारी के कारण न केवल भारत बल्कि दुनिया की अर्थव्यवस्थाएं चरमरा गयी है।   भारत में लॉकडाउन के बाद अर्थव्यवस्था की स्थिति न

कांग्रेस में नेतृत्व के प्रश्न पर मोह क्यों?

ः ललित गर्गः कांग्रेस पार्टी में लोकतांत्रिक भावना से उसके नेतृत्व पर लम्बे समय से छाये अनिश्चय एवं अंधेरों को लेकर भीतर-ही-भीतर एक कुरुक्षेत्र बना

मदर टेरेसाः सचमुच वो मां थी

  -ःललित गर्ग:-सचमुच वे मां थी। माँ शब्द जुबान पर आते ही सबसे पहले मदर टेरेसा का नाम आता है। कलियुग में वे मां का एक

नकली किताबों के तंत्र से आहत होती राष्ट्रीयता

  -ःललित गर्ग:-हमारा चरित्र देश के समक्ष गम्भीर समस्या बन चुका है। हमारी बन चुकी मानसिकता में आचरण की पैदा हुई बुराइयों ने पूरे तंत्र और

शुभता एवं श्रेष्ठता के सृजक हैं गणेशजी

-ललित गर्ग-गणेश चतुर्थी यानी सिद्धि विनायक भगवान गणेश का जन्मोत्सव। दरअसल गणेश सुख-समृद्धि, रिद्धि-सिद्धि, वैभव, आनन्द, ज्ञान एवं शुभता के अधिष्ठाता देव हैं। संसार में

यही है आजाद भारत की वास्तविक इबारत

-ललित गर्ग –एक और आजादी का जश्न सामने हैं, जिसमें कुछ कर गुजरने की तमन्ना भी है तो अब तक कुछ न कर पाने की

कैसे रुकेगा हिंसक एवं धार्मिक उन्माद

– ललित गर्ग –बैंगलोर में फेस बुक पर एक विवादास्पद पोस्ट के बाद एक धर्म विशेष के उपद्रवी तत्वों ने जो हिंसक तांडव किया और

धर्म व्यक्तिगत विषय है – लेख

लेखक, रितेश यादव धर्म व्यक्तिगत विषय है। आराध्य और उपासक के बीच का रिश्ता पवित्र है। इसमें किसी तरह का हस्तक्षेप स्वीकार्य नहीं है। किसी

रवीन्द्रनाथ की स्मृति में उम्मीद के उजाले

संपादकीय-ललित गर्ग-महापुरुषों की कीर्ति त्रैकालिक, सार्वदैशिक एवं सार्वभौमिक होती है। उनके महान् योगदान एवं उनका यश किसी एक युग तक सीमित नहीं रहता। ऐसे गुरुदेव

राजस्थान कांग्रेस का यह भीतरी संकट अब दरअसल भारतीय लोकतंत्र का संकट बन चुका है

संपादकीय।गहलोत एवं पायलेट के बीच के राजनीतिक झगड़े की वजहें चाहे जो भी रही हों और इसके लिए चाहे जिसे भी जिम्मेदार ठहराया जाए, लेकिन

कोरोना संकट ने बदलती जीवन की सोच  

– ललित गर्ग  –कोरोना वायरस से उपजे संकट ने मानव जीवन को गहरे घाव दिये हैं। स्वास्थ्य संकट, भय, निराशा, अनिष्ट की आशंका जैसी अनेक

राजस्थान में भाजपा का उम्मीद भरा चेहरा

-ललित गर्ग – राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत एवं उपमुख्यमंत्री सचिन पायलेट के बीच मचे सियासी घमासान ने लोकतंत्र की बुनियाद को गहरा आघात पहुंचाया

कोरोना कहर से बदली जिन्दगी को स्वीकारें

 -ः ललित गर्ग:-कोरोना महासंकट ने हमारी सोच एवं संवेदना ही नहीं बदली बल्कि हमारा सम्पूर्ण जीवन बदल दिया है। जनसंख्या की दृष्टि से विश्व का

स्वामी विवेकानन्द थे भारतीयता की संजीवनी बूंटी

स्वामी विवेकानन्द थे भारतीयता की संजीवनी बूंटी-ललित गर्ग- महापुरुषों की कीर्ति किसी एक युग तक सीमित नहीं रहती। उनका मानवहितकारी चिन्तन एवं कर्म कालजयी होता

आत्म-विकास का अवसर है चातुर्मास

आत्म-विकास का अवसर है चातुर्मास-ललित गर्ग- भारतीय धार्मिक और सांस्कृतिक परंपरा में चातुर्मास का विशेष महत्व है। विशेषकर वर्षाकालीन चातुर्मास का। हमारे यहां मुख्य रूप

Watch “देश में कोरोना के कुल मामले 3 लाख के पार पहुंच गए हैं. पहली बार एक दिन में 11 हजार से ज्यादा नए केस” on YouTube

क्या 15 जून के बाद देश में लगेगा संपूर्ण लॉकडाउन?

वायरल हो रहे इस मैसेज की जानें सच्चाई देश में दो महीने से ज्यादा वक्त तक लॉकडाउन लागू होने के बाद केंद्र सरकार ने रियायत

सबको साल 1962 औऱ1967 से 1987 तक याद रखना चाहिए !!

आदरणीय-सम्माननीय साथियों/देशवासियों !! सबको साल 1962 औऱ1967 से 1987 तक याद रखना चाहिए !! भारत ने सरहदों पर पहले भी कई बार शौर्यगाथा लिखी है

सम्मान उनका जिन्होंने अपनी “जिंदगी” से ज्यादा “कर्तव्य” को सम्मान दिया

नई दिल्ली। समाजसेवी अधिमान्य पत्रकार महासंघ द्वारा कोरोना वायरस के वैश्रि्वक संकट-काल में समाज और देश को बचाने के लिए समर्पित स्वास्थ्यकर्मियों, पुलिसबंधुओं, आवश्यक सेवा

कोविड 19 – जुलाई से स्कूल खोलना चाहिए या नहीं?

अब एक नया नाटक आरंभ होने जा रहा है।इस बार बलि के बकरे आपके हमारे बच्चे होंगे।प्रदेश में एक जुलाई से स्कूल खोलने की बात

शिवराज मंत्रिमंडल विस्तार, “किस किसको प्यार करूँ”

हृदेश धारवार, वरिष्ठ पत्रकार, भोपाल भोपाल। शिवराज मंत्रिमंडल विस्तार की अटकलें तेज हो गई हैं। इस बार बड़ी संख्या में विधायक मंत्री बनने का दावा

हिंदी पत्रकारिता -तब में और अब में फर्क

सभी प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व डिजिटल मिडिया के पत्रकार बंधुओं को हिंदी पत्रकारिता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं, पत्रकारिता का स्वरुप चाहे जैसा भी हो मसलन ख़बरें

जीतू सोनी ने चुकाई हनीट्रैप मामले को उजागर करने की कीमत, संबंधों पर भारी सियासत

विजया पाठकमध्य प्रदेश के बहुचर्चित हनीट्रैप मामले को चरम पर पहुंचाने के पहले ही ठंडे बस्ते में डाल दिया गया है l इंदौर के व्यापारी

भारत में टैक्स देनेवालों और फ्री में खाने वालों के बीच संबंधों को आसान तरीके से समझिए

एक बार 10 मित्र ढाबे पे खाना खाने गए । बिल आया 100 रु । 10 रु की थाली थी ।मालिक ने तय किया कि

PM आवास योजना: 2.6 लाख रुपये छूट के लिए ऐसे करें आवेदन, होम लोन में मिलता है फायदा

लेख रंजीत रजक:- केंद्र सरकार ने सभी भारतवासी को पक्का मकान दिलाने के मकसद से प्रधानमंत्री आवास योजना की शुरुआत की है। पीएम आवास योजना

डॉ॰ हर्षवर्धन से भारत का कद बढ़ा

– ललित गर्ग – केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन का 22 मई को विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के कार्यकारी बोर्ड अध्यक्ष का कार्यभार संभालेंगे। कोरोना

मजदूरों की दुर्दशा करने वाले देश… अब तेरा भगवान ही मालिक है

विनीत श्रीवास्तव की कलम से…… जल्दबाजी में देश के अंदर लॉकडाउन का फैसला । ….. सरकार के द्वारा चंद घंटों में 1 अरब 30 करोड़

विष्णु का ‘मायाजाल’ उपचुनाव में शिव ‘राज’ को बचा पाते हैं या नहीं?

लेख – हृदेश धारवार, वरिष्ठ पत्रकार भोपाल भोपाल। सतयुग, द्वापर युग और त्रेता युग में तो आपने भगवान विष्णु के अलग अलग अवतार के बारे

तरबूत खरीदते वक्त अपनाने चाहिए ये नुस्खे

गर्मियां आते ही मार्केट में तरबूज आने लगते हैं. तरबूज खाने से बॉडी में डिहाइड्रेशन नहीं होता है. इसे खाने से वजन भी कंट्रोल होता

बिजली मेंटेनेंस कर्मचारी

बिजली कर्मचारीसभी प्रदेश वासी कहतेनिकम्मे है, बिजली कर्मी ॥आज इस कोरोना महामारी,काम‌(मेंटेनेंस)मे लगे बिजली कर्मी॥ कोई भी पास नहीं आते,काम(मेंटेनेंस) में लगे बिजली कर्मी॥फेसबुक,वाॅटसप, टीवी,

संक्रमण से बचाव ही उपचार

विश्व स्वास्थ संघठन द्वारा कोरोना वायरस को एक महामारी घोषित किया गया है जो पुरे विश्व में अत्यंत तेजी से फ़ैल गया है, तथा भारत

15000 से कम सैलरी वाले कर्मचारियों की ईपीएफ राशि सरकार भरेगी

नई दिल्ली। आर्थिक पैकेज को लेकर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा- पीएम मोदी ने अपना विजन रखा आर्थिक पैकेज को लेकर वित्त मंत्री निर्मला

IPS सचिन अतुलकर का ट्रांसफर भोपाल पुलिस हेडक्वाटर, फिट बॉडी और दमदार पर्सनालिटी

भोपाल । वर्दी में किसी स्टार को देखना हमेशा लोगों को रोमांचित करता है। फिट बॉडी और दमदार पर्सनालिटी और सुपरकॉप वाली छवि हमेशा ही

देश का मजदुर सड़क पर है,

भोपाल से रचित मालवीय देश में लागू लॉकडाउन के कारण सभी जगह उथलपुथल का माहौल है . राज्यो और प्रमुख शहर में रोजाना कोरोना संक्रमण

छत्तीसगढ़ में शराब बिक्री – तंगहाली में शराब से आस, शराब बिक्री से लहूलुहान समाज या सुधरती अर्थ व्यवस्था

विजया पाठकदिसंबर 2018 में जब छत्तीसगढ़ में भूपेश बघेल सरकार का गठन हुआ तब सरकार ने घोषणा की थी कि पूरे राज्य में शराबबंदी की

कोरोना में दिनचर्या

कोरोना को मजाक में लेते हुए व्यापार करने वाले लाकडाऊन में बिना वजह बाहर निकलने वालों की हकीकत एक दिन……………….अचानक बुख़ार आता हैगले मे दर्द

कब तक बढ़ता रहेगा लॉक डाउनदेश की चुनौती से कैसे निपटेंगे मोदी जी

विजया पाठकभारत में तीसरी बार लॉकडाउन बढ़ गया है l अब लोकडाउन को 17 मई तक बढ़ा दिया गया हैं l यह भी नहीं कहा

धरती का कोना- कोना जहां फैल रहा करोना

मैने ये कविता इस महामारी को लेकर ओर इसान ने जो प्रकृति व इसानियता के साथ खिलवाड़ किया है। ये जो उचनीच धर्म महजब ओर

क्या कोरोना वायरस को ख़त्म किया जा सकता है?

प्रश्न (1) :- क्या कोरोना वायरस को ख़त्म किया जा सकता हैउत्तर:-नहीं! कोरोना वायरस एक निर्जीव कण है जिस पर चर्बी की सुरक्षा-परत चढ़ी हुई

कोरोना इफेक्ट – आर्थिक उपनिवेशवाद की ओर बढ़ते हुए चीन के कदम

संजीव कुमार भूकेश(रिसर्च स्कॉलर, एनआईटी – भोपाल, मध्य प्रदेश) अभी हाल ही में भारत सरकार ने अपनी एफडीआई नीति में कुछ बदलाव किए हैं। नए

कोरोना लॉकडाउन भाग 2.0, प्राइवेट सेक्टर्स एवं उद्योगपति आगे आए – हाथ बढ़ाएं!

संजीव कुमार भूकेश, रिसर्च स्कॉलर, एनआईटी भोपाल । अभी तक पूरे विश्व में लगभग 2000000 संक्रमित पाए गए हैं । 124000 मौतें हो चुकी हैं।

लेख – क्या वाकई इंसान बार बार बीमार होता है?

सभी अस्पतालों की OPD बन्द है, आपातकालीन वॉर्ड में कोई भीड़ नही है। कोरोना बाधित मरीजों के अलावा कोई नए मरीज नही आ रहे हैं।

MP : अब है शिवराज की अग्नि परीक्षा

विजया पाठकशिवराज जी वन मैन आर्मी की तरह कोरोना जैसी महामारी से लड़ रहे हैंl लेकिन प्रदेश में कोरोनावायरस की संख्या बढ़ती है और स्थिति

लोक डाउन से सुधरा देश का पर्यावरण प्रदूषण,माह में कम से कम 2 दिन हो लॉक डाउन

विजया पाठक25 मार्च 2020 संपूर्ण देश में लॉकडाउन के चलते देश में उद्योग कारखाने वाहन बंद है हाईवे सड़के सुनसान है एक तरफ लॉकडाउन सभी

कोरोना के दौर में खेतिहर मजदूर की महत्ता

लेखक – संजीव कुमार भुकेश रिसर्च स्कॉलर, एनआईटी भोपाल इस वक्त पूरी दुनिया Covid- 19 महामारी का सामना कर रही है विकसित, विकासशील और गरीब

कोरोना वायरस के लोगों के मन में तमाम प्रश्न, जाने क्या है..

1):-. क्या कोरोना वायरस को ख़त्म किया जा सकता है?उत्तर:-नहीं! कोरोना वायरस एक निर्जीव कण है जिस पर चर्बी की सुरक्षा-परत चढ़ी हुई होती है।

महाराजगंज:परतवाल ब्लॉक के हरपुर तिवारी गाव के अंदर जाने वाले रोड पर अभी भी लकड़ी का जर्जर पोल लोगो पे खतरा बना है

चीफ व्यूरो DG न्यूज़ अब्दुल लतीफ

“प्रकाश” का विरोध तो केवल “अंधकार” ही कर सकता है

 गोपाल सोनी। देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का राष्ट्र के नागरिकों के लिये संबोधन आता है उसमें प्रधानमंत्री के द्वारा राष्ट्र के सभी नागरिकों से

कभी-कभी छुप जाना भी सबसे बडा़ युद्ध कौशल होता है – रामायण

रामायण में एक पात्र है वानरराज बालि।बहुत ही बलवान और लगभग अजेय।उसकी सबसे बडी़ ताकत जानते हैं क्या थी?जो भी उसके सामने आता या उससे

संपूर्ण परिवार – एकांत वास – आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज द्वारा लिखित महाकाव्य “मूक माटी”

” तुम भीतर जाओ, तुमभी – तरजाओ ” वर्तमान के धरती के देवता,आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज जी के द्वारा लिखित महाकाव्य “मूक माटी ”

कवि हरिवंश राय बच्चन जी की प्रेरणादायक कविता

शत्रु ये अदृश्य है विनाश इसका लक्ष्य है कर न भूल, तू जरा भी ना फिसलमत निकल, मत निकल, मत निकल हिला रखा है विश्व

मध्यम वर्ग की भी सहायता करे शिव “सरकार”

कोरोना के चलते केंद्र सरकार और शिव सरकार ने गरीब (किसान और मज़दुर) वर्ग की तो आर्थिक सहायता करने की घोषणा कर दी हैं लेकिन

कोरोना के लिए जितने पैसे बाकी सुपरस्टार्स ने दिए उससे ज़्यादा अक्षय कुमार ने अकेले दे दिया

कोरोना के लिए जितने पैसे बाकी सुपरस्टार्स ने दिए उससे ज़्यादा अक्षय कुमार ने अकेले दे दिया कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की आर्थिक तौर

संवेदना की एक इबारत हैं गिरीश शाह

-ः ललित गर्ग:-हमारे जीवन के तीन महत्वपूर्ण पक्ष है- सत्ता, सम्पदा एवं सेवा। ये तीनों ही बड़ी शक्तियां हैं। सत्ता के पास दंड की शक्ति

भयभीत होकर कोरोना से नहीं लड़ सकते

-ः ललित गर्ग :-इस बात में बड़ी सचाई है कि सबसे बुरा वह रोग होता है, जो आपको भीतर तक भयभीत एवं असुरक्षित कर देता

सिंधिया ने छोड़ी कांग्रेस, प्रदेश में कांग्रेस का भविष्य खत्म, अहंकार पर स्वाभिमान की जीत

विजया पाठकतमाम प्रयासों के बाद आखिरकार कांग्रेस के कद्दावर नेता रहे ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस से तौबा कर ली। अब सिंधिया भाजपा के हो गए

जीरो बजट खेती के लिये आचार्य देवव्रत के प्रयत्न

-ः ललित गर्ग :- विश्व के अन्य देशों की भांति भारत के लोग भी पिछले कई सालों से पाश्चात्य अंधानुकरण के चलते न केवल अपने

सरकार किस स्थिति में गिर सकती है?

–अनिल मालवीय, अध्यक्ष, समाजसेवी अधिमान्य पत्रकार महासंघ मध्यप्रदेश सरकार के 22 विधायकों के इस्तीफे से कमलनाथ सरकार अपने आप नहीं गिरेगी। कमलनाथ खुद इस्तीफा दें

यस बैंक का नो बैंक बन जाना!

-ः ललित गर्ग :- निजी क्षेत्र के ‘यस बैंक’ का कंगाली की हालत में पहुंचना एवं इस सन्दर्भ में सरकार  द्वारा उठाये गये कदम दोंनो

नारी शक्ति है फिर शोषण क्यों?

-ललित गर्ग- बात भारतीय या अभारतीय नारी की नहीं, बल्कि उसके प्रति दृष्टिकोण की है। आवश्यकता इस दृष्टिकोण को बदलने की है, जरूरत सम्पूर्ण विश्व

शरीर ही नहीं, चेतना का उत्सव है होली

-ललित गर्ग –होली धार्मिक ही नहीं बल्कि सांस्कृतिक दृष्टि से विशेष त्यौहार है, एक तरह से देखा जाए तो यह उत्सव प्रसन्नता को मिल-बांटने का

कमलनाथ सरकार में ईमानदार अफसर बर्दाश्त नहींईमानदार अफसरों से डर गई सरकार?

विजया पाठकपिछले दिनों जनसंख्या नियंत्रण को लेकर कमलनाथ सरकार ने अजीबो-गरीब फरमान जारी किया था। सीएम कमलनाथ ने अफसरों से कहा है कि वो कम

कोई किसी की भी नहीं सुन रहा है, यही है असली कांग्रेस : गोपाल भार्गव

अब सब नेताओं की पीड़ाएं बाहर आ रही हैं, प्रदेश में बना हुआ है अराजकता का माहौल भोपाल। मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ अपने मंत्रियों और

लेखिका संतोष का सम्मान

भोपाल। राजधानी भोपाल की लेखिका संतोष श्रीवास्तव को लेखक बाबू मावली प्रसाद स्मृति साहित्य सम्मान प्रदान किया गया। अखिल भारतीय कायस्थ महासभा छत्तीसगढ़ साहित्य प्रकोष्ठ

महिला शिक्षक का मुंडन- बड़ी बात है कमलनाथजीशिक्षा व्यवस्था पर कमलनाथ का कुठाराघात

विजया पाठकभारतीय समाज और संस्कृति में महिलाओं का मुंडन बेहद दुखद और मार्मिक समझा जाता है लेकिन अगर यही महिलाएं अपना मुंडन सरकार की वादाखिलाफी

भाजपा को प्रदेश में सत्ता में आना है तो नए प्रदेश अध्यक्ष ब्रह्मदत्त शर्मा को राष्ट्रवाद और समरसता के रंगों से होली खेलना होगी

दिव्य चिंतन हरीश मिश्र मध्य प्रदेश में सत्ता गंवा बैठी भाजपा चिंतन में है और संघ मंथन में। प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान एक सर्वमान्य

सिंधिया की नसीहत, कमलनाथ की फजीहत

विजया पाठकप्रदेश कांग्रेस में गुटबाजी के चलते उसकी मुश्किलें कम होती दिखाई नहीं दे रही हैं। पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने सोमवार को ग्वालियर

स्वयं से रूबरू होने का लक्ष्य बनाएं

-ललित गर्ग -सफल एवं सार्थक जीवन के लिये व्यक्ति और समाज दोनांे अपना विशेष अर्थ रखते हैं। व्यक्ति समाज से जुड़कर जीता है, इसलिए समाज

केजरीवाल की नयी राजनीतिक ताकत का सबब

-ललित गर्ग – अरविन्द केजरीवाल दिल्ली के तीसरी बार शानदार एवं करिश्माई जीत के बाद मुख्यमंत्री बनने जा रहे हैं। वे सौम्य, चतुर व करिश्माई

पोस्ट ऑफिस के साथ जुड़कर शुरू करें स्वरोजगार

आज के समय में नौकरियों की कमी के कारण हर युवा अपना बिजनेस करने के बारे में सोचता है। अगर आप भी बिजनेस करना चाहते

श्रीराम मन्दिर- नयी रोशनी का अवतरण

-ः ललित गर्ग:-मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम जनमानस की व्यापक आस्थाओं के कण-कण में विद्यमान हैं। श्रीराम किन्हीं जाति-वर्ग और धर्म विशेष से ही नहीं जुड़े हैं,

राजनाथ सिंह की बढ़ती सक्रियता का सबब

– ललित गर्ग- रक्षामंत्री राजनाथ सिंह इनदिनों एक अलग तरह की सक्रियता को लेकर चर्चा में है। उनका राजनीतिक प्रभुत्व एवं कद में उछाल भले

 -ललित गर्ग-गंगा की सफाई, उसे प्रदूषण मुक्त करने एवं गंगा के माध्यम से आर्थिक विकास, धार्मिक आस्था एवं पर्यटन की संभावनाओं को तलाशने की दृष्टि

व्यक्तित्व को उन्नत बनाने के आधारसूत्र-

ललित गर्ग-हर व्यक्ति में अपनी कोई-न-कोई विशेषता होती है। इन्हीं विशेषताओं से व्यक्तित्व बनता है और किसी भी व्यक्ति का वास्तविक परिचय उसका व्यक्तित्व ही

घरेलू महिलाओं के श्रम का आर्थिक मूल्यांकन

ललित गर्ग इनदिनों दावोस में चल रहे वल्र्ड इकनॉमिक फोरम में ऑक्सफैम ने अपनी एक रिपोर्ट ‘टाइम टू केयर’ प्रस्तुत की है, जिसमें उसने घरेलू

ललित गर्ग ने अपनी कृति ‘जीवन का कल्पवृक्ष’ राज्यपाल को भेंट की

हिंदी भाषा के प्रख्यात लेखक, साहित्यकार, पत्रकार एवं समाजसेवी श्री ललित गर्ग ने राजभवन, जयपुर में महामहिम राज्यपाल श्री कलराज मिश्र को अपनी कृति ‘जीवन

NPR की प्रक्रिया को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती, SC ने केंद्र सरकार से मांगा जवाब

नई दिल्ली. नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर (NPR) की पूरी प्रक्रिया को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई है. कोर्ट ने इस मामले में केंद्र सरकार से जवाब

आज दशहरे पर किस रावण को चलाओगे

संपादकीय। आज दशहरा मनाओगे, किस रावण को जलाओगे जिसने अपनी कठिन तपस्या से भगवान से अमरत्व का वरदान पाया। जिसने 10 बार अपना शीश काटकर

मौसम विभाग ने बताई मानसून के विदाई की तारीख, तब तक होगी भारी बारिश

– अनिल मालवीय, ब्यूरो चीफ मध्य प्रदेश भोपाल। मध्यप्रदेश में बारिश का दौर ( HEAVY RAIN ) खत्म नहीं होने से लोग अब परेशान होने

शक्ति की आराधना के पर्व नवरात्रि की शुरुआत 29 सितंबर रविवार से

नौ दिनी शक्ति की आराधना के पर्व नवरात्रि की शुरुआत 29 सितंबर रविवार से होगी। इस बार शक्ति का आगमन वाहन समृद्धि और बारिश का

हिन्‍दी से जुड़ी 8 दिलचस्प बातें, जिन्हें पढ़कर आपको गर्व होगा

👉🏻1⃣. हिन्‍दी विश्‍व में चौथी ऐसी भाषा है जिसे सबसे ज्‍यादा लोग बोलते हैं. ताजा आंकड़ों के मुताबिक वर्तमान में भारत में 43.63 फीसदी लोग

नए मोटर व्हीकल एक्ट से मेरा देश परेशान

– ललित गर्ग – नया बना मोटर व्हीकल एक्ट देश को राहत पहुंचाने की बजाय परेशानी का सबब बन रहा है। अनेकों विरोधाभासों एवं विसंगतियों

पढ़ें आज का जीवन सन्देश

✍🏻 अनिल मालवीय हमारा जीवन बहुत खूबसूरत है, दुनिया की इस खूबसूरती को देखने के लिए हमें सकारात्मक होने की जरूरत है। यदि हम सकारात्मक