समृद्ध मध्यप्रदेश, एक विकसित मध्यप्रदेश और एक आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के निर्माण के लिए हमें अपना सर्वश्रेष्ठ देना होगा

आजादी के अमृत महोत्सव के शुभारम्भ अवसर पर आइए, हम सब मिलकर प्रदेश के मस्तक पर जन-भागीदारी के कुमकुम और सुशासन के अक्षत से आत्म-निर्भरता का तिलक करें। इसी संकल्प के साथ स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ ।

हमें यह स्मरण रखना होगा कि केवल देश की जिम्मेदारी हमें आगे ले जाने की नहीं है, बल्कि हमारी जिम्मेदारी भी देश को आगे ले जाने की है। माननीय प्रधानमंत्रीजी द्वारा किया गया “राष्ट्र प्रथम-सदैव प्रथम” का आह्वान हम सबके लिए यह संदेश है कि एक समृद्ध मध्यप्रदेश, एक विकसित मध्यप्रदेश और एक आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के निर्माण के लिए हमें अपना सर्वश्रेष्ठ देना होगा। एक प्रदेश तभी गढ़ा जाता है, जब हर नागरिक अपने व्यक्तिगत लाभ से परे जाकर अपनी पूरी क्षमता के साथ, जहाँ भी वह कार्य कर रहा है उसे पूरी ऊर्जा, पूरी निष्ठा, पूरी गुणवत्ता और पूरी ईमानदारी के साथ करें : CM

जनता की जिन्दगी को आसान बनाना, जनता के कष्टों को कम करना और असमर्थ को समर्थ बनाना सरकार की प्राथमिकता है। प्रदेश का हर नागरिक विकास की मुख्य-धारा में शामिल हो, उसकी बुनियादी आवश्यकताएँ पूरी हों, उसे आगे बढ़ने के अवसर मिलें, सरकारी सेवाओं और सरकारी योजनाओं का लाभ मिले, सबके लिए पढ़ाई, दवाई और कमाई की व्यवस्था हो, हर नागरिक भयमुक्‍त, अपराधमुक्त, चिंतामुक्त वातावरण में जिए, लोगों के जीवन की गरिमा, गुणवत्ता और गौरव निरंतर बढ़े – यही स्वतंत्रता का असली मतलब है।

पिछले 16 माह में हम अनेक चुनौतियों से जूझे हैं। कोरोना की चुनौती, आर्थिक संकट की चुनौती, बाढ़ और फसलों के नुकसान की चुनौती। संकट बड़ा था, लेकिन हमारा हौसला उससे भी बड़ा था और इसी के बलबूते हमने हर मुश्किल को मुमकिन बनाने में सफलता प्राप्त की है : CM

एक विकसित, आत्म-निर्भर, समृद्ध और खुशहाल मध्यप्रदेश की स्थापना का मूल आधार समावेशी समाज ओर समावेशी विकास में निहित है। माननीय प्रधानमंत्रीजी ने “सबका साथ-सबका विकास और सबका विश्वास”- का मंत्र दिया है। इस दिशा में आगे बढ़ते हुए हमें गरीब, पिछड़े, वंचित, बेसहारा, शोषित और कमज़ोर वर्ग की ताकत बनना है : CM

मुख्यमंत्री कोविड-19 विशेष अनुग्रह योजना लागू कर पात्र दिवंगत शासकीय सेवायुक्‍तों के परिजनों को 188 प्रकरणों में 6 करोड़ 81 लाख रुपए की अनुग्रह सहायता दी जा चुकी है। मुख्यमंत्री कोविड-19 अनुकंपा नियुक्ति योजना में अब तक दिवंगत शासकीय सेवायुक्तों के 441 पात्र परिजनों को विभिन्‍न पदों पर अनुकंपा नियुक्ति दी गई है। राज्य सरकार सरकारी कर्मियों को उनका जायज हक प्रदान करने के लिए सदैव प्रतिबद्ध है : CM

अधिकारी एवं कर्मचारी सच्चे अर्थों में कर्मयोगी हैं और उनका कल्याण हमारी प्राथमिकता है। शासकीय सेवकों को सातवें वेतनमान की अंतिम किश्त का भुगतान किया गया है। राष्ट्रीय पेंशन योजना में शासकीय अंशदान राशि को 10 से बढ़ाकर 14 प्रतिशत किया गया है : CM

सूचना प्रौद्योगिकी के उपयोग में मध्य प्रदेश, देश में अग्रणी है। इंदौर, भोपाल, ग्वालियर और जबलपुर को आईटी हब के रूप में विकसित किया गया है। प्रदेश में स्थापित किए गए आई.टी. पार्कों में संचालित हो रही इकाइयों के माध्यम से लगभग 54 हजार लोगों को रोज़गार मिल रहा है : CM

Leave a Reply