दिल्ली विश्वविद्यालय के वैश्विक अध्ययन केंद्र द्वारा समीक्षा 2023: कर्नाटक विधान सभा चुनाव सर्वेक्षण की प्रथम कार्यशाला का आयोजन

दिल्ली विश्वविद्यालय के वैश्विक अध्ययन केंद्र द्वारा समीक्षा 2023: कर्नाटक विधान सभा चुनाव सर्वेक्षण की प्रथम कार्यशाला का आयोजन

दिल्ली: चंद्रकांत सी पूजारी
दिल्ली विश्वविद्यालय के वैश्विक अध्ययन केंद्र द्वारा कर्नाटक विधान सभा चुनाव सर्वेक्षण की प्रथम कार्यशाला का आयोजन 28 अप्रैल 2023 को किया गया। कार्यशाला में केंद्र के निदेशक प्रो॰ सुनील कुमार चौधरी द्वारा इस कार्यशाला की अध्यक्षता की गई। प्रो॰ सुनील कुमार चौधरी के अनुसार यह पहली बार है जब दिल्ली विश्वविद्यालय का कोई केंद्र दक्षिण भारत की ओर जा रहा है। इससे पहले केंद्र उत्तर प्रदेश, पंजाब, बिहार, दिल्ली, गुजरात, हिमाचल प्रदेश व हालही में त्रिपुरा, मेघालय और नागालैंड का चुनाव सर्वेक्षण कर चुका है। समीक्षा की इस सर्वेक्षण कड़ी में यह 10वा चुनाव सर्वेक्षण है, जो केंद्र द्वारा किया जा रहा है। केंद्र के निदेशक प्रो॰ सुनील के चौधरी के अनुसार इन सभी भारतीय राज्यों के विधान सभा चुनाव सर्वेक्षण उन राज्यों के लिए तो आवश्यक है ही, किंतु 2024 के राष्ट्रीय चुनावों के लिए भी यह बहुत महत्वपूर्ण होने वाला है।

केंद्र को दिल्ली विश्विद्यालय के कुलपति प्रो॰ योगेश सिंह द्वारा औपचारिक रूप से अनुमति प्रदान कर दी गई है। इस मिशन में दिल्ली विश्वविद्यालय के विभिन्न महाविद्यालयों के बी.ए और एम.ए के छात्रों, अध्यापकों व एम फ़िल और पीएचडी के शोधार्थियों तथा कर्नाटक के महाविद्यालयों के छात्र, अध्यापक व शोधार्थी सम्मिलित होंगे। यह सर्वेक्षण ऑनलाइन व ऑफलाइन दोनों ही प्रकार से किया जायेगा। ऑफलाइन सर्वेक्षण की टीम 1 मई को दिल्ली से कर्नाटक के विभिन्न ज़िलों में पहुँचेंगे। केंद्र की टीम कर्नाटक के 4 फेज में होने वाले चुनावों में सभी 31 जिलों और 224 सीटों का सर्वेक्षण करेगी।

केंद्र पहली बार दक्षिण भारत में सर्वक्षण के लिए जा रहा है, जो केंद्र के छात्रों और शोधार्थियों के लिए एक चुनौतीपूर्ण कार्य अवश्य होगा, जो केंद्र के लिए नए अवसर का सृजन करता है।

,

Leave a Reply