पर्यटन बोर्ड को मिला गोल्ड स्कॉच अवार्ड


महिलाओं हेतु सुरक्षित पर्यटन स्थल कार्यक्रम और ड्राइव इन वैक्सीनेशन सेंटर के लिए मिला अवार्ड

पर्यटन विभाग सामाजिक उत्तरदायित्व की भूमिका निर्वहन करता रहेगा : प्रमुख सचिव श्री शुक्ला

प्रमुख सचिव पर्यटन और टूरिज्म बोर्ड के प्रबंध निदेशक श्री शिव शेखर शुक्ला ने कहा कि मध्य प्रदेश टूरिज्म बोर्ड के महिला सुरक्षा और कोविड-19 वैक्सीनेशन अभियान में किये गए नवाचार को राष्ट्रीय स्तर पर सराहा गया है। यह पर्यटन विभाग के लिए सामाजिक जागरूकता की दिशा में नित नए प्रयोग करने की प्रेरणा बनेगा। यह बात प्रमुख सचिव श्री शुक्ला ने मध्यप्रदेश में महिलाओं हेतु सुरक्षित पर्यटन स्थल कार्यक्रम और ड्राइव इन वैक्सीनशन सेंटर के लिए गोल्ड स्कॉच अवार्ड मिलने पर कही।

नई दिल्ली में आयोजित ऑनलाइन 75वें स्कॉच समिट में शनिवार को पर्यटन बोर्ड को टूरिज्म एंड कल्चर सेगमेंट में बेस्ट इनोवेटिव प्रोजेक्ट की श्रेणी में यह पुरुस्कार प्रदान किया गया। श्री शुक्ला ने गोल्ड स्कॉच अवॉर्ड मिलने पर पर्यटन विभाग के सभी अधिकारी-कर्मचारियों को बधाई एवं भविष्य में इसी तरह कार्य करने के लिए शुभकामनाएँ दी है। उन्होंने कहा पर्यटन विभाग इसी तरह सामाजिक उत्तरदायित्व की भूमिका निर्वहन करता रहेगा।

महिलाओं हेतु सुरक्षित पर्यटन स्थल का विकास

श्री शुक्ला ने बताया कि प्रदेश में पर्यटन स्थलों को महिलाओं हेतु सुरक्षित पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने के लिए “निर्भया योजना” में केन्द्रीय महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा स्वीकृति प्रदान की गई है। परियोजना का संचालन मध्यप्रदेश टूरिज्म बोर्ड द्वारा किया जा रहा है। परियोजना में चरणबद्ध तरीके से आगामी 3 वर्षो में 50 पर्यटन स्थलों को 20 क्लस्टरो के रूप में विभाजित कर कार्य किया जाएगा। इसमें संबंधित हितधारकों के लिए प्रशिक्षण क्षमता निर्माण, महिलाओं की सुरक्षा के प्रति जागरूकता सृजन, आईईसी, आत्मरक्षा प्रशिक्षण, पर्यटन स्थलों का सुरक्षा की दृष्टि से अंकेक्षण और अधिक से अधिक कार्यशील महिलाओं की उपस्थिति सुनिश्चित कर महिलाओं के लिए अनुकूल वातावरण निर्माण किया जाएगा। इसमें महिलाओं का कौशल संवर्धन और क्षमता निर्माण, महिला पर्यटकों को पर्यटन स्थलों के विषय में आवश्यक जानकारियाँ एवं सूचनाएँ उपलब्ध कराना और सहयोग प्रदान करना आदि गतिविधियां सम्मिलित है। इससे स्थानीय समुदाय के साथ महिला पर्यटकों के प्रति सुरक्षा व्यवस्था में समुदाय की सहभागिता बढ़ेगी। पर्यटक आवागमन से स्थानीय युवाओं, समुदाय, महिला स्व सहायता समूह को सीधे लाभ होगा और वे पर्यटन स्थलों की सुरक्षा और विकास के प्रति जिम्मेदार बनेंगे।

ड्राइव इन वैक्सीनेशन सेंटर

प्रमुख सचिव श्री शुक्ला ने बताया कि कोविड-19 महामारी के दौरान आमजन को वैक्सीनेशन के प्रति जागरूक करने और सुलभ, सुरक्षित और आरामदायक सुविधा देने की दिशा में नवाचार करते हुए भोपाल स्थित ड्राइव इन सिनेमा में ड्राइव इन वैक्सीनेशन सेंटर की शुरुआत की गई थी। स्वास्थ्य विभाग और यूनिसेफ के सहयोग से 1 मई 2021 से होटल लेक व्यू परिसर में यह वैक्सीनेशन अभियान चलाया गया था। इसमें लोग घरों से अपनी कार में बैठकर यहाँ आये और ऑनलाइन बुकिंग में निर्धारित स्लॉट में उनका कार में ही वैक्सीनशन किया गया। यह अपनी तरह का एक अनूठा प्रयोग था, जिसे राष्ट्रीय स्तर पर प्रशंसा मिली थी।

स्कॉच गोल्ड अवॉर्ड

स्कॉच अवार्ड की शुरुआत वर्ष 2003 में की गई थी। यह पुरस्कार भारत को बेहतर राष्ट्र बनाने के लिये अतिरिक्त प्रयास करने वाले व्यक्तियों, परियोजनाओं तथा संस्थानों को प्रदान किया जाता है। यह किसी स्वतंत्र संगठन (स्कॉच फाउंडेशन) द्वारा प्रदान किया जाने वाला देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान है। यह पुरस्कार डिजिटल, वित्तीय एवं सामाजिक समावेशन के क्षेत्र में किये गए सर्वश्रेष्ठ प्रयासों के लिये प्रदान किया जाता है।

Leave a Reply