कोविड के गिरते ग्राफ को देखकर मास्क लगाना ना छोड़े- सारिका घारू

DG NEWS BHOPAL

संवाददाता सुरेश मालवीय 8871288482

भोपाल नर्मदापुरम । पीछे की तरफ देखकर समझे, लेकिन जियें आगे की तरफ। मास्क को न भूलें मार्च अभी आया नहीं। सीख 2021 से और तैयारी 2022 की। कोविड के गिरते ग्राफ को देखकर न गिरा दें मास्क, क्योंकि अभी तो आना है मार्च- यह कहना है विज्ञान प्रचारक “सारिका घारू” का एवं आगे बताया कि अभी मास्क को इतिहास बनाने का नहीं आया है समय सारिका घारू जिला पंचायत सीईओ मनोज सरियाम के मार्गदर्शन में कार्यक्रम का आयोजन। अतीत की गलतियों और वर्तमान की चुनौतियों का विश्लेषण करके ही सुरक्षित भविष्य का निर्धारण हो सकता है। कोविड से बचाव के लिये इतिहास के बारे में कहा जाने वाला यह तथ्य सटीक सिद्ध हो सकता है। यह बात नेशनल अवार्ड प्राप्त विज्ञान प्रसारक सारिका घारू ने कोविड जागरूकता कार्यक्रम में कही। सारिका ने बताया कि कार्यक्रम का आयोजन जिला पंचायत सीईओ मनोज सरियाम के मार्गदर्शन में किया गया। सारिका ने चार्ट की मदद से बताया कि अगर हम फरवरी 2021 के समाचार पत्रों की हैडलाईन पर नजर डालें तो उस समय कोविड की विदाई के संकेत देने वाले सुखद समाचार थे। फरवरी समाप्त होते-होते विशेषज्ञों की चेतावनी आने लगी। मार्च के पहले सप्ताह में नाईट कर्फ्यू की तैयारी तो दूसरे सप्ताह में क्वारेंटाईन करने की बात कही जाने लगी। तीसरे सप्ताह में सिनेमाघर बंद हुये तो अंतिम सप्ताह में आईसीयू बेड फुल होने के समाचार थे। एवम आगे कहा कि चूंकि 2022 में अधिकांश आबादी को वैक्सीन की दोनो डोज लग चुकी है. लेकिन वायरस के नये म्यूटेंट के बारे में कोई सटीक भविष्यवाणी नहीं की जा सकती है। भारतीय मौसम की परिस्थितियों में वायरस के व्यवहार को समझने के लिये मार्च का सावधानी से इंतजार करना चाहिये। इसलिये 2021 से समझें कोविड के व्यवहार को और मास्क और टीके के साथ तैयारी करें मार्च 2022 की।

,

About सुरेश मालवीय इछावर DG NEWS

View all posts by सुरेश मालवीय इछावर DG NEWS →

Leave a Reply