मंडला जिले की ग्राम पंचायत मोचा में “कोदो-कुटकी तिहार”



केन्द्रीय मंत्री श्री Faggan Singh Kulaste एवं श्री Prahlad Singh Patel ने किया स्थानीय उत्पाद मेले का शुभारंभ

’एक जिला-एक उत्पाद’ योजना में मंडला जिले से चिन्हित कोदो-कुटकी के उत्पाद तथा गोंडी पेंटिंग एवं स्थानीय उत्पादों के प्रदर्शन पर आधारित ’’कोदो-कुटकी तिहार’’ का कान्हा क्षेत्र के मोचा पंचायत भवन परिसर में शुभारंभ किया गया। 10 से 17 अक्टूबर तक चलने वाले इस उत्पाद मेले का शुभारंभ केन्द्रीय इस्पात एवं ग्रामीण विकास राज्य मंत्री श्री फग्गन सिंह कुलस्ते, केन्द्रीय खाद्य प्र-संस्करण एवं जल शक्ति राज्य मंत्री श्री प्रहलाद सिंह पटेल ने किया।

कोदो-कुटकी तिहार के शुभारंभ के अवसर पर केन्द्रीय खाद्य प्र-संस्करण एवं जल शक्ति राज्य मंत्री श्री प्रहलाद सिंह पटेल ने कहा कि स्थानीय उत्पादों को बढ़ावा देने एवं बाजार उपलब्ध कराने के उद्देश्य से कोदो-कुटकी तिहार जैसे कार्यक्रम महत्वपूर्ण हैं। उन्होंने कहा कि हमारे पूर्वजों की खान-पान एवं जीवन शैली पर्यावरण पर आधारित एवं प्रदूषण रहित रही है। हम सभी को स्वस्थ जीवन के लिए उनकी खान-पान एवं जीवन शैली को अपनाना चाहिए। श्री पटेल ने कहा कि पूर्वजों द्वारा उपयोग किए जाने वाले खाद्यान्न कोदो-कुटकी और मोटे अनाजों की आज बाजार में भरपूर मांग है। पूरी दुनिया भारत की जीवन शैली एवं खाद्यान्नों की तरफ लौट रही है। हम सभी को प्राचीन परंपराओं को संजोना एवं बचाए रखना चाहिए। ’’कोदो-कुटकी तिहार’’ इस ओर एक सराहनीय कदम है। श्री पटेल ने केन्द्र सरकार द्वारा आम आदमी के जीवन को बेहतर करने के लिए किए जा रहे योजनागत प्रयासों की विस्तृत जानकारी दी गई। उन्होंने स्वच्छ भारत मिशन, जल-जीवन मिशन, बिजली, प्रधानमंत्री आवास तथा अन्य जन-कल्याणकारी योजनाओं के बारे में भी चर्चा की।

कोदो-कुटकी उत्पादों की मिलेगी अच्छी कीमत

केन्द्रीय राज्य मंत्री श्री प्रहलाद सिंह पटेल ने कहा कि वर्ष 2023 को मोटे अनाज के वर्ष के रूप में मनाया जा रहा है। संबंधित विभाग किसानों को कोदो-कुटकी एवं मोटे अनाजों के उत्पादन के लिए तैयार करें। साथ ही किसानों को इन अनाजों की प्रोसेसिंग से लेकर मार्केटिंग तक की ट्रेनिंग दें। आगामी वर्षों में कोदो-कुटकी एवं मोटे अनाजों की अच्छी कीमत मिलने की भरपूर संभावना है। इसके लिए किसानों को अभी से तैयार करने की आवश्यकता है। श्री पटेल ने कहा कि परंपरागत अनाजों को अपनाते हुए इनसे रोजगार सृजन के लिए संभावना भी तलाशें।

स्थानीय उत्पादों की प्रोसेसिंग एवं मार्केटिंग की व्यवस्था कराएँ

केन्द्रीय इस्पात राज्यमंत्री श्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने कहा कि कोदो-कुटकी तिहार के माध्यम से मंडला जिले के स्थानीय उत्पादों एवं व्यंजनों के बारे में पर्यटकों को बताया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कोदो-कुटकी सहित स्थानीय उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए स्व-सहायता समूहों को मजबूत करते हुए उनके माध्यम से प्रोसेसिंग एवं मार्केटिंग की व्यवस्था कराना होगा। स्थानीय उत्पादों को ज्यादा से ज्यादा प्रमोट करना होगा। श्री कुलस्ते ने कोदो-कुटकी तिहार में महुए के लड्डू एवं कोदो-कुटकी के उत्पादों की सराहना की। उन्होंने कहा कि संस्कृति को संरक्षित करते हुए इसके माध्यम से आय के संसाधनों को बढ़ाने के लिए विशेष कार्य करना होगा। राज्य मंत्री श्री कुलस्ते ने खाद्य प्र-संस्करण विभाग द्वारा दी जा रही सब्सिडी के बारे में जानकारी दी।

राज्यसभा सांसद श्रीमती संपतिया उईके ने कहा कि ’’एक जिला-एक उत्पाद’’ के तहत् मंडला जिले से चिन्हित कोदो-कुटकी के उत्पाद, गोंडी पेंटिंग एवं हर्बल पेय के प्रदर्शन एवं आमजनों को इसकी जानकारी देने के लिए ’’कोदो-कुटकी तिहार’’ का आयोजन जिला प्रशासन का अनूठा प्रयास है। उन्होंने कोदो-कुटकी में विद्यमान पोष्टिकता के बारे में चर्चा की। साथ ही कोदो-कुटकी के माध्यम से कुपोषण को दूर करने की संभावना के बारे में भी बताया।

विधायक बिछिया श्री नारायण पट्टा ने कहा कि जनजातियों के जीवन का अभिन्न अंग रहे कोदो-कुटकी के उत्पादन का प्रदर्शन एवं आमजनों को इसकी पौष्टिकता के बारे में जानकारी देने का यह सराहनीय प्रयास है। उन्होंने कोदो-कुटकी तिहार में उपलब्ध कराए जाने वाले स्थानीय व्यंजनों एवं उत्पादों को जनजातीय संस्कृति की पहचान बताया। कार्यक्रम में जन-प्रतिनिधि, अधिकारी और ग्रामीणजन उपस्थित रहे।

Leave a Reply