मधुसूदनगढ़ | मध्य प्रदेश वक्फ बोर्ड भोपाल ने गुना कलेक्टर को वक्फ जामा मस्जिद मक्सूदनगढ़ की 6 दुकानों पर से अवैध कब्जे को हटाने के दिए आदेश | गुना । मध्य प्रदेश वक्फ बोर्ड भोपाल ने गुना कलेक्टर को जामा मस्जिद मधुसूदनगढ़ की 6 दुकानों पर से अवैध कब्जे को हटाने के आदेश दिया है, जिसकी शिकायत अंजुमन इस्लाम वक्फ कमेटी मधुसूदनगढ़ अध्यक्ष (सदर) टोनी शाह द्वारा मध्य प्रदेश वक्फ बोर्ड भोपाल में की गई थी, जिसकी जांच मध्यप्रदेश वक्फ बोर्ड द्वारा की गई, और जांच मैं वक्फ जमा मस्जिद मधुसूदनगढ़ की 6 दुकानों पर हाजी गुल हसन, अल्ताफ गोरी, जफर उल्लाह खान, वहीद खान, कयूम खान, मुस्ताक खान,का अवैध कब्जा पाया गया है, जांच के बाद मध्य प्रदेश वक्फ बोर्ड द्वारा मधुसूदनगढ़ वक्फ जमा मस्जिद की 6 दुकानों पर से अवैध कब्जे को हटाने के आदेश कलेक्टर को दे दिए गए हैं, साथ ही प्रति कार्रवाई के लिए गुना एसपी मधुसूदनगढ़ तहसीलदार एवं थाना प्रभारी को भी भेजी गई है ,मध्य प्रदेश वक्फ बोर्ड नियम नंबर 6 में स्पष्ट लिखा हुआ है कि वक्फ बोर्ड की दुकानों को सार्वजनिक नीलामी बोली से किराए पर दे, मध्य प्रदेश वक्फ बोर्ड के नियम नंबर 6 में स्पष्ट लिखा हुआ है,आज की मार्केट रेट से 11 महीने का किराया निर्धारित करें, पहले मधुसूदनगढ़ ग्राम पंचायत थी अब मधुसूदनगढ़ नगर परिषद हो गई है,तो किराया भी नगर परिषद की मार्केट रेट पर सार्वजनिक नीलामी बोली के आधार पर निर्धारित होगा, पर अवैध कब्जे धारक दुकानदारों द्वारा दुकानों पर अवैध कब्जा कर लिया है,और ना ही दुकानदारों द्वारा नगर परिषद मार्केट रेट से किराया दिया जा रहा है, बिना एग्रीमेंट के दुकानदारों से किराया लेना भी गैर कानूनी एवं अपराध की श्रेणी में आता है, दुकाने हर साल की तरह खाली कर सार्वजनिक बोली लगाकर, 11 महीने के लिए किराए पर दी गई थी,जिसकी अवधि 31.08.2021 समाप्त हो चुकी है, और करीब 5 महीनों से दबंग अवैध कब्जे धारक लोगों ने वक्फ जमा मस्जिद की दुकानों पर अवैध कब्जा किया हुआ है, मध्य प्रदेश वक्फ बोर्ड के एग्रीमेंट नियम नंबर 16 में स्पष्ट है कि 11 महीने पूरे होने के बाद उक्त किराएदार को दुकाने खाली कर,कब जा कमेटी को सपोर्ट करना है, ताकि फिर सार्वजनिक दोबारा दुकानों को नीलामी बोली के आधार पर दिया जा सके और मार्केट रेट से किराया निर्धारित किया जा सके, एग्रीमेंट मध्य प्रदेश वक्फ बोर्ड के नियम का है,जो नियम वक्फ बोर्ड द्वारा बनाए गए हैं, और मध्यप्रदेश वक्फ बोर्ड की संपत्ति पर चलते हैं एवं लागू होते हैं, अब एग्रीमेंट की अवधि समाप्त होने के बाद उक्त दबंग दुकानदारों एवं उनके परिवार के लोगों ने बलपूर्वक दादागिरी से वक्फ जमा मस्जिद की दुकानों पर अवैध कब्जा कर लिया है, दबंग दुकानदार अधिकारियों से मिलीभगत कर फर्जी दस्तावेज से मध्य प्रदेश वक्फ बोर्ड की करोड़ों की प्रॉपर्टी हड़पने की फिराक में है, इन दस्तावेजों का ना तो मध्य प्रदेश वक्फ बोर्ड भोपाल में कोई रिकॉर्ड है, और ना ही अंजुमन इस्लाम वक्फ कमेटी के पास इन दस्तावेजों का कोई रिकॉर्ड है सारे दस्तावेज दुकानदारों द्वारा फर्जी तैयार कराए गए हैं,ताकि मध्य प्रदेश वक्फ बोर्ड की करोड़ों की प्रॉपर्टी कीमती दुकानों को हड़प्पा जा सके, जबकि वक्फ जमा मस्जिद की दुकानों का निर्माण समस्त मुस्लिम समाज के चंदे से किया गया था, वक्फ जामा मस्जिद और मस्जिद की दुकान अब मध्य प्रदेश वक्फ बोर्ड के अंतर्गत हैं,मामले की गंभीरता को देखते हुए मध्य प्रदेश वक्फ बोर्ड द्वारा शिकायत की जांच की गई और जांच के बाद वक्फ जमा मस्जिद की 6 दुकानों पर से अवैध कब्जा हटाने के आदेश गुना कलेक्टर को दिए हैं

आरोन से अनिल बुनकर की रिपोर्ट

Leave a Reply