गोटेगांव में माँ नर्मदा मंदिर में चल रही नर्मदा पुराण व्यास जी महाराज सुरेन्द्र शास्त्री के द्वारा

मां नर्मदा मंदिर में नर्मदा पुराण के माध्यम से आज कथा का पंचम दिवस मैं व्यास जी महाराज श्री सुरेंद्र जी शास्त्री द्वारा जो उदयपुरा से पधारे केसरी मुखारविंद से भगवती जगदंबा पतित पावनी मां नर्मदा के महत्व को बताते उन्होंने कहा भगवती मां की सेवा करना है तो उनको स्वच्छ निर्मल रखें केवल मां के दर्शन करें उनकी कृपा प्राप्त करना है वहां पर भजन करें पूजन करें और वहां रात्रि जागरण कर दिव्य साधना कर घाट घाट के दर्शन कर गुरु मंत्र आदि द्वारा मां की साधना करें कथा में बताते हुए कहा पतित पावनी मां रेवा दिव्य शक्ति का भंडार है दिव्य भक्ति का भंडार है मां की गोद सदा बच्चों के लिए दुलार करने के लिए रहती है तांगे कथा में कहा मा रेवा शिव जी के तपस्या से शूलपनेश्वर मैं मां ने अपना एक भक्तों के लिए तपस्या का साधन बताएं मां के दोनों तटों पर सदाशिव का वास रहता है दोनों तटों पर विविध तीर्थों का महत्व बताया आगे कथा में मां सती अनुसुइया देव दनुज यक्ष किन्नर गंधर्व देव ऋषि महर्षि आदि साधना करते हैं और अपने हृदय में मां नर्मदा की मूर्ति शिव के साथ धारण करते हुए मां की सेवा करते हैं आराधना करते कथा में आगे बताया ए रंडी नदी का संगम बड़ा ही पावन जन्म जन्मांतर के पापों को ध्वस्त कर देता मां सती अनुसुइया की परीक्षा लेने ब्रह्मा विष्णु महेश ब्राह्मण का भेस बना कर आएं मां से बोले हे माता केवल एक ही वस्त्र में हमको दान दीजिए

संवादाता – दीपक सराठे
डी जी न्यूज। http://www.dgnews.co.in

Leave a Reply