IIT मद्रास में बोले पीएम मोदी, हर जगह नए भारत को लेकर आशावाद का जिक्र

‘छात्र जहां मर्जी करे वहां काम करें’
मोदी ने छात्रों से कहा, ‘आप जहां मर्जी काम करें, जहां मर्जी रहें, अपनी मातृभूमि की आवश्यकताओं को ध्यान में रखें. सोचें कि आपका काम, नवाचार और अनुसंधान एक साथी भारतीय की मदद कैसे कर सकता है.’ उन्होंने कहा कि यह केवल उनकी सामाजिक जिम्मेदारी नहीं है बल्कि व्यावसायिक समझ भी दिखाती है.

पीएम मोदी ने कहा, ‘क्या आप अपने घरों, कार्यालयों और उद्योगों में उपयोग किए जाने वाले पानी का प्रसंस्करण करने के लिए सबसे अधिक किफायती और अभिनव तरीके खोज सकते हैं ताकि हमारे ताजे पानी की निकासी और उपयोग कम हो जाये.

एक ‘स्टार्टअप’ को विकसित करने की चुनौती
प्रधानमंत्री ने पूछा कि एक समाज के रूप में, देश एकल-उपयोग वाले प्लास्टिक से आगे बढ़ना चाहता है और उसके लिए पर्यावरण अनुकूल स्थानापन्न क्या हो सकता है. उन्होंने कहा, ‘एक ‘स्टार्टअप’ को विकसित करने के लिए बाजार खोजने की अगली चुनौती है. इस चुनौती को पूरा करने के लिए एक स्टार्टअप इंडिया कार्यक्रम बनाया गया है. यह कार्यक्रम बाजार में अपना रास्ता खोजने के लिए नवाचारों की मदद करेगा.’ मोदी ने छात्रों से तंदुरुस्त रहने का अनुरोध करते हुए आप जैसे लोग अपने स्वास्थ्य की अनदेखी नहीं कर सकते है.

Leave a Reply

%d bloggers like this: