अंकुर जायसवाल पर प्रकरण दर्ज कराने के लिए डीआईजी मनीष कपूरिया को दिया ज्ञापन

DG NEWS INDORE

संवाददाता सुरेश मालवीय

इंदौर । पत्रकारिता को ब्लैकमेलिंग का मॉध्यम बनाकर बलाई समाज के प्रमुख मनोज परमार को जानबूझकर मानहानि करने वाले खुलासा फर्स्ट के अंकुर जायसवाल पर आपराधिक प्रकरण दर्ज करने की मांग को लेकर बलाई  समाज का प्रति निधि मंडल आज  डीआईजी से मिला खुद ही फरियादी,खुद ही वकील खुद ही जज बनकर कलम के मॉध्यम से आतंक मचाने वाले छबि खराब करने वाले ब्लैक मेलर पत्रकार अंकुर जायसवाल पर  आपराधिक प्रकरण दर्ज करने की मांग की खुलासा फर्स्ट अखबार के अंकुर जायसवाल द्वारा आये दिन पत्रकारिता को हथियार बनाकर आमजन व वरिष्ठ जनों की छबि खराब करने अवैध वसूली के लिए ब्लेक मेलिंग कर छबि खराब कर पत्रकारिता करने की बजाय खुद ही पुलिस ,खुद ही वकील ,खुद ही जज बनकर आमजन व किसी भी वरिष्ठ जन की छबि, मान मर्यादा के साथ निरन्तर खिलवाड़ किया जा रहा हैं।

इसी कड़ी में दिनांक 7 जून 2021 के खुलासा फर्स्ट में दबे कुचले दलित समाज की आवाज़ उठाने वाले अखिल भारतीय बलाई समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष मनोज परमार को भी ब्लैकमेलिंग का निशाना बनाया।

श्री परमार से अंकुर जायसवाल ने 2 लाख की अवैध रूप से मांग की।।

इस मनमानी का विरोध करने व मनमानी के समक्ष नहीं झुकने पर श्री परमार के खिलाफ ब्लेकमेलर अंकुर जायसवाल ने अत्यंत मनघड़ंत व समाज मे अपमानित करने वाले गम्भीर शब्दो का इस्तेमाल करते हुए एकतरफा खबर का प्रकाशन किया गया हैं।

जो कि अति निंदनीय व पत्रकारिता के नियमो का सरासर उलंघन करते हुए ब्लैकमेलिंग जैसा घृणित अपराध है।

इसी गम्भीर मुद्दे को लेकर दलित समाज का प्रति निधि मंडल आज माननीय डीआईजी महोदय श्री मनीष कपूरिया से मिला व मिलकर खुलासा फर्स्ट के पत्रकार अंकुर जायसवाल द्वारा किये जा रहे ब्लेक मेलिंग व अपमानित करने की घटना से अवगत करवाया। प्रतिनिधिमंडल ने यह भी बताया कि शासन प्रशासन के नियम व आदेशानुसार भी अनेको बार यह आदेश जारी किया गया कि किसी भी दलित अनुसूचित जाति /जनजाति के व्यक्ति को जानबूझकर अपमानित प्रताड़ित नही किया जाए।

लेकिन खुलासा फर्स्ट अखबार को हथियार बनाकर जिस तरह  अंकुर जायसवाल द्वारा न सिर्फ ब्लेक मेलिंग की जा रही है बल्कि मनमानी खबरे छापकर खुद ही जज खुद ही वकील व खुद ही फरियादी बनकर वरिष्ठ जनों के खिलाफ सीधे समाजिक रूप से दंडित किया जा रहा है।

जिस पर न सिर्फ रोक लगना चाहिए बल्कि अंकुर जायसवाल जैसे ब्लैक मेलर व खुलासा फर्स्ट अखबार जैसे ब्लेक मेलिंग करने वाले अखबारों की अधिमान्यता निरस्त की जाना चाहिए।

इसी मांग को लेकर आज दलित समाज के अनेक समाज बन्धु के प्रति निधि मंडल द्वारा श्री मान डीआईजी महोदय को ज्ञापन देते हुए अंकुर जायसवाल पर दलित उत्पीड़न का केस दर्ज कर गिरफ्तार करने के साथ ही खुलासा फर्स्ट अखबार की अधिमान्यता निरस्त करने की मांग की गई।

प्रति निधि मंडल में विशेष रूप से संजय सोलंकी,नीलेश चौहान ,रितेश परमार, वरुण पिवाल,मनीष जैदी,आशीष राठौर ,विकास मालवीय, सतीश सिंदल,विजय परमार मामा, तूफान मालवीय, राजेंद्र सिंह सिसौदिया शामिल थे।

डीआईजी श्री कपूरिया ने प्रति निधि मंडल को आश्वस्त किया कि मामले की जांच कर कार्यवाही की जाएगी।

प्रति निधिमण्डल ने बताया कि अगर अविलम्ब इस मामले में कार्यवाही नही हुई तो पूरा दलित समाज आंदोलन के लिए बाध्य होगा।

Leave a Reply