नौकरी छोड़कर पकड़ी खेती की राह, लहलहा रहा सेब का बगीचा

मदनपुर निवासी किसान उद्यानिकी विभाग की सलाह से कर दिखाया काम, कमा रहे मुनाफा

कटनी -राज्य सरकार खेती किसानी के क्षेत्र में लगातार सुविधाएं बढ़ाने प्रयासरत है। किसानों को खाद बीज से लेकर अन्य जरूरी आधुनिक उपकरण उपलब्ध कराए जा रहे हैं। उसी का नतीजा है कि प्रदेश को लगातार कृषि कर्मण अवार्ड से सम्मानित किया गया है। सरकार उद्यानिकी को भी बढ़ावा देने किसानों को प्रेरित करने का कार्य भी कर रही है। ऐसे ही जिले के मदनपुर निवासी एक किसान ने सेब का बगीचा लगाने का मन बनाया और नौकरी छोड़कर उद्यानिकी विभाग के अधिकारियों की सलाह के आधार पर बगीचा तैयार किया है। किसान के खेत में सेब का बगीचा लहलहा रहा है और उससे आमदनी भी शुरू हो गई है। सेब के अलावा उनके बगीचे और कई ऐसे पेड़ हैं, जो दूसरे स्टेट में होते हैं।

ठेकेदार के साथ मीटर लगाने का करते थे काम जिले के मदनपुर गांव में रहने वाले किसान रमाशंकर कुशवाहा बिजली विभाग में ठेकेदार के साथ मीटर लगाने की नौकरी करते थे। उनके मन में खेती करने का विचार आया और उन्होंने नौकरी छोड़कर परंपरागत तरीके से धान-गेहंू आदि की खेती शुरू कर दी। दिसंबर 2019 में रमाशंकर ने कुछ नया करके खेती से लाभ कमाने का मन बनाया और जम्मू से सेब के पौधे मंगवाकर अपनी खाली पड़ी जमीन पर बगीचा तैयार करने का काम प्रारंभ किया। इसके लिए उन्होंने उद्यानिकी विभाग के अधिकारियों की सलाह ली और उनकी समय-समय पर मिली सलाह के आधार पर बगीचा तैयार किया।

तीन माह लगा लॉकडाउन तो दिया पूरा समय सेब के पौधे रोपने के तीन माह बाद ही कोरोना के चलते लॉकडाउन लग गया। उसके बाद से रमाशंकर ने पूरा समय बगीचे को तैयार करने व उसकी देखरेख में लगा दिया। किसान रमाशंकर ने लॉकडाउन के डेढ़ साल के दौरान सेब के पौधों को तैयार करने में कड़ी मेहनत की। समय-समय पर उन्होंने उद्यानिकी विभाग के अधिकारियों से सलाह ली। अब किसान की बगिया में फलों की बहार है और ताजे फलों का स्वाद लेने शहर से भी नागरिक उनके खेत तक पहुंच रहे हैं।

चीकू, नाशपाती भी तैयार सेब के साथ किसान रमाशंकर ने बगीचे में चीकू, नाशपाती, अनानास, अमरूद, सीताफल, नीबू आदि के पौधे लगाए हैं। जिसमें चीकू, अमरूद, सीताफल में फल आने लगे हैं। स्थानीय वातावरण के प्रभाव के कारण उनके फलों का रंग थोड़ी अलग है लेकिन फलों की मिठास में कोई अंतर नहीं है। किसान रमाशंकर कुशवाहा का कहना है कि कश्मीर, उत्तराखंड और पंजाब तक में सेब की खेती हो रही है तो उन्होंने सोचा की जिले में भी ये हो सकता है, जिसके बाद उन्होंने सेब के पौधे लगाए और 16-17 माह में ही वे फल देने लगे। किसान का अनुमान है अगले साल सेब से उन्हें और अधिक मुनाफा मिलेगा।

About RAVI PATEL NEWS EDITOR REPORTER KATNI

View all posts by RAVI PATEL NEWS EDITOR REPORTER KATNI →

Leave a Reply