मैनिट डायरेक्टर ने किया मिलने से इंकार, रिसर्च स्कॉलर्स लेंगे सांसद की शरण

DG NEWS BHOPAL

मैनिट रिसर्च स्कॉलर्स ने एचआरए की राशि का लाभ मिलने पर राजकुमार मालवीय का किया स्वागत

भोपाल । मौलाना आजाद राष्ट्रीय प्रोद्योगिकी संस्थान के रिसर्च स्कॉलर्स द्वारा आज दिनांक 27 सितम्बर 2021 को राजकुमार मालवीय का स्वागत एवं अभिनंदन किया गया है।

विगत दो वर्षो से रिसर्च स्कॉलर्स के लीडर राजकुमार मालवीय एचआरए की राशि दिये जाने हेतु प्रयासरत थे। भोपाल सांसद प्रज्ञा सिंह के हस्तक्षेप करने पर मैनिट प्रबंधन द्वारा 22 सितम्बर 2021 को 2019, 2020 एवं 2021 बैच के पीएचडी शोधार्थियों को एचआरए की राशि दिये जाने के संबंध में आदेश निकाल दिया गया है। पिछले वर्षो की राशि एरियर्स के रूप में स्कॉलर्स को दी जायेगी।

रिसर्च स्कालर्स द्वारा सांसद प्रज्ञा सिंह को ‘‘मैनिट रिसर्च स्कॉलर्स के साथ सांसद का सीधा संवाद’’ एवं उनके अभिनंदन समारोह हेतु आमंत्रण दिया गया है। कोविड 19 महामारी के चलते मैनिट रिसर्च स्कॉलर्स रिसर्च से संबंधित एवं अन्य आर्थिक दिक्कतों का सामना कर रहे है। इसके उलट मैनिट प्रबंधन पीएचडी स्कॉलर्स पर अनावश्यक नियमावली थोंपकर उन्हें मानसिक रूप से प्रताडित कर रहा है। इन पीएचडी स्कॉलर्स की लगाकर मैनिट प्रबंधन से मांग रही है कि क्यू1, क्यू2 स्टेण्डर्ड के एससीआई/एससीआईई रिसर्च जर्नल में पेपर पब्लिकेशन की बाध्यता को हटाते हुय स्कोपस इण्डेक्स्ड रिसर्च जर्नल में रिसर्च पेपर पब्लिकेशन के आधार पर पीएचडी अवार्ड की जायें। रिसर्च जर्नल में पेपर डालने से पूर्व मैनिट प्रबंधन से परमिशन लेने की अनावश्यक शर्तो को हटाया जाए । जिन पीएचडी स्कॉलर्स के पांच वर्ष पूर्ण हो गये है, उन्हें अपनी रिसर्च पूरी करने के लिये डेढ वर्ष की अतिरिक्त अवधि हेतु स्टाईपेंड देते हुये

एक्सटेंशन दिया जायें। भारत सरकार के नियमानुसार एससी/एसटी पीएचडी स्कॉलर्स को ट्यूशन फीस में 100 प्रतिशत छूट दी जायें। रिसर्च संसाधन एवं फेसेलिटीज को बढ़ाया जाये। रिसर्च के दौरान एक्सपेरिमेंटल सेटअप, रिसर्च पब्लिकेशन, पेंटेंट एवं अन्य रिसर्च संबंधी जरूरतों पर आने वाले खर्चो की पूर्ति मैनिट प्रबंधन द्वारा की जायें। इन सभी मांगों को लेकर पीएचडी स्कॉलर्स आज मैनिट डायरेक्टर से मिलने गये थे किन्तु काफी मान मनोवल करने के बावजूद डायरेक्टर ने मिलने से इंकार कर दिया। रिसर्च स्कॉलर्स को डायरेक्टर से बिना मिले ही खाली हाथ लौटना पड़ा। मजबूरन रिसर्च स्कॉलर्स अपनी समस्याओं को लेकर सांसद प्रज्ञा सिंह से गुहार लगायेंगे। जरूरत पड़ी तो मैनिट परिसर में शांतिपूर्वक आंदोलन करेंगे। विगत डेढ वर्षो से कोरोना काल के कारण मैनिट संस्थान से दूर रहकर रिसर्च स्कॉलर्स अपने घर पर ही रिसर्च कार्य कर रहे है। कैम्पस मे ंन होने के कारण संसाधनों और उचित मार्गदर्शन के अभाव में रिसर्च वर्क बाधित हुआ है। रिसर्च स्कॉलर्स मैनिट प्रबंधन के अनावश्यक नियमों के कारण भारी मानसिक तनाव से गुजर रहे है। कई स्कॉलर्स सुसाइडल मोड में पहुंच चुके है।

About सुरेश मालवीय इछावर DG NEWS

View all posts by सुरेश मालवीय इछावर DG NEWS →

Leave a Reply