मतदान दिवस पर सभी औद्योगिक/निजी/शासकीय संस्थानों में कार्यरत – मतदाताओं को मतदान हेतु अवकाश (सवैतनिक) मिलेगा

त्रि-स्तरीय पंचायती राज्य निर्वाचन द्वारा  25 जून 2022 मतदान होना है, निर्वाचन की प्रक्रिया में अपना मत देना हर मतदाता का अधिकार है। इसी उद्देश्य की पूर्ति के लिये मतदाताओं को मतदान की सुविधा देने के लिये राज्य शासन द्वारा संबंधित क्षेत्रों में 25 जून को अवकाश घोषित किया गया है। जनप्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 में सार्वभौमिक वयस्क (18 वर्ष से अधिक) को मत देने का अधिकार प्रदत्त किया गया है।

कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री मनीष सिंह ने इन्दौर जिले के ग्रामीण क्षेत्र के मतदाताओं को मतदान की सुविधा प्रदान किये जाने के लिये सभी औद्योगिक, व्यवसायिक एवं निजी संस्थानों को आदेशित किया है कि वे उनके संस्थान में कार्यरत कर्मचारियों को मतदान की सुविधा प्रदान किये जाने के लिये अर्द्ध दिवस का अवकाश देवें।

उल्लेखनीय है कि पंचायत निर्वाचन में मतदान प्रातः 07 बज से दोपहर 03 बजे के मध्य होगा। यदि किसी कर्मचारी का कार्यक्षेत्र उनके मतदान केन्द्र से इतनी दूरी पर है कि वे आधे दिवस में मतदान नहीं कर सकते है, तो उन्हें पूरे दिवस का सवैतनिक अवकाश दिया जाये। यह आदेश इन्दौर जिले के ग्रामीण क्षेत्र के मतदाताओं के लिये प्रभावशील होगा।

निजी स्कूल व कॉलेज भी ग्रामीण क्षेत्र के 18 वर्ष से अधिक उम्र के अध्ययनशील मतदाता को भी अवकाश दिया जायेगा। औद्योगिक, व्यवसायिक, निजी (स्कूल, कॉलेज) सहित संस्थान यह भी परीक्षण कर लें कि जिन मतदाताओं को अवकाश प्रदान किया गया है उन्होंने वास्तविक रूप से मतदान किया है, इसकी पुष्टि मतदाताओं के बाएं हाथ की उंगली के तर्जनी पर अमिट स्याही के निशान से की जा सकती है। जिले के सभी अनुविभागीय दंडाधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि वे अपने क्षेत्रान्तर्गत उक्त आदेश का पालन सुनिश्चित कराएं। यदि किसी संस्थान द्वारा आदेश का उल्लघंन किया जाता है तो संबंधित के विरूद्ध तत्काल कार्यवाही प्रस्तावित करें।

कलेक्टर जिला धार से भी अनुरोध किया गया है कि उक्त आदेश का पालन उनके क्षेत्राधिकार के ऐसे औद्योगिक एवं व्यवसायिक संस्थान जहां इन्दौर जिले के ग्रामीण क्षेत्र के मतदाता कार्यरत है, में कराने हेतु आवश्यक आदेश जारी करें।

Leave a Reply