2023 में इंदौर में मेट्रो दौड़ने का दावा, मुख्यमंत्री ने कहा – मेट्रो के जरिए इंदौर-उज्जैन को जोड़ने की जरूरत


जयपुर जैसी होगी इंदौर मेट्रो; पहले दिन से 25 ट्रेनें चलेंगी, हर 15 मिनट में मिलेगी, सिर्फ एक पिलर पर होगा स्टेशन
भोपाल में तीन इंदौर में 6 कोच की ट्रेनें चलेंगी, इनमें 1950 यात्री कर सकेंगे सफर
इंदौर.शहर में 2023 तक मेट्रो ट्रेन दौड़ती नजर आएगी। इस सपने को साकार करने के लिए मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शनिवार को एमआर-10 स्थित कुमेड़ी आयोजन स्थल पर वैदिक मंत्रोच्चार के साथमेट्रो रेल परियोजना का शिलान्यासकिया। सीएम ने इंदौर-भोपाल के विस्तार पर बल देते हुए कहा कि हमें मुंबई और दिल्ली की तर्ज पर इन शहरों को बढ़ाना होगा, जिससे इनका भार कम हो सके। हमें आगे इंदौर को मेट्रो के जरिए उज्जैन और पीथमपुर को भी जोड़ने की दिशा में काम करना होगा।
मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि मैं मेट्राे के कायर्क्रम में शामिल होने जयपुर गया था। उस समय में केंद्र में मंत्री था। यहां मेरे मन में विचार आया कि मध्यप्रदेश में मेट्रो को लेकर कोई चर्चा ही नहीं है। इसके बाद लौटकर मैंने उस समय भाजपा सरकार में मंत्री रहे बाबूलाल गौर से भाेपाल और एक अन्य शहर के लिए मेट्रो की डीपीआर बनाने काे कहा। इस पर उन्होंने कहा कि इस पर काफी खर्च अाएगा, इस पर मैंने कहा कि खर्च की चिंता ना करें। इसके बाद डीपीआर बनी, लेकिन अब तक वे कागज दबे रह गए। मप्र में हमारी सरकार आने पर मैंने मंत्री जयवर्धन सिंह से इस पर काम करने को कहा।
उन्होंने कहा कि हमसे पूछा जा रहा कि इंदौर में मेट्रो की क्या आवश्यकता है। मैं उन्हें कहना चाहता हूं कि इंदौर की जनसंख्या बढ़ती जा रही है। हमें अब इंदौर, भोपाल के विस्तार के बारे में सोचना होगा, जिससे इनका भार कम हो सके। हमें इन शहरों को दिल्ली, मुंबई की तरह फैलाना होगा। जैसे वहां नोएडा, गुडगांव बनाया गया, मुंबई में नवी मुंबई बनी, थाणे तक विस्तार किया गया। हमें यह सोचना होगा कि आज से पांच या 10 साल बाद हमें भोपाल इंदौर को कहां देखना चाहते हैं। हमें सड़क, बिजली, पानी सभी पर ध्यान देना होगा। हमें इंदौर को सुरक्षित रखना है कि मेट्रो की नितांत आवश्यकता है।
मंत्री तुलसी सिलावट ने मेट्रो को सांवेर तक चलाने की मांग की। मैं उन्हें कहना चाहता हूं कि ये मांग ना करें यह तो हमारी आवश्यकता है। हमें सांवेर ही नहीं उज्जैन,

Leave a Reply