नवदुर्गा महोत्सव का आज आखिरी दिन है, सोमवार शाम से ही प्रतिमाओं के विसर्जन का सिलसिला शुरु

गुना। नवदुर्गा महोत्सव का आज आखिरी दिन है, सोमवार शाम से ही प्रतिमाओं के विसर्जन का सिलसिला शुरु हो जाएगा, जो दूसरे दिन तक चलेगा। इधर प्रशासन ने भी सिंगवासा तालाब पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम कराए हैं। तालाब में एक डी बनाई गई है। इससे जाल से तीनों तरफ से बंद किया गया है।
इसी में प्रतिमा विसर्जित की जाएंगी। वहीं 15 तैराक भी मौजूद रहेंगे। 2 नाव भी रखी गई हैं। ज़रुरत पड़ने पर इनका उपयोग किया जा सकेगा। नगर पालिका सीएमओ संजय श्रीवास्तव ने इस स्थल पर पहुंचकर व्यवस्थाएं देखी। मंगलवार रात रावण का दहन होगा, इससे पहले शहर से एक चल समारोह निकलेगा। इस दौरान भी सुरक्षा को लेकर कड़े इंतजाम रहेंगे। शहर भर में 300 से ज्यादा बल सुरक्षा के रूप में तैनात रहेगा।
विसर्जन स्थल पर सुरक्षा को लेकर 15 तैराक तैनात रहेंगे। वहीं 2 नाव भी रखी गई है। सिंगवासा तालाब में जाल लगाकर डी बनाई गई है। झांकी समिति इसी में प्रतिमा विसर्जित करेंगी।
सार्वजनिक श्रीरामलीला एवं दशहरा पर्व समिति के तत्वावधान में इस साल 73वें वर्ष में विजयादशमी पर्व उत्साह से मनाया जाएगा। इसके लिए तैयारियों को अंतिम रुप दिया जा रहा है। समिति ने बताया कि इस दौरान 51 फीट ऊंचे रावण के पुतले का दहन गोपालपुरा कैंट स्थित दशहरा मैदान पर शाम 7 बजे कि या जाएगा। इसके पूर्व रामभक्त हनुमान मंदिर पुरानी गल्ला मंडी रामलीला मंच से रामजी की शोभायात्रा निकाली जाएगी। जो नगर के प्रमुख मार्गों से होकर दशहरा मैदान पहुंचेगा। यहां राम-रावण युद्ध का मंचन होगा और रावण के पुतले का दहन कि या जाएगा। रावण के पुतले का निर्माण बदरवास के जलील भाई द्वारा कि या जा रहा है, जबकि आकर्षक आतिशबाजी बदरवास के आतिशबाज द्वारा तैयार की गई है। इधर, पुरानी गल्ला मंडी रामलीला में राम-सुग्रीव मित्रता, बाली वध का मंचन कि या गया। चल समारोह निकलेंगे।

, ,

Leave a Reply