जिलाधिकारी ने किया NDRF टीम को सम्मानित

जब जब देश पर आफत आती
सबसे पहले टकराते है

लक्ष्य कठिन हो पंत दुर्गम हो ये कभी नही घबराते है

आपदा के समय जब सभी लोग सुरक्षित जगह की तलाश में होते है, तब NDRF के जाबाज रेस्क्यूअर अपने कठिन परिश्रम, कुशल प्रशिक्षण और साहसिक नेतृत्व के द्वारा किसी भी आपदा में फँसें लोगो को बचाने के लिए जोखिम भरे हालात में भी हमेशा तत्पर रहते है ।

कैसी भी हो आपदा NDRF का साथ सदा ।
इसी सोच को साकार रूप देते हुए हर समय आपदा में तत्पर रहने वाली 11वी वाहिनी (वाराणसी) एन. डी. आर. एफ. की विशिष्ट प्रशिक्षित टीम उपमहानिरीक्षक श्री आलोक कुमार सिंह के दिशा निर्देशन में , निरीक्षक धर्मेन्द्र कुमार पांडेय के नेतृत्व में उपनिरीक्षक मनीष कुमार चौबे के साथ 30 सदस्यीय टीम धार जिले के कुक्षी तहसील (निसरपुर) में सभी बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में लगातार राहत और बचाव कार्य मे लगी हुई है ।

मानसून पूर्व तैनाती में टीम जब निसरपुर पहुची तो सबसे पहले जिलाधिकारी श्री. श्रीकांत बनोठ के मार्गदर्शन में तहसील कुक्षी के उपजिलाधिकारी श्री बी एस कनेश के साथ मिलकर उन सभी बाढ़ प्रभावित क्षेत्रो का जायजा लिया और जिला एवं तहसील प्रशासन के सहयोग से एक विस्तृत और समग्र कार्य योजना बनाई और संवेदनशीलता के आधार पर नर्मदा नदी और उरी नदी के तलहटी में बसे डूब प्रभावित क्षेत्रो ( निसरपुर, कोटड़ा, कोटेश्वर, छछुआ, करवंधिया,कष्टा , चिखलदा, धर्मराय , केकरवास) से लोगो का रेस्क्यु करके सुरक्षित स्थान पर पहुचाया । साथ ही साथ जरूरतमंद लोगो को राहत सामग्री भी पहुचाई ।
इसके अतिरिक्त टीम ने चिखलदा के नजदीक करोधीया गाँव से 5 किलोमीटर दूर नर्मदा नदी के विकराल और डरावनी लहरो के बीच टापू पर फसे 05 लोगो को रात्रि के समय अपने जान जोखिम में डालकर एक कठिन रेस्क्यू ऑपरेशन के माध्यम से महत्वपूर्ण जीवन को बचाकर साहस का परिचय दिया ।
इस प्रकार के बचाव कार्य के माध्यम से NDRF ने अपने कर्तव्य निष्ठा का अनूठा परिचय दिया ।

बाढ़ के उपरांत टीम ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में बाढ़ के बाद उत्पन्न होने वाली महामारी, संक्रमण व अन्य संकटो के प्रति सजग रहते हुए ग्रामीणों, बसावट के लोग, स्कूली बच्चों और तैनात कर्मचारियों को भी महामारी, सर्पदंश, घातक चोट और डूबने जैसी आपदाओ से बचने के लिए एक विस्तृत जनजागरूकता अभियान चलाकर दिन व रात्रि में भी लोगो को उपरोक्त आपदाओ से बचने के तरीके बताए । जो कि भविष्य में लोगो को अपना और अपने परिवार को सुरक्षित रखने में काफी मददगार होगा ।

मॉनसून के बाद टीम की तैनाती के आखिरी चरण में टीम के कार्यकुशलता और जिलाप्रशासन के साथ बेहतर समन्वय के साथ कार्य करने के तरीकों से प्रभावित होकर जिलाधिकारी महोदय ने टीम के उत्साहवर्धन के लिए प्रशंसा पत्र देकर सम्मानित किया ।
इस मौके पर पुलिस अधीक्षक श्री आदित्य प्रताप सिंह, अपर जिलाधिकारी श्री शैलेंद्र सिंह सोलंकी, उपजिलाधिकारी श्री बी एस कनेश, उपजिलाधिकारी श्रीमती नेहा साहू , उपजिलाधिकारी श्री वीरेंद्र कटारे, उपजिलाधिकारी श्री महेश बडोरे , सभी बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के तहसीलदार एवं दल प्रभारी , एन. वी . डी. ए अधिकारी श्री राजेन गुप्ता , श्री राजेन्द्र परिहार
उपस्थित रहे ।

ये कभी रुकने वाले है, ये कभी न थकने वाले है ।* *सदैव देश सेवा में ततपर ये मानवता के रखवाले है ।
*नही किसी से द्वेष है इनका ये कभी न डरने वाले है ।*
ये आपदा मोचन बल है हर आपदा से बचाने वाले है ।

Leave a Reply