विद्यार्थियों एवं आमजन की सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनजर स्कूल, कॉलेज, हॉस्टल एवं कोचिंग संचालकों की बैठक

स्कूल, कॉलेज, हॉस्टल व कोचिंग में अध्ययनरत विद्यार्थियों की सुरक्षा व सुविधा एवं शहर में शांति सुरक्षा व्यवस्था को दृष्टिगत रखते हुए उक्त संस्थानों के संचालकों की एएसपी श्री अखिल पटेल एवं एएसपी श्री संदेश जैन द्वारा आज दिनांक 23 सितंबर 2019 को पुलिस कंट्रोल रूम में बैठक आयोजित की गई, जिसमें उक्त संस्थानों के करीबन 250-280 संचालकगण मौजूद रहे।

श्री पटेल एवं श्री जैन ने बैठक को संबोधित करते हुए भोपाल पुलिस के सुझाव दिए एंव शिक्षा विभाग की गाइडलाइंस का पालन करते हुए विद्यार्थियों की सुरक्षा व सुविधा को दृष्टिगत रखते हुए अच्छी गुणवत्ता के सीसीटीवी कैमरे लगवाने, इमरजेंसी अलार्म, अग्निशमन यंत्र एवं सुरक्षा गार्ड रखने, कर्मचारियों का चरित्र सत्यापन, वाहनों की पार्किंग आदि सुरक्षा संबंधी महत्वपूर्ण बिंदुओं पर सुझाव एवं दिशा निर्देश दिए गये। बैठक में संचालकों के विचार व सुझाव जाने गए, जिन्होंने पुलिस की पहल की सराहना करते हुए सुरक्षा के सभी इंतेजाम पुख्ता करने हेतु आश्वासन दिया गया, जिन्हें भोपाल पुलिस की ओर से उक्त महत्वपूर्ण बिंदुओं पर विस्तृत चर्चा कर सुझाव दिए गए जो निम्नानुसार है :-

  1. भोपाल पुलिस सभी स्कूल/कॉलेज/छात्रावास संचालकों से अनुरोध करती है कि – स्कूल/कॉलेज एंव छात्रावासों में अपनी क्षमता एंव आवश्यकतानुसार सी.सी.टी.वी. कैमरों को इस प्रकार लगाये जावें जो अन्दर और बाहर के सभी क्षेत्रों को कवर कर सकें। यथा संभव हो सके तो कैमरे अच्छी क्वालिटी के हो, नाईट विजन हो, फेस डिटेक्षन एवं डेटा कम से कम 03 महीने तक हार्ड-डिस्क (डी.व्ही.आर.) में सेव रह सकें, जो कैमरे रोड़ की दिषा में हो उन्हे आई.पी. से कनेक्ट कराने की व्यवस्था कराई जाये जिससे उसकी फीड संचालक के साथ-साथ सी.सी.टी.व्ही. कन्ट्रोल रूम भोपाल में देखी जा सकें। लगाये गये कैमरों की स्थिति इस प्रकार हो कि एक कैमरा दूसरे कैमरों की रिकार्डिग को कवर कर सकें। समय-समय पर उक्त कैमरों को चैक किये जावें एवं खराबी आने पर तत्काल परिवर्तित कर दुरस्त कराया जावें।
  2. भोपाल पुलिस का सुझाव है कि- सभी स्कूल, महाविद्यालय एवं छात्रावासो में रैगिंग से संबंधित एण्टी रैगिंग एक्ट का नोटिस बोर्ड होना चाहिए एवं नोटिस बोर्ड में हेल्प लाईन नम्बर भी होना चाहिए।
  3. भोपाल पुलिस का सुझाव है कि- सभी स्कूल, महाविद्यालय एवं छात्रावासो में आवश्यकतानुसार सुरक्षा गार्ड उपलब्ध होना चाहिये।
  4. भोपाल पुलिस का सुझाव है कि- ट्राफिक एवं पार्किग की सुचारू व्यवस्था बनाये रखने की उचित व्यवस्था की जावें, जिससे आम जन को किसी प्रकार की असुविधा न हो।
  5. भोपाल पुलिस का सुझाव है कि- बिना पुलिस सत्यापन के स्कूल, महाविद्यालय एवं छात्रावासो में कोई भी कर्मचारी को नौकरी पर नही रखा जावें एंव जिले से बाहर के जो भी कर्मचारी है उनका पुलिस सत्यापन उनके गृह जिले के पुलिस थाने से कराया जावें। बस चालको, कंडेक्टर, चपरासी और अन्य गैर षिक्षण कर्मचारियो के इस तरह के सत्यापन और मूल्यांकन बहुत ही सावधानी पूर्वक और अच्छी तरह किये जाने के उपरांत ही उनको नौकरी पर रखा जावें।
  6. भोपाल पुलिस का सुझाव है कि- स्कूल, कॉलेज एंव छात्रावास संचालक सुप्रीमकोर्ट के दिषा निर्देषो अनुसार बस एवं अन्य वाहन के चालक जो स्कूल, कालेजो एवं संस्था विषेष से जुडकर सुविधा देते है सभी का संपूर्ण पुलिस सत्यापन, वाहन के दस्तावेज, बीमा, ड्राईविंग टेस्ट व गाडी की भौतिक स्थिति ठीक होनी चाहिये यह सुनिश्चित करें।
  7. भोपाल पुलिस का सुझाव है कि- स्कूल, कॉलेज में संचालित सभी बसे निर्धारित पीले रंग से पुती हो और सभी बसो में आपातकाल की स्थिति में आपातकाल दरवाजे होना चाहिए एंव अग्निशमन सुविधायें उपलब्ध होना चाहिये।
  8. भोपाल पुलिस का सुझाव है कि- स्कूल, कालेज के कर्मचारियो की गतिविधियॉ संदिग्ध लगती है तो उसे नौकरी से निकालने से पहले उसकी सूचना पुलिस को देना/पेश किया जावें।
  9. भोपाल पुलिस का सुझाव है कि- छात्रो की सुरक्षा एवं आवष्यकताओ की पूर्ती करने के लिए माता पिता षिक्षक छात्र समिति का गठन करे और इस संबंध मे माता, पिता से नियमित प्रतिक्रिया लें एंव किसी भी प्रकार की संदिग्धता पाये जाने पर तत्काल स्थानीय पुलिस को अवगत कराया जावें।
  10. भोपाल पुलिस का सुझाव है कि- सभी शैक्षणिक संस्थाओ में लड़कियों या महिलाओं के लिए पृथक से वाषरूम/टॉयलेट की सुविधा होनी चाहिए, जो हर तरह से सुरक्षित हो।
  11. भोपाल पुलिस का सुझाव है कि – स्कूल, महाविद्यालय एवं छात्रावासो में छात्रो के आने जाने के समय पर विषेष निगरानी रखी जावें एंव किसी प्रकार की संदिग्धता पाये जाने पर उनके पालकगण एंव स्थानीय पुलिस थाना को अवगत कराया जावें।
  12. भोपाल पुलिस का सुझाव है कि- 75 प्रतिषत सदस्य स्कूल, कालेज समिति के सदस्य के रूप में छात्रों के माता, पिता में से ही होना चाहिए एवं 25 प्रतिषत षिक्षा विषेषज्ञ, वार्ड सदस्य, स्कूल चेयरमेन मे से होना चाहिए।
  13. भोपाल पुलिस का सुझाव है कि – स्कूल, महाविद्यालय एवं छात्रावासो के मुख्य गेट में सुरक्षा गार्ड होना चाहिए। सुरक्षा गार्ड द्वारा रजिस्टर में आने जाने वालों के नाम, पता इत्यादि की जानकारी दर्ज हो एवं स्कूल कालेज की वाउंड्रीवाल डबल फेन्सिग की होनी चाहिए।
  14. भोपाल पुलिस का सुझाव है कि – स्कूल, महाविद्यालय एवं छात्रावासो में आपातकाल दरवाजे होने चाहिए।
  15. भोपाल पुलिस का सुझाव है कि- स्कूल, महाविद्यालय एवं छात्रावासो में आग लगने की स्थिति में अग्निषामक साधनों का समय समय पर उपयोग होना चाहिए।
  16. भोपाल पुलिस का सुझाव है कि- स्कूल, महाविद्यालय एवं छात्रावासो के छात्रो, अध्यापको एवं सभी कर्मचारियों का अलग से ड्रेस कोड, पहचान पत्र होना चाहिए।
  17. भोपाल पुलिस का सुझाव है कि- सभी स्कूल, महाविद्यालय एवं छात्रावासो की सुरक्षा एवं देखरेख किसी महिला वार्डन ही दी जानी चाहिये।
  18. भोपाल पुलिस का सुझाव है कि- सभी स्कूल एंव शैक्षणिक संस्थानों एंव आस-पास के क्षेत्रों में किसी भी प्रकार की असवैधानिक गतिविधियों की जानकारी स्थानीय पुलिस को दी जावें।

Leave a Reply