अवैध संबंधों के चलते पत्थरों से सिर कुचलकर की थी युवक की हत्या

DG NEWS RAJGARH

राजगढ़ से कल्पना कीर की रिपोर्ट

राजगढ़ । गत दिनों भोजपुर थाना क्षेत्र के गांव भूमरिया में एक खेत में पुलिस को एक लावारिश अवस्था में शव मिला था। जिसकी पहचान दुलीचंद पिता बीरमसिंह भील 23 वर्ष के रूप में की गई थी। शरीर पर चोट के निशान होने से मामला हत्या का लग रहा था। ऐसे में पुलिस द्वारा जो पड़ताल की है उसमें सामने आया कि मृतक के आरोपित कमलेश की पत्नी से अवैध संबंध थे, इसी के चलते उनसे हत्या की है।

मामले का पर्दाफाश करते हुए एसपी प्रदीप शर्मा ने बताया कि 6 जनवरी को चौकी प्रभारी पपडेल देवेंद्र सिंह राजपूत को गोपीलाल भील के खेत में दुलीचंद की लाश कुचली हालत में पड़े होने की सूचना प्राप्त हुई थी। इसके बाद थाना प्रभारी भोजपुर वीरेंद्र धाकड़ एवं चौकी प्रभारी पपडेल देवेंद्र सिंह राजपूत के नेतृत्व में टीम गठित कर टीम को मामले की तह तक पहुंचने के लिए जांच शुरू की। घटना स्थल पर मृतक दूलीचंद पिता बीरमसिंह भील उम्र 23 साल निवासी भूमरिया का पुरा की लाश खेत में पड़ी हुई मिली। चेहरा खून से लथपथ था जिस पर किसी भौंतरे हथियार से सिर व चेहरे पर पहुंचाई गई चोट के निशान थे। चेहरा कुचला हुआ था और शव के आसपास खून के धब्बे जमीन पर एवं आसपास के सूखे हुए पत्तों पर पड़ा हुआ था। परिजनों द्वारा प्रथम दृष्टया किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा मृतक की मृत्यु कारित करना बताया। मामला प्रथम दृष्टया हत्या का प्रतीत होने से धारा 302 के तहत मामला पंजीबद्ध किया गया। मामले की जांच के लिए टीम बनाकर अज्ञात आरोपित की तलाश की गई, तो टेक्नीकल साक्ष्य एवं परिस्थितिजन्य साक्ष्य के आधार पर पाया गया कि मृतक दूलीचंद के आरोपित की पत्नी से संबंध की शंका आरोपित को थी। 5 जनवरी की रात्रि 12-01 बजे करीब आरोपित कमलेश भील ने मृतक को अपनी पत्नी के साथ संदिग्ध हालत में देख लिया था। इसी वजह से आरोपित और मृतक में लड़ाई झगड़ा हो गया। आरोपित ने मृतक की पत्थर से सिर व चेहरा कुचलकर हत्या कर दी। 12 जनवरी को पुलिस एक गठित टीम द्वारा आरोपी को अथक प्रयास कर गिरफ्तार किया गया। प्रेस कांफ्रेंस के दौरान एएसपी एसआर दंडोतिया, अनुविभागीय अधिकारी खिलचीपुर निशा रेड्डी, भोजपुर थाना प्रभारी वीरेंद्र धाक़ड, पपड़ेल चौकी प्रभारी देवेंद्रसिंह राजपूत उपिस्थत थे। प्रकरण के खुलासे में उपनिरीक्षक वीरेन्द्र सिंह धाकड थाना प्रभारी भोजपुर, उपनिरीक्षक देवेन्द्र सिंह राजपूत चौकी प्रभारी पपडेल, देवेंद्र, विनोद, कमल मीना, इरशाद, सुनील मीना, कृष्णगोपाल, नीरज लोधी, पूजा कंवर, कैलाश का योगदान रहा।

Leave a Reply