सिकल सेल एनीमिया रोग को लेकर आयोजित की गई एक दिवसीय कार्यशाला

कल्याणपुरा – सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कल्याण पूरा में आज एनीमिया सिकल सेल रोग को लेकर एकं दिवसीय कार्यशाला का आयोजन रखा गया । कार्यशाला में डॉक्टर निर्मला अजनार , बी सी एम अभिलाष भूरिया , जिला जन अभियान परिषद के जिला समन्वयक जय दीक्षित , ब्लॉक समन्वयक तोलिया डामोर उपस्थित रहे ।और पूरे समय इस रोग की रोकथाम के लिए सभी प्रतिभागियों को विभिन्न पहलुओं पर जानकारी देते नजर आए ।
ब्लाक कोऑर्डिनेटर अभिलाष भूरिया ने जानकारी देते हुए बताया कि इस पायलट प्रोजेक्ट के लिए झाबुआ एवं अलीराजपुर जिले का चयन हुआ है । पहले यह गुजरात मे आयोजित हुआ है ओर सफल रहा । और अब इसे यहाँ कि वस्तुस्थिति को देख केंद्र एवं राज्य ने इसे यहां लांच किया है । क्योकि यहां आदिवासी बहुल क्षेत्र होने से इस बीमारी की आशंका बताई गई है । आपने प्रोजेक्टर के माध्यम से बीमारी के बारे समझाया । डॉक्टर निर्मला अजनार ने बताया कि यह खून की कमी से होने वाली एक आनुवंशिक बीमारी है । अपने यहां इसे चोखी बीमारी के नाम से भी जानते है । कई लोग इसे छुआछूत भी मानते है पर यह गलत है । शरीर मे खून में आक्सीजन की कमी से शरीर मे गांठे बन जाती है । जो कि बहुत दर्द पैदा करती है ।यह आनुवंशिक होकर एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में चलती है । वाहक एवं ग्राही को इसकी
जानकारी जरूरी है । जिला समन्वयक जय दीक्षित ने सभी वोलेंटियर्स को सम्बोधित करते हुए बताया कि इसे विकलांगता बीमारी घोषित किया गया है । हमे सर्वप्रथम ग्राम के स्वास्थ्य विभाग अमले एवं ग्राम के सरपंच, तड़वी, पंच ,,समाजसेवी लोगो से मिल उनके फलिये में चौपाल आयोजित कर इस बीमारी को समझाना है । ओर सँभवित रोग वाले परिवार का एवं गर्भवती माता एवं 15 से 18 वर्ष के बालक बालिकाओं का भी परीक्षण करवाना है । यदि कोई इस रोग से पीड़ित है तो उसका उपचार करावे ।ब्लॉक समन्वयक तोलिया डामोर ने बताया कि व्यक्ति के शरीर मे ब्लड बनने की प्रक्रिया 120 दिन की होती है पर इस रोग में मात्र 30 से 40 दिन में ही ब्लड सेल्स टूट जाती है और शरीर मे चकत्ते या छोटी छोटी गठान के रूप में उभर आती है और खूब दर्द करती है । हम उसके रोग की जांच कर फोलिक एसिड दवाई देकर सहायता करते है । हमारा क्षेत्र आदिवासी बहुल है इस लिए ये रोग हो सकता है । हम सभी को तन्मयता से कार्य कर ऐसे लोगो को चिन्हित कर उनका इलाज करवाना है । कार्यशाला में जिले से चिन्हित 70 से अधिक वोलेंटियर्स उपस्थित हुए , ओर कार्यशाला में हिस्सेदारी की । कार्यशाला का आभार मेंटर्स राजेश बैरागी ने माना ।

Leave a Reply