जिले की प्रसिद्ध धरोहर दिव्य नक्षत्र वाटिका पहुंचे कलेक्टर

झाबुआ ! आज कलेक्टर सोमेश मिश्रा अपने परिवार सहित झाबुआ जिले की प्रसिद्ध दिव्य नक्षत्र वाटिका जो कृषि विज्ञान केंद्र, कृषि विभाग के समीप बालाजी मातंगी धाम पहुंचे, यह प्रदेश की प्रथम दिव्य नक्षत्र वाटिका में यहां के सदस्यों के साथ संपूर्ण वाटिका का भ्रमण किया. इस नक्षत्र वाटिका में श्रीलंका के राष्ट्रीय वृक्ष नागकेसर व जम्मू कश्मीर के देवदार के पौधों का वृक्षारोपण सपरिवार किया. यहां पर वाटिका की विजिटर बुक का भी श्रीगणेश किया. इस नक्षत्र वाटिका में नारद संहिता के अनुसार 27 औषधि वृक्षों के वनस्पति , 12 राशियों के पौधे, नवग्रह की वनस्पति , नवग्रह फल रोपित है. नवग्रह पर आधारित पुष्प भी हैं ! यही सब इस वाटिका को दिव्य बनाते हैं. इस नक्षत्र वाटिका को पूरे प्रदेश की प्रथम सार्वजनिक क्षेत्र की दिव्य वाटिका का गौरव प्राप्त है ! इस वाटिका में रुद्राक्ष, काब्म, कपूर, गूगल, पारस, पीपल, कृष्ण ग्राम, देवदार, वसूल, शमी, बेल, कुकुला, साल, सर्व याचना, लोकेंद्र, इलायची, जैसे कई सुगंधित पुष्प वाटिका में उपलब्ध है ! इस वाटिका परिवार द्वारा कलेक्टर महोदय को प्रतीक चिन्ह. सिंदूर ‘ का पौधा दिया गया. कलेक्टर मिश्रा ने यहां की विजिटर बुक में लिखा नक्षत्र वाटिका में पर्यावरण एवं ज्योतिष शास्त्र के अद्भुत समन्वय की परिकल्पना साकार करने में इससे जुड़े प्रकृति प्रेमियों को हृदय से आभार इस कार्यक्रम में गौरी शंकर त्रिवेदी ,डॉ. श्री आई एस तोमर एवं संपूर्ण वाटिका परिवार उपस्थित रहा !

Leave a Reply