बंगला बगीचा समस्या को लेकर बंगला बगीचा संघर्ष समिति की बैठक हुई संपन्न बैठक में बंगला बगीचा निवासी सभी रहे मौजूद हो सकता है एक बड़ा आंदोलन हो रही है तैयारियां
कल कलेक्टर से मिल 30 मई की डेडलाइन को समाप्त करने की मांग करेंगे बंगला बगीचा वासी
व्यवस्थापन प्रक्रिया में संसोधन के लिए चलता रहेगा चरणबद्ध आंदोलन

नीमच -नीमच जिले की सबसे पुरानी समस्या बंगला बगीचा समस्या को लेकर बंगला बगीचा संघर्ष समिति की बैठक बुधवार शाम 5:30 बजे गांधी वाटिका में संपन्न हुई । बैठक में बड़ी संख्या में बंगला बगीचा वासी उपस्थित रहे । बैठक में बंगला बगीचा क्षेत्र के निवासियों ने अपने अपने विचार रखें एवं बंगला बगीचा व्यवस्थापन नियम में संशोधन नहीं हो जाने तक चरणबद्ध आंदोलन चलाने का निर्णय लिया । बैठक में एडवोकेट अमित शर्मा, पूर्व पार्षद राजेश अजमेरा, अब्बास भाई ठेकेदार, अशफाक हुसैन, मुर्तुजा अली, अली असगर हवेली वाला, राकेश गर्ग, डॉ रमेश दक, तरुण बाहेती, भगत राठौड़, गुरजीत सिंह, जौहर भाई एवं आशीष अग्रवाल सहित कई लोगों ने अपने विचार रखे । मुख्य रूप से बंगला बगीचा वासियों के बीच 30 मई की डेडलाइन को लेकर भारी आक्रोश देखा गया । वही यह निर्णय लिया गया कि बंगला बगीचा व्यवस्था नियम में यदि संशोधन नहीं होता है तो आने वाले चुनाव में बंगला बगीचा वासी चुनाव का बहिष्कार करेंगे । कल सुबह 11:00 बजे सभी बंगला बगीचा वासी फोर जीरो चौराहे पर इकट्ठे होकर कलेक्टर कार्यालय पहुंच कलेक्टर महोदय से 30 मई की डेडलाइन को समाप्त करने एवं व्यवस्थापन नियम में संसोधन की मांग करेंगे । बैठक में मौजूद लोगों ने बंगला बगीचा व्यवस्थापन प्रकोष्ठ के कर्मचारियों पर प्रताड़ना का आरोप लगाया । व्यवस्थापन प्रकोष्ठ के कर्मचारी मनमानी कर रहे हैं और आमजन से लिंक रजिस्ट्री मांग रहे हैं जो कर्मचारी लंबे समय से व्यवस्थापन प्रकोष्ठ में मौजूद है उनके आय व संपत्ति की जांच की जाए । यह भी निर्णय लिया गया कि गली गली मोहल्ले मोहल्ले बंगला बगीचा क्षेत्र में आगामी चुनावों के बहिष्कार हेतु बैनर पोस्टर लगवाए जाएं । अशफाक हुसैन ने कहा की अतिक्रमण करने वालों को सरकार पटा दे रही है और बकायदा शुल्क जमा कर रजिस्ट्री करवाने वालों को शासन प्रताड़ित कर रहा है । राकेश गर्ग द्वारा कहा गया कि कई पीढ़ियों से बंगला बगीचा क्षेत्र में रह रहे हैं बुजुर्ग से लेकर बच्चों तक घबराए हुए हैं यदि अभी समाधान नहीं हुआ तो आने वाली पीढ़ी भी परेशान होगी । डॉक्टर रमेश दक द्वारा कहा गया कि पुराने समय में किसी ने जवाहर नगर में भूमि खरीदी किसी ने गोल्ड में निवेश किया तो किसी ने बंगला बगीचा क्षेत्र में भूमिया खरीदी तो फिर बंगला बगीचा क्षेत्र के रहवासियों को ही क्यों प्रताड़ित किया जा रहा है । पूर्व में शासन ने रजिस्ट्री पर रोक क्यों नहीं लगाई । तरुण बाहेती ने बंगला बगीचा प्रकोष्ठ के अधिकारियों पर आरोप लगाया कि व्यवस्थापन के नाम पर प्रकोष्ठ में जमकर भ्रष्टाचार हो रहा है यदि यह भ्रष्टाचार बंद नहीं हुआ तो आमरण अनशन तक किया जाएगा । वही आशीष अग्रवाल ने कहा कि मुख्यमंत्री महोदय से भी कई बार मिले हैं व्यवस्थापन की प्रक्रिया बहुत जटिल है दरे बहुत अधिक है दरों को कम किया जाए वही इस । दौरान कई युवा बहुत आक्रोशित दिखे और उनके द्वारा चक्का जाम जैसे प्रस्ताव भी बैठक के दौरान रखे गए । जिसमें पश्चात यह निर्णय लिया गया कि आने वाले समय में यदि जरूरत पड़ी तो बंगला बगीचा क्षेत्र की जनता उग्र आंदोलन भी कर सकती है । वही बैठक में एडवोकेट अमित शर्मा ने यह प्रस्ताव रखा कि बंगला बगीचा क्षेत्र की जनता को एकजुट होकर अपनी ताकत दिखानी पड़ेगी तभी मामले का जनहित में समाधान होगा हमारे जनप्रतिनिधि सोए हुए हैं उन्हें जगाना होगा यदि किसी भी बंगला बगीचा वासी पर बेदखली की कार्रवाई की गई तो इसका अंजाम भुगतने के लिए जनप्रतिनिधि तैयार रहें । अंत में यह निर्णय लिया गया कि कल सुबह 11:00 बजे सभी बंगला बगीचा वासी फोर जीरो चौराहे पर एकत्रित हो कलेक्टर कार्यालय जाएंगे एवं 30 मई की डेडलाइन को तत्काल प्रभाव से खत्म करने की मांग करेंगे और व्यवस्थापन प्रक्रिया को सरल बना आमजन को राहत पहुंचाने की मांग करेंगे ।

About Surendra singh Yadav

View all posts by Surendra singh Yadav →

Leave a Reply