दिल्ली लौटने के सवाल पर कमलनाथ बोले- एम पी से हिलूंगा तक नहीं, सिंधिया पर लगाए गंभीर आरोप


कमलनाथ के बयान के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं के दिल अरमा आंसुओ में बह गए…!

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री व प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष कमलनाथ के दिल्ली लौटने व सक्रिय राजनीति से संन्यास लेने के चर्चे इन दिनों हो रहे हैं। चर्चों पर विराम लगाते हुए कमलनाथ ने दिल्ली लौटने और संन्यास लेने पर अपनी बात रखी। नवंबर में हुए एमपी विधानसभा के उपचुनाव में 27 में से सिर्फ 9 सीटें ही कांग्रेस के खाते में आईं। इसके बाद से बीजेपी के नेता कमलनाथ पर हमलावार हैं और उन्हें वापस दिल्ली की राजनीति में लौटने तक की सलाह दे रहे हैं।
बीजेपी नेताओं की इस सलाह पर कमलनाथ ने खुलकर अपनी बात रखी। कमलनाथ ने कहा कि मैं मध्य प्रदेश से हिलूंगा तक नहीं। इतना ही नहीं सक्रिय राजनीति से संन्यास लेने की बात को भी उन्होंने सिरे से खारिज कर दिया। उन्होंने कहा कि पार्टी नेतृत्व जब तक उन्हें जिम्मेदारी देगा वो उसे ईमानदारी से निभाएंगे।

खुद कहा था- लेंगे संन्यास

बता दें कि छिंदवाड़ा में एक सभा के दौरान कमलनाथ ने कहा कि जनता कहेगी तो वो राजनीति से संन्यास ले लेंगे। अपने इस बयान पर कमलनाथ ने कहा कि उन्‍होंने ऐसा नहीं कहा था। कमलनाथ बोले, ‘मैंने कहा था- यह संघर्ष का समय है। सबको संघर्ष में लगे रहना है। यदि आप (कार्यकर्ता) आराम करेंगे, तो मैं भी आराम करूंगा। सवाल दिल्ली जाने का है, तो बता दूं कि मैं मध्य प्रदेश से हिलूंगा तक नहीं।’

कमलनाथ विरोधी कांग्रेस नेताओं के अरमानों पर फिरा पानी

कमलनाथ के बयान के बाद कमलनाथ विरोधी प्रदेश कांग्रेस के नेताओं के अरमानों पर पानी फिर गया है। कमलनाथ विरोधी नेताओं को लग रहा था कि उपचुनाव में पराजय होने के बाद कमलनाथ नैतिकता के आधार पर प्रदेश अध्यक्ष व नेता प्रतिपक्ष का पद छोड़ देंगे। किन्तु कमलनाथ मध्यप्रदेश से नाता नहीं तोड़ रहे और अपने खास सिपहसालार बाला बच्चन को नेता प्रतिपक्ष बनवाना चाहते हैं और प्रदेश अध्यक्ष का पद स्वयं रखना चाहते हैं। दिग्विजय सिंह के समर्थको के दिल के अरमा आंसुओं में बह रहे हैं। हम आपको बता दे कि प्रदेश कांग्रेस में वर्चस्व की लड़ाई चल रही हैं। दिग्विजय सिंह प्रदेश में अपना रुतवा व वर्चस्व बनाना चाहते हैं और कमलनाथ अपनी पकड़ मजबूत रखना चाहते है।
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल व मोतीलाल वोरा के निधन के बाद कांग्रेस हाई कमान कमलनाथ व गेहलोत को दिल्ली बुलायेंगे। जिससे राजस्थान व मध्यप्रदेश के कांग्रेस के नेता अभी इंतजार कर रहे हैं कि कांग्रेस हाई कमान क्या फैसला लेता है। कमलनाथ ने स्प्ष्ट बयान देकर कमलनाथ विरोधी नेताओं के अरमानों पर पानी फेर दिया है।

सिंधिया पर लगाए गंभीर आरोप

कमलनाथ ने बीजेपी सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया पर गंभीर आरोप लगाए हैं। सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीजेपी में भविष्य के सवाल पर कमलनाथ ने कहा कि सिंधिया जी को बीजेपी कितना संतुष्ट कर पाएगी, उस पर उनका भविष्य निर्भर करेगा। उन्हें सेटिस्फेक्शन की राजनीति चाहिए। मैं जो चाहता हूं, वह मिले। यदि बीजेपी उन्हें यह दे पाई तो उनका भविष्य है और अगर नहीं दे पाई तो दोनों (सिंधिया और बीजेपी) का भविष्य नहीं है।

Leave a Reply