अध्यक्ष धोखाधड़ी में तीन साल की सजा और पचास हजार जुर्माने की सजा पा हाई कोर्ट जबलपुर से जमानत पर और सदस्य कर रहे नकली नोटों का धंधा

गुजरात पुलिस ने रतलाम निवासी एक पत्रकार दंपत्ति को नकली नोट के साथ हिरासत में लेकर पत्रकार संगठन (म.प्र. श्रमजीवी पत्रकार संघ) का कार्ड बरामद किया
रतलाम। गुजरात पुलिस ने रतलाम निवासी एक महिला पुरुष को हिरासत में लेकर इनके कब्जे से लाखों रुपये के नकली नोट बरामद किए हैं। इनके कब्जे से म. प्र. श्रमजीवी पत्रकार संघ का कार्ड मिला है। इस कार्ड पर रवि गुप्ता लिखा है जो जन- जन जागरण का संवाददाता और पता जय भारत नगर लिखा हुआ हैं।
पुलिस के चंगुल में आए युवक ने पुलिस को खुद का नाम रवि गुप्ता और पत्नी का नाम विभा गुप्ता बताया है।
पुलिस ने जब इनसे कड़ाई से पूछताछ की तो इन्होने अपना नाम राहुल कसेरा और पत्नी का नाम मेघा निवासी माहेश्वरी धर्मशाला के पास कसारा बाजार रतलाम बताया है।
गुजरात पुलिस के भरोसेंमंद सूत्रों के मुताबिक रतलाम से एक पति-पत्नी की जोड़ी को बुधवार को कच्छ के भुज शहर में नकली नोटों के साथ गिरफ्तार किया गया, नकली नोटों का मूल्य लगभग 12 लाख रुपये है। दंपति, राहुल कसेरा और उनकी पत्नी मेघा ने 2000 और 500 रुपये के नकली नोटों का उपयोग करके छह से सात दुकानदारों से मोबाइल फोन,कपड़े और जूते खरीद कर में खूब शापिंग की थी।
लेकिन कुछ व्यापारियों ने शक होने पर नोटों को चेक किया तो ये नोट नकली पाए गए।बस नकली नोटों की सत्यता के बारे में संदेह होने पर इस बंटी-बबली की युगल जोड़ी की किस्मत फूट गई व्यापारियों ने सीसीटीवी फुटेज चेक किया और पुलिस को जोड़े के बारे में जानकारी दी।
पुलिस ने देर रात दंपती को रेलवे स्टेशन पर रोक लिया। पुलिस ने 2,000 रुपये के 574 नोटों को 11.48 लाख रुपये के अंकित मूल्य के साथ और 500 रुपये के 125 नोटों को 62,500 रुपये के अंकित मूल्य के साथ जब्त कर लिया।
दंपति ने नकली नोटों का उपयोग करते हुए 3,700 रुपये के कपड़े और जूते के अलावा 52,000 रुपये के चार मोबाइल फोन खरीदे थे।
इन्होने पुलिस को बताया है,कि वह रतलाम के बड़े व्यापारी हैऔर रतलाम में इनका बड़ा शो-रुम भी है।
आरोपियों के अनुसार मप्र में नोट छापे जाते हैं,और दंपत्ति नकली नोटों को प्रसारित करने के लिए दूर-दूर तक जाते थे।पुलिस ने दंपति से एक कार भी जब्त की*
इधर नकली नोट के साथ हिरासत में लिए गए महिला- पुरुष से बरामद पत्रकार संगठन का कार्ड इनके पास जब्त हुआ है? रवि गुप्ता नाम का कोई पत्रकार रतलाम के इतिहास में 30 साल से पैदा ही नही हुआ है, लेकिन फिर भी म.प्र. श्रमजीवी पत्रकार संघ ने इसे कार्ड कैसे जारी कर दिया?
यहॉ यह बताना मौजू होगा,कि म.प्र. श्रमजीवी पत्रकार संघ द्वारा पान गुमठी,मीट दुकान,ठेला चालक आदि को 5-5 सौ रुपये लेकर कार्ड जारी कर दिया जाता है,और नकली तौर पर पत्रकार घोषित कर दिया जाता है
जिस रवि गुप्ता के नाम पर यह कार्ड है उसका रतलाम के दो बत्ती इलाके में बड़ा शोरुम है।पर वह पत्रकार नहीं हैं और न ही उन्होंने कभी कार्ड बनवाया फिर भी उनके नाम पर कार्ड जारी कर दिया गया
गत वर्ष इस संघ के अध्यक्ष को डाकविभाग के साथ धोखाधड़ी करने पर तीन साल की सजा और पचास हजार जुर्माना न्यायालय द्वारा किया गया था,जिसमें हाई कोर्ट से अध्यक्ष महोदय जमानत लेकर मूंछों पर ताव दे रहे हैं और हर किसी को कार्ड जारी कर अपना धंधा चला रहे हैं
गुजरात पुलिस के अनुसार वो मामले की सिलसिले वार जांच कर रहे है और संभावना है कि कुछ और नाम सामने आ सकते हैं।
बहरहाल रतलाम निवासी इस दंपति ने रतलाम का नाम समूचे गुजरात में चर्चित कर दिया है।

Leave a Reply