नहीं रहे भारतीय इतिहास के गौरव पुरुष प्रोफेसर (डॉ.) रामकुमार अहिरवार

विक्रम विश्वविद्यालय के डीन, भारतीय इतिहास विभाग के विभागाध्यक्ष एवं बहुजन समाज का गौरव प्रो.(डॉ.) आर.के अहिरवार जी का इंदौर के मेदांता अस्पताल में निधन हो गया।

परिचय

आचार्य डॉ.रामकुमार अहिरवार का जन्म मध्यप्रदेश के जबलपुर जिले के ग्राम सगड़ा (झपनी) (RFRC) में 10 अगस्त 1968 में हुआ।

वर्तमान में आप विभागाध्यक्ष एवं डीन (DSW) प्राचीन भारतीय इतिहास, संस्कृति एवं पुरातत्व अध्ययनशाला, विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन में पदस्थ थे। आपके पास अधिष्ठाता विद्यार्थी कल्याण विभाग, निदेशक शारीरिक शिक्षा एवं निदेशक-शारीरिक शिक्षा एवं क्रीड़ा विभाग, पुस्तकालयाध्यक्ष – महाराजा जीवाजीराव केंद्रीय पुस्तकालय, समन्वयक- इग्नू उज्जैन का भी अतिरिक्त प्रभार था।
आपके द्वारा स्वरचित पुस्तकों में मालवा की बौद्ध संस्कृति, सीहोर जिले में बौद्ध धर्म, बौद्ध धर्म का इतिहास, उज्जैनी में बौद्ध धर्म, उज्जैनी की बौद्ध नारियां, उज्जैनी के बौद्ध आचार्य, मध्यप्रदेश में बौद्ध धर्म का उद्भव और विकास (प्र.), संत रविदास जीवन और दर्शन, उज्जयिनी और संत रविदास, भारतीय संस्कृति: विविध आयाम, भारतीय कला: विविध आयाम, त्रिपुरी की मूर्ति कला उल्लेखनीय है ।

संपादित पुस्तकों में सामाजिक संरचना : विविध चरण, शिल्पियों का गौरवशाली इतिहास, उज्जैन और उसका गौरवशाली अतीत, उज्जैनी की सांस्कृतिक परंपरा, मध्यप्रदेश में जैन पुरातत्व, आर्थिक विकास के ऐतिहासिक पक्ष, भारतीय साहित्य एवं कला में गौण एवं लोक देवी-देवता, भारतीय लोक संस्कृति एवं पुरातत्व, महाकाल और सिंहस्थ,
Historical Aspects of the Economic Development, Minor & Folk Deities in Indian Literature & Art प्रमुख हैं ।

इसके अतिरिक्त 150 से अधिक राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर शोध-पत्रों का प्रकाशन किया जा चुका हैं।
आपने अनेक राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय शोध संगोष्ठियों का निर्देशन एवं सहभागिता की ।

अंतिम संस्कार इंदौर में
दिनांक 9/04/2021 दिन-शुक्रवार, प्रातः 10.00 बजे सयाजी मुक्ति धाम इंदौर में डॉ साहब का दाह संस्कार किया जाएगा।

Leave a Reply