छतरपुर के बंधरगढ में अनुसूचित जाति की महिला को शीघ्र न्याय दों!


मूलचंद मेंधोनिया सहसंपादक कबीर मिशन समाचार पत्र भोपाल


भोपाल। मध्यप्रदेश में अनुसूचित जाति के साथ अन्याय, अत्याचारों के थमने का नाम नहीं ले रहा है। आये दिन दिल दहलाने वाली घटना हो रही है। सरकार और प्रशासन मौन है। अखिर माजरा है क्या सदियों से सताये, प्रताड़ित किये गये अनुसूचित जाति वर्गों पर जातिगत आधार पर अत्याचार किया जाता है। मध्यप्रदेश के बुन्देलखण्ड की अभी ताजी खबर है कि अनुसूचित जाति के परिवार ने कोरोना काल के समय काम करने से इंकार करने पर सबसे पहले अनुसूचित जाति परिवार की महिलाओं के साथ जानवरों से भी बदतर अमानवीय बर्बरता पूर्वक जुल्म किये गये हैं।
दबंग पटैल सम्पन बताये जा रहे हैं। तथा राजनैतिक सत्तारुढ़ से संबंधित होने के कारण महिला के साथ जो अन्याय और निर्वस्त्र करके अमानवीय क्रत्य कुछ लोगों के मिलकर यह कार्य किया है। जिसका सोशल मीडिया में वायरल होना ही घोर आपत्ति जनक है। आज दिनांक 28 मई को घटना के भारी विडियो और मैसेज आने के बाद भी सरकार और प्रशासन की कोई भी प्रतिक्रिया सामने नहीं आई है।
बुन्देलखण्ड का यह क्षेत्र भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष और वहां के सांसद श्री बी डी शर्मा के सांसदीय क्षेत्र की अमानवीय घटना है। प्रदेश में इतनी बड़ी अमानवीय घटना होने के बाद अभी भी आरोपियों के खिलाफ कोई कार्यवाही न होना साफ जाहिर होता है कि अनुसूचित जाति की महिलाएं सुरक्षित नहीं है। कानून नाम की कोई चीज़ नहीं है। सूबे के मुख्यमंत्री आये समय प्रदेश की महिलाओं को बहिन एवं भांजी कहने को आलाप करते हैं। अब क्या? जब पांच दिन होने वाले हैं और घटना भी भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष के क्षेत्र की होने के कारण हीलाहवाली की जा रही है। मध्यप्रदेश के अनुसूचित जाति वर्ग के संगठनों के द्रारा उक्त घटना को लेकर भारी दुःख पहुंचा है। प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से अपील की गई है कि आरोपीओ पर सक्त एटोँसिटी एक्ट के तहत गिरफ्तारी हो एवं शीघ्र आरोपियों को फांसी के फंदे पर लटकाये जाये। अनुसूचित जाति की जिस बहन, बेटी पर जो अन्याय किये गये हैं। सरकार के मुखिया को चाहिए कि बिना संकोच किये सक्त कार्यवाही सुनिशचित करा देना चाहिए ताकि घटना को लेकर अनुसूचित जाति के प्रदेश की जनता जनार्दन रोड, सड़क और और सरकार के बंगले को घेरने, धरना प्रदर्शन की नौबत न आने दी जाये। वैसे ही प्रदेश में हर नागरिक कोरोना महामारी से दुखित है। मुख्यमंत्री जी शीघ्र स्वयं अपनी निगरानी में समस्त कार्यवाही कराये ताकि आपके द्रारा बनाये फांसी की सजा आरोपियों को जल्द की जाये।

Leave a Reply