अनुसूचित जाति के लोगों ने किया पुलिस अधीक्षक कार्यलय छतरपुर का घेराव


मूलचंद मेंधोनिया सहसंपादक कबीर मिशन समाचार पत्र भोपाल


भोपाल। कल 1 जून को बांदरगढ तहसील राजनगर थानान्तर्गत अनुसूचित जाति की महिला को बंधक बनाकर बेरहमी से मारपीट और उसके साथ दुष्कर्म किये जाने के मामले को पुलिस जिला छतरपुर के द्रारा दबाये जाने पर महिला सामने आई। उसने सभी को बताया कि न सिर्फ़ मारपीट बल्कि उसके साथ बलात्कार जैसा दुष्कर्म भी किया गया है। महिला ने आपबीती पुलिस को बताई किन्तु पुलिस ने नही लिख कर दबंग अपराधियों का बचाव किया है। जो कि पुलिस का रवैया अनुसूचित जाति के शोषण करने का रेखांकित करता है।
छतरपुर में एक जून को अनुसूचित जाति आयोग के सदस्य प्रदीप अहिरवार एवं पूर्व मंत्री सुरेन्द्र चौधरी ने पीड़ित महिला से मुलाकात की। तब महिला ने बताया कि उसके साथ दुष्कर्म भी किया गया है। पुलिस को सब बताया लेकिन नहीं ने एफआईआर में दर्ज नहीं किया गया है। पीड़िता ने कहा कि गांव के पटैल काफी दबंग और पहुंच वाले है। उनको बचाने और संरक्षण देने की मंशा से मेरे द्रारा बताई गई रिपोर्ट नहीं लिखी गई है। अहिरवार समाज के प्रतिनिधि ने इस गंभीर और अत्याचार के मामले में जिला छतरपुर पुलिस प्रशासन का घेराव कर मांग की है कि महिला के साथ हुये दुष्कर्म की जांच करवाई जाये भीम आर्मी के देवीदीन अहिरवार ने छतरपुर जिला के अहिरवार समाज के साथ पुलिस अधीक्षक का घेराव किया। पीड़ित महिला का शीघ्र टेस्ट करवाया जाए और एफआईआर में दुष्कर्म की धारा लगा कर आरोपियों के खिलाफ सक्त कार्यवाही होनी चाहिए। ऐसे अत्याचारीओं को फांसी हो ताकि किसी दीन हीन कमजोर वर्ग की महिलाओं और उसके परिवार पर जुल्म करने की कोई भी हिम्मत न कर सके।

Leave a Reply