आवारा मवेशियों के हमले से घायल हुई छात्रा, आर्थिक मदद की मांग करते हुए आगे आई महिलाएं

आवारा मवेशी के हमले में घायल छात्रा के इलाज के लिए आर्थिक सहयोग की मांग को लेकर चढ़ार समाज की महिलाओं ने नगर निगम आयुक्त को ज्ञापन सौपा। अखिल भारतीय सर्व चढ़ार सभा की महिला इकाई जयश्री चढ़ार की अगुवाई में समाज की महिलाओं ने बताया कि पिपरिया पंतनगर निवासी कक्षा 10वीं की छात्रा दीक्षा चढ़ार 17 वर्ष को 8 मार्च को सुबह करीब साढ़े 8 बजे कोचिंग के लिए काकागंज जा रही थी। तभी राधे-राधे गार्डन के पास पंतनगर वार्ड में आवारा मवेशी ने उस पर हमला कर दिया। हमले में दीक्षा को गंभीर चोटें आई। जिसके बाद दीक्षा गंभीर रूप से घायल हो गई थी। दीक्षा चढ़ार को इलाज के लिए मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया, जहां उसके स्वास्थ्य में कोई सुधार न होने के बाद उसे शहर के निजी अस्पताल में भर्ती करया गया है। दीक्षा के परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है। वह इलाज कराने में असमर्थ है। समाज द्वारा आर्थिक सहयोग किया जा रहा है। ज्ञापन में नगर निगम आयुक्त और कलेक्टर से दीक्षा के परिजनों को 10 लाख रुपए आर्थिक क्षतिपूर्ति व इलाज की मांग की है। साथ ही आवारा मवेशियों को सड़क से दूर किए जाने की भी बात कही गई है। ज्ञापन सौपने वालों में सुनीता, आरती, ममता, रीना, लक्ष्मी, आशा, नीमा सहित बड़ी संख्या में चढ़ार समाज की महिलाएं उपस्थित थीं।

आवारा मवेशियों से परेशान लोग
आवारा मवेशी आए दिन सागर शहर में रोड पर राहगीरों पर हमले कर उन्हें घायल कर रहे हैं। इस पर नगर निगम सागर द्वारा कोई भी कार्रवाई नहीं की जा रही। ज्ञापन के दौरान दीक्षा के परिजन सहित बड़ी संख्या में समाज की महिलाएं उपस्थित थीं। नगर निगम द्वारा आवारा मवेशियों पर कार्रवाई के नाम पर इक्का दुक्का मवेशियों को पकड़ कर दिखावे की कार्रवाई कर दी जाती है, लेकिन शहर में मुख्य बाजार से लेकर गली, मोहल्लों तक में आवारा मवेशी अब लोगों के लिए परेशानी बनते जा रहे हैं। जिला प्रशासन भी इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रहा है।

सागर से अभिषेक रजक रिपोर्ट

Leave a Reply