“कबाड़ से जुगाड़ कर तैयार होगी शिक्षक सहायक सामग्री

जिला स्तरीय निर्माण प्रतियोगिता और मेले सोमवार को

विज्ञान की अवधारणाओं को समझाते हुए शिक्षक विद्यार्थियों के साथ आसपास की अनुपयोगी सामग्री से तकनीकी, इंजीनियरिंग और गणना का उपयोग कर टीएलएम सामग्री निर्मित करेंगे। इससे विद्यार्थियों और शिक्षकों में एक-दूसरे से सीखने-समझने की कला और कौशल विकसित होंगे। संचालक राज्य शिक्षा केंद्र श्री धनराजू एस. ने बताया कि प्रारंभिक स्तर के शिक्षकों द्वारा बच्चों की गुणवत्ता बढ़ाने और विज्ञान की कठिन अवधारणाओं को स्पष्ट करने के लिए विभिन्न प्रकार की सहायक सामग्री का उपयोग किया जाता है। यह सामग्री शिक्षक द्वारा विषय एवं विषय-वस्तु के अनुरूप लो कॉस्ट, नो कॉस्ट मटेरियल से निर्मित की जाती है। इस तरह यह सामग्री कबाड़ से जुगाड़, बेकार वस्तुओं से प्राकृतिक और कम लागत सामग्री से विकसित की जाती है।  

श्री धनराजू ने बताया कि इस उद्देश्य को लेकर टीएलएम (ट्रेनिंग लर्निंग मैटेरियल) शिक्षक सहायक सामग्री निर्माण प्रतियोगिता और मेले शाला, जन शिक्षा केंद्र, ब्लॉक, जिला, संभागीय और राज्य स्तर पर किए जा रहे हैं। जिला स्तर की प्रतियोगिता एवं मेले 14 मार्च को होंगे। प्रत्येक ब्लॉक से 3-3 उत्कृष्ट प्रादर्श भाषा, गणित और विज्ञान में जिला स्तर पर प्राप्त होंगे। इन्हीं में से प्रथम, द्वितीय और तृतीय कैटेगरी का चयन किया जाकर उसे संभाग स्तर पर भेजा जाएगा।

जिलों में टीएलएम शिक्षक सहायक सामग्री की प्रदर्शनी कक्षा पहली से नौवीं तक के विद्यार्थी, शिक्षक, जन-प्रतिनिधि और आमजन के अवलोकन के लिए खुली रहेगी।

Leave a Reply