इस भयानक महामारी में तस्लीम खान बांट रही है गरीबों को राशन

भोपाल से संतोष योगी की खबर देशभर में कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए लागू लॉकडाउन से उत्पन्न आर्थिक स्थितियां उन लोगों को बुरी तरह प्रभावित करेंगी, जो इस महामारी से तो शायद बच जाएंगे, लेकिन रोज़मर्रा की आवश्यक ज़रूरतों का पूरा न होना उनके लिए अलग मुश्किलें खड़ी करेगा. लेकिन इसी के साथ राजधानी भोपाल के अशोक गार्डन क्षेत्र के इकबाल कॉलोनी में मौजूद डेफोडिल्स हायर सेकेंडरी स्कूल की अध्यक्ष तसनीम खान तथा उनके बेटे इब्राहिम खान द्वारा 16बमार्च 2020 से जब से कोरोना के चलते भारत में लोक डाउन लगाया गया था तब से लगातार तसनीम खान गरीब यतीम बेसहारा लोगों को भोपाल में मौजूद झुग्गी बस्तियों,में मौजूद गरीब तबके के लोगों को राशन दान कर मदद कर रही हैं साल 2020 से मई 2021 तक तसनीम खान लगभग लाखों घरों तक महीने भर का राशन वितरित कर चुकी हैं सोसायटी के अध्यक्ष और उनके बेटे इब्राहिम खान दोनों ही मिलकर भोपाल के अलग-अलग इलाकों में जाकर और वहां मौजूद झुग्गी बस्तियों में जाकर आम लोगों का हाल जानती हैं और वहां पर परेशान लोगों को देखकर उनको महीने भर का राशन मुहैया करवाती हैं यही नहीं तसनीम खान का कहना है कि भारत में रहने वाला हर एक व्यक्ति जो कोरोना महामारी के चलते बेरोजगार हुआ है और जिन के हालात काफी बदतर हैं और जिनको अपने बच्चों को लेकर और घर को चलाने को लेकर काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है उन सब तक राशन पहुंचाने के लिए तसनीम खान अपनी एक सामाजिक संस्था डेफोडिल्स एजुकेशन एंड वेलफेयर सोसायटी के द्वारा अपने रिश्तेदारों से अपने भाई और बहनों से गुजारिश करती हैं और समाज में लोगों से अपनी संस्था के लिए डोनेशन करने का आग्रह करती हैं जिससे वह जरूरतमंद लोगों के लिए राशन का इंतजाम कर सके बता दे
तसनीम खान अशोका गार्डन मैं स्थित डेफोडिल्स हायर सेकेंडरी स्कूल चलाती हैं और स्कूल के साथ-साथ स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों को शिक्षक शिक्षिकाओं का स्कूल में काम करने वाले कर्मचारियों का ऑटो ड्राइवर और सफाई कर्मचारियों का साथ में ख्याल रखती हैं इसी के साथ इनका कहना है समाज मेरे अंग एक हिस्सा है जिस का ख्याल रखना मेरा कर्तव्य है और मैं हमेशा ही अपने कर्तव्य को पूर्ण रूप से निभाती रहूंगी तस्लीम खान लगातार 430 दिनों से गरीब यतीम बेसहारा लोगों तक राशन पहुंचा रही हैं और रमजान में होने वाले तमाम खर्चों को रोककर गरीब यतीम बेसहारा लोगों की मदद करना बेहतर समझती है और इससे मुझे खुशी महसूस होती है मेरे द्वारा की गई मदद से मुझे फक्र महसूस होता है और मैं अपनी जिंदगी में हमेशा ही तमाम गरीब यतीम बेसहारा लोगों की मदद करना चाहती हूं
इसी के साथ साथ तसनीम खान समाज के उज्जवल भविष्य के लिए स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों को और टीचर्स का आपस में समन्वय बनाए रखने के लिए बच्चों को ऑनलाइन क्लास दे रही हैं और स्कूल में पढ़ने वाले सारे बच्चे लगातार तसनीम खान से जुड़े रहते हैं शिक्षक शिक्षिकाएं अपने बच्चों को साल भर की पढ़ाई खराब ना हो जिसके चलते हमेशा ही ऑनलाइन टेस्ट लेना ऑनलाइन ट्यूशन देना और ऑनलाइन उनका होमवर्क करवाना जिम्मेदारी पूर्वक अपने कर्तव्य को निभा रही हैं।
इसी के साथ तसनीम खान समाज में एक जागरूक महिला होने के साथ-साथ महिला सशक्तिकरण का एक बड़ा उदाहरण है इन्होंने अपने सामाजिक संस्था के द्वारा अलग-अलग क्षेत्रों में काफी नाम को प्रकाशित किया है तसनीम खान शिक्षा के क्षेत्र में कहें या कला की बात करे गरीब महिलाओं को सिलाई बुनाई,, कड़ाई और कंप्यूटर की शिक्षा ,जैसे हुनर प्रदान करती है जिससे गरीब महिलाएं हुनर प्राप्त कर अपने पैरों पर खड़ी हो सके -और इसतरह के सामाजिक कार्यक्रम के मामले में लोगों के उज्जवल भविष्य के लिए हमेशा ही अपने आप को आगे बनाए रखती हैं और तस्लीम खान का कहना है कि मैं अपने बेटे इब्राहिम खान को भी इसी तरह सामाजिक कार्य में आगे रखना चाहती हु और मैं चाहती हूं कि मेरा बेटा हमेशा ही अपने कर्तव्य को पूरा करता रहे और मैं ईश्वर से कामना करती हूं कि जल्द से जल्द इस कोरोना महामेरी को खत्म कर सभी को खुशहाल जिंदगी प्रदान करें।।।

Leave a Reply