Saraswati jayanti:वसंत पंचमी पर यहां कराया जाएगा ब्राह्मी बूटी पान

चारगांव में सात वर्ष से हो रहा है आयोजन

चारगांव में सात वर्ष से हो रहा है आयोजन

छिंदवाड़ा. वसंत पंचमी का दिन ज्ञान की देवी सरस्वती का माना जाता है। इस दिन उनकी पूजा अर्चना कर कई जगह गुरुकुलों और स्कूलों में बच्चे विद्याध्ययन शुरू करते हैं। इस दिन तीक्ष्ण बुद्धि के लिए ब्राह्मी बूटी का पानभी कराया जाता है। इस जड़ी के सेवन से बुद्धि प्रबल होती है ऐसा कहा जाता है। कईं स्थानों पर इस दिन विशेष आयोजन कर इसके लिए किए जाते हैं। छिंदवाड़ा जिले के चारगांव में पिछले सात वर्ष से यह आयोजन हर साल इस दिन किया जाता है। इस बार 30 जनवरी वसंत पंचमी के दिन ब्राह्मी सोपान का कार्यक्रम रखा गया है। वैद्य पं भुवनेश कृष्ण शास्त्री की अगुआई में यह कार्यक्रम शिवमंदिर में किया गया है। आयुर्वेद समिति यह आयोजन कर रही है। पं शास्त्री ने बताया कि ब्राह्मी पान का यह आठवां वर्ष है। उन्होंने बताया कि सुबह सात बजे से विधि विधान पूजा अर्चना के साथ इसका सेवन कराया जाएगा। पं शास्त्री ने कहा कि इस बूटी को विशेष विधि से सेवन के योग्य बनाया जाता है। इसे तीन वर्ष से लेकर पचास वर्ष तक की उम्र का व्यक्ति सेवन कर सकता है। उन्होंने कहा कि वैसे तो पूरे माघ के महीने में ब्राह्मीपान का महत्व बताया गया है लेकिन वसंत पंचमी का दिन इनसे सबसे विशेष है। इस दिन सुबह सेवन करने वालों से स्नान ध्यान कर और निराहार रहकर सुबह सफेद वस्त्र में आने के लिए कहा गया है।
आचार्य कुन्दकुन्ददेव का मनेगा जन्मोत्सव
सकल जैन समाज माघ शुक्ल पंचमी गुरुवार 30 जनवरी को विविध अनुष्ठानों के साथ दिगम्बर जैनाचार्य कुंदकुंददेव का मंगलकारी जन्मोत्सव मनाएगा। बसंत पंचमी पर महोत्सव का शुभारंभ सुबह सात बजे गोलगंज स्थित आदिनाथ जिनालय में श्रीजी के प्रक्षालन से होगा। इसके बाद देव शास्त्र गुरु पूजन के बार आचार्य कुन्दकुन्द पूजन होगा। इसके बाददश लक्षण विधान किया जाएगा। आचार्य के जीवन पर विशेष संगोष्ठी के साथ मंगल प्रवचनों का लाभ सकल समाज को प्राप्त होगा।

,

Leave a Reply