सरकार शिक्षा जगत, उद्योग तथा सार्वजनिक संस्थानों के बीच सहयोग के प्रयास के अतिरिक्त उभरते हुए अवसरों में अनुसंधान और विकास के लिए योगदान करेगी

आज संसद में केन्‍द्रीय वित्त एवं कॉरपोरेट कार्य मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण द्वारा प्रस्तुत केन्‍द्रीय बजट 2022-23 में उभरते हुए अवसरों की अपार संभावना को स्वीकार करते हुए कहा गया है कि घरेलू क्षमता सृजन तथा अनुसंधान और विकास के प्रोत्साहन में सरकार का दृष्टिकोण समर्थनकारी नीतियों, हल्के विनियमों और सहायता प्रदान करने वाले कदमों से निर्देशित होगा।

बजट प्रस्तुत करते हुए श्रीमती निर्मला सीतारमण ने इस बात पर बल दिया कि इन उभरते हुए अवसरों में अनुसंधान और विकास के लिए शिक्षा जगत, उद्योग तथा सार्वजनिक संस्थानों के साथ सहयोग के प्रयासों के अतिरिक्त सरकार की ओर से भी योगदान किया जाएगा। उन्होंने कहा कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, भू-स्थानिक तंत्र तथा ड्रोन, सेमीकंडक्टर और इसके परितंत्र, अंतरिक्ष अर्थव्यवस्था, जेमोनिक्स तथा फॉर्मास्युटिकल्स, हरित ऊर्जा तथा स्वच्छ मोबीलिटी प्रणालियों में बड़े पैमाने पर सतत विकास में सहायता देने और देश को आधुनिक बनाने की अपार क्षमता है। यह क्षेत्र युवाओं को रोजगार के अवसर प्रदान करते हैं और भारतीय उद्योग को और अधिक सक्षम तथा स्पर्धी बनाते हैं।

Leave a Reply