सीहोर में बारिश से पहले ही धंस गए सीवेज के चैंबर

DG NEWS SEHORE

सीहोर से सुरेश मालवीय की रिपोर्ट 8871288482

सीहोर । शहर में सीवेज लाइन शहर को खूबसूरत और व्यवस्थित करने के लिए बनाई गई थी। जिसका उद्देश्य था कि शहर में बहने वाली नाली से भी निजाद मिल पाएगी, लेकिन सीवेज शहर के लिए मुसीबत का कारण बन गई है। सीवेज लाइन बिछाने में हुए घटिया कार्य की पोल पहली बारिश ने ही खोल दी थी। ऐसे में जहां लोगों के घरों में पानी घुस गया। सीवेज के बाद सड़कों की मरम्मत इस तरह की गई कि अधिकांश जगह सड़कें पूरी तरह से धंस गई थीं। सीवेज लाइन बिछाए हुए तीन साल बीत गए, इसके बाद भी शहर में सड़कें बैठ रही हैं। वहीं अभी तो बारिश भी नहीं हुई है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि बारिश में भी सड़कें बैठेंगी। जो परेशानी का कारण बनेंगी।

2016 से शहर में 54 करोड़ की लागत से 161 मिली की सीवेज लाइन बिछाई गई। सीवेज निर्माण का कार्य 2017 में पूरा हुआ है। भूमिगत बिछाई गई लाइन में एक मीटर से आठ मीटर लग गड्ढे किए गए। सीवेज लाइन सड़क के बीच में बिछाई गई है। जिससे सड़कें क्षतिग्रस्त हुई थी। जिनकी ठीक से मरम्मत नहीं की गई। सीवेज निर्माण कंपनी ने लाइन बिछाने के बाद गड्ढे में मिट्टी भर दी और उपर से सड़क की मरम्मत कर दी। ऊपर से तो सड़क दुरुस्त हो गई, लेकिन अंदर से खोखली रह गई। ये खोखली सड़कें वाहनों के वजन और पानी के कारण बैठ जाती है। जिससे सड़क में तीन फीट तक गहरे गड्ढे हुए थे। बीते साल बारिश में भी सड़कें बैठ गई थीं। इस बार भी बारिश में सड़कें बैठ सकती है। इस बात का अंदाजा इसलिए लगाया जा रहा है। क्योंकि शहर के कई हिस्सों में अभी भी सड़कें बैठ गई हैं। शहर के बस स्टैंड से इंग्लिशपुरा मार्ग पर सड़क कई जगह बैठ गई हैं। वहीं मुख्य बाजार, मुर्दी रोड, इंग्लिशपुरा, बस स्टैंड से लाल मस्जिद रोड, सहित गंज क्षेत्र में भी कई जगह सड़कें बैठी हुई हैं

पांचवे साल भी बैठ रहे चैंबर

शहर में सीवेज का निर्माण कार्य 2016 में शुरू किया गया था। निर्माण कार्य को पांच साल हो गई हैं। इसके बाद भी अब तक सीवेज के गड्ढे बैठ रहे हैं। जिससे लोगों को परेशानी आ रही है। जबकि कई चैंबर तो ऐसे हैं। जो पहले भी धंसे थे। उनकी मरम्मत भी की गई थी, लेकिन वो फिर से बैठने लगे हैं। जिसका कारण निर्माण के दौरान गड्ढों की भर्ती ठीक से न किया जाना है। यह समस्या निरंतर बनी रहेगी और यह समस्या बारिश में बढ़ जाती है।

आधा फीट तक धंसे चैंबर

सीवेज लाइन के बैठने के साथ ही अब शहर के कुछ हिस्सों में चैंबर भी जमीन में बैठने लगे हैं। शहर के मुरली रोड पर कई चैंबर बैठ गए हैं। चैंबर सड़क के लेवल में बनाए गए थे, लेकिन अब कई जगह चैंबर आधा फीट नीचे बैठ गए हैं और कई जगह इससे भी ज्यादा। चैंबर सिर्फ यहीं नहीं बैठे हैं। इसके अलाव भी शहर के कई हिस्सों में भी चैंबर सड़कों के लेवल से नीचे देखे जा सकते हैं

बार-बार किया जा रहा मरम्मत पर खर्च

सीवेज लाइन बिछाने के लिए एजेंसी ने सड़कें खोदी। सीवेज लाइन डालने के बाद सड़कों की मरम्मत की गई। यह काम सीवेज निर्माण एजेंसी ने ही किया। निर्माण कार्य में सड़क निर्माण के लिए भी राशि दी गई थी, लेकिन निर्माण एजेंसी ने अच्छा काम नहीं किया। इसके बाद नपा ने सड़कों का निर्माण किया। नपा ने निर्माण तो किया, लेकिन एजेंसी ने गड्ढों की भर्ती ठीक से नहीं की थी। इसलिए सड़कें फिर से बैठ गई।

सीवेज के कारण सड़कें यदि बैठती हैं तो उन्हें दुरुस्त कराया जाएगा। सीवेज के बाद जो भी सड़कों का निर्माण किया गया है वो गुणवत्तापूर्ण किया गया है। इसलिए इसकी संभावना बहुत कम हैं।

संदीप श्रीवास्तव, सीएमओ नगर पालिका सीहोर

About सुरेश मालवीय इछावर DG NEWS

View all posts by सुरेश मालवीय इछावर DG NEWS →

Leave a Reply