3 किलोमीटर दूर से पानी लाने को मजबूर ग्रामीण

DG NEWS SEHORE

सीहोर से सुरेश मालवीय की रिपोर्ट

सीहोर इछावर । जल स्रोत सूखने से बूंद-बूंद पानी के लिए ग्रामीणों को परेशान होना पड़ रहा है। मशक्कत गर्मी ने एक ओर जहां लोगों को हलाकान कर दिया है। ऐसे में जल स्रोतों के दम तोड़ देने के कारण लोगों को भीषण जल संकट का सामना करना पड़ रहा है। सीहोर के इछावर ब्लॉक की सबसे बड़ी ग्राम पंचायत भाऊंखेड़ी में ग्रामीणों को गांव से बाहर तीन किलोमीटर दूर खेतों से पानी लाने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। इसके बावजूद भी न तो प्रशासन का इस ओर ध्यान है। और न ही जनप्रतिनिधियों का कोई भी ग्रामीणों की सुध लेने को तैयार नहीं है। सात हजार की आबादी वाले ब्लॉक के सबसे बड़े गांव भाऊंखेड़ी में ग्राम के अंदर नहीं एक भी पानी का स्रोत सब लोग कुओ पर निर्भर हैं। संसाधन होने के बाद ग्राम पंचायत प्यासी आवाम को पानी मुहैया कराने में नकामयाब हो रही है लोग साईकल से गांव से तीन किलोमीटर दूर पीर महाराज की दरगाह से पानी ला रहे हैं। इस ओर पीएचई विभाग का ध्यान नहीं होने से ग्रामीणों में खासा आक्रोश व्याप्त हैं। ग्राम की नल जल योजना पूरी तरह से बंद है तहसील के सबसे बड़े गांव गांव भाऊंखेड़ी में भीषण जल संकट की स्थिति निर्मित है ग्रामीण दूरदराज से खेतों से पानी की व्यवस्था करना पड़ रही है। ऐसे में उनका पूरा दिन पानी की व्यवस्था करने में ही गुजर रहा है। ग्रामीण राकेश वर्मा, शुभम वर्मा ने बताया कि ग्राम पंचायत और पीएचई विभाग की लापरवाही के कारण गांव में जल संकट की स्थिति निर्मित हुई है। जनवरी माह से ही गांव की नल जल योजना बंद पड़ी है।

Leave a Reply