ग्राम तोरनिया के अनाथ बच्चों के घर पहुंचा जिला प्रशासन

बच्चों के पिता की करोना से हुई थी मृत्युमाता का पहले ही हुआ था निधन

DG NEWS SEHORE

सीहोर से सुरेश मालवीय की रिपोर्ट

जिला पंचायत सीईओ एवं अपर कलेकटर ने दिया बच्चों को 5000 हजार रुपये प्रतिमाह आर्थिक सहायता का स्वीकृति पत्र

सीहोर । सीहोर जिले के ग्राम पंचायत छापरी के गांव तोरनिया निवासी बालिका मंजू और राजकुमार अहिरवार के पिता रामगोपाल अहिरवार की 7 मई 2021 को कोरोना से मृत्यु हो गयी। माता श्रीमती नानीबाई का पहले ही निधन हो गया था। माता-पिता की मृत्यृ ने इन्हें झकझोर कर रख दिया, दोनों की समझ में नहीं आ रहा था कि अब क्या करें। मुसीबत की इस घड़ी में जिला प्रशासन की ओर से जिला पंचायत के मुख्य कार्यपाल अधिकारी और अपर कलेक्टर श्रीमती गुंचा सनोबर मंजू और राजकुमार के घर पहुंचे। उन्होंने कहा कि दु:ख की इस घड़ी में प्रशासन उनके साथ है।

श्री सिंह एवं श्रीमती गुंचा सनोबर ने कहा कि उनकी कठिनाईयों को देखते हुए सरकार ने मुख्यमंत्री कोविड बाल कल्याण योजना के तहत 5000 रूपये प्रतिमाह की आर्थिक मदद का स्वीकृत की है। उन्होंने स्वीकृत आदेश की प्रति बच्चों को दी। उन्होंने बच्चों से उनकी पढ़ाई के बारे में जानकारी ली। साथ ही उन्हें खद्यान्न भी दिया गया। दु:ख की इस घड़ी में जिला प्रशासन के लोगों को को अपने घर पाकर दोनों बच्चे भावव्हि्वल हो गये। जिला कार्यक्रम अधिकारी श्री प्रफुल्ल खत्री ने बताया कि मुख्यमंत्री कोविड-19 बाल कल्याण योजना के तहत जिले आठ बच्चों का चिन्हांकन किया जा चुका है। इस अवसर पर एसडीएम रवि वर्मा भी उपस्थित रहे ।

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा ऐसे बच्चों को आर्थिक, खाद्य एवं शिक्षा सहायता देने का निर्णय लिया है, जिनके माता-पिता की कोविड-19 से आकस्मिक मृत्यु हो गई है। ऐसे सभी बच्चों के लिये राज्य शासन ने मुख्यमंत्री कोविड-19 बाल-कल्याण योजना के आदेश जारी कर तत्काल प्रभाव से योजना को प्रदेश में लागू कर दिया है। कलेक्टर चन्द्र मोहन ठाकुर ने ऐसे बच्चे जिनके माता-पिता अथवा अभिभावक की कोविड से मृत्यु हुई हो, ऐसे पात्र सभी बच्चों की जानकारी एकत्रित कर त्वरित कार्यवाही करने के निर्देश दिए हैं।

Leave a Reply