कोलारस में कुपोषण का कहर: फिर एक अतिकुपोषित बच्चा मिला

बी.एल शाक्य, ब्यूरो चीफ

हार्दिक गुप्ता हैप्पी/कोलारस। खबर जिले के कोलारस अनुविभाग से आ रही हैं कि कोलारस क्षेत्र में महिला बाल विकास कुपोषण से जंग हार गया है। लगातार कुपोषित बच्चे मिलने की खबर आ रही है। अभी पिछले 22 सितम्बर को कोलारस नगर के ही 22 कुपोषित बच्चो को चिन्हित करते हुए उन्है एनआरसी में भर्ती कराया गया था।
महिला बाल विकास विभाग का दावा हैं कि उनका विभाग लगातार कुपोषण से लड रहा है। सतत निगरानी रखी जा रही हैं विभाग की आंगनबाडी कार्यकर्ता घर-घर जाकर बच्चो का चैकअप कर रही हैं। जो भी बच्चा कुपोषित लगता हैं उसे तत्काल हर संभव चिकित्सा सुविधा दी जाती हैं।


लेकिन विभाग का यह दावे की पोल धरातल पर खुल जाती है। कोलारस अनुविभाग के विजयपुरा गांव थाना रन्नौद में आने वाले गांव मे एक अतिकुपोषित बच्चा मिला हैं। बच्चे का नाम प्रिंस पुत्र करण आदिवासी हैं उम्र 8 माह बताई जा रही हैं। कुपोषण के कारण यह बच्चा अभी बैठ भी पाता है। कुल मिलाकर महिला बाल विकास विभाग के करोडो के बजट पर कुपोषण भारी हैं।  

इन गांवों में सितंबर माह में मिले थे कुपोषित बच्चे इलाज के लिए लाए गए बच्चे

कोलारस क्षेत्र के ग्राम गोपालपुरा, गुगवारा, शंकरगढ़, कूढ़ा, सरजापुर, भड़ौता, बैरसिया, सनवरा सहित अनेक गांवों में प्रशासन की टीम कुपोषित बच्चों को चिन्हित करने पहुंची। इन गांवों से दर्जनों बच्चों को ट्रैक्टर-ट्रॉली में उनके माता-पिता के साथ लेकर प्रशासन की टीम दोपहर बाद कोलारस स्वास्थ्य केंद्र पहुंचें थे। यहां बच्चों का परीक्षण किया गया और जो बच्चे गंभीर कुपोषित थे उनको एनआरसी में भर्ती कराया गया था।

Leave a Reply