मुख्यमंत्री श्री Shivraj Singh Chouhan ने आज स्मार्ट पार्क में सामाजिक

संस्था ‘शिव सोशियो कल्चर सोसायटी’ के साथी श्री शिव कुमार कटारिया, सुश्री पूजा कटारिया, सुश्री प्राची पठारिया के साथ बादाम और मौलश्री का पौधा लगाया।

बादाम में प्रोटीन और फाइबर होने की वजह से ये सेहत के लिए फायदेमंद होता है। मौलश्री भी आयुर्वेद में गुणकारी माना गया है।

बादाम एक मेवा है। तकनीकी दृष्टि से यह बादाम के पेड़ के फल का बीज है। बादाम के पेड़ में गुलाबी और श्वेत रंग के सुंगधित फूल लगते हैं। पर्वतीय क्षेत्रों में यह अधिक पनपता है। बादाम फाइवर से पूर होने के कारण पाचन में सहायक होता है। उच्च रक्तचाप, कब्ज रोग और हृदय रोगों के उपचार में बादाम उपयोगी है। यह पौटेशियम, मैग्नीशियम, कैल्शियम और विटामिन-ई से भरपूर है। मौलश्री को संस्कृत में केसव, हिन्दी में मोलसरी या बकूल भी कहा जाता है। यह औषधीय महत्व का वृक्ष है, जिसका सदियों से आयुर्वेद में उपयोग होता आ रहा है।

#OnePlantADay

Leave a Reply