श्री पुरुषोत्तम रूपाला ने 75 उद्यमियों के सम्मेलन और 75 देशी पशुधन नस्लों की प्रदर्शनी का उद्घाटन किया

सम्मेलन से पहले श्री रूपाला ने गौ पूजा की
सरकार का लक्ष्य पशु स्वास्थ्य और ऋण सेवाओं तक किसानों की पहुंच बढ़ाकर पशुधन क्षेत्र का विकास सुनिश्चित करना है: श्री पुरुषोत्तम रूपाला
डॉ. एल. मुरुगन और डॉ. संजीव कुमार बाल्यान ने सम्मेलन को संबोधित किया
नई दिल्ली में आयोजित इस सम्मेलन में लगभग 1200 किसान शामिल हुए
1000 कॉमन सर्विस सेंटर से जुड़े देश भर के किसान
मंत्रालय आजादी का अमृत महोत्सव के तहत उन्नत पशुधन सशक्त किसान सम्मेलन का आयोजन कर रहा है

केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री श्री पुरुषोत्तम रूपाला ने आज नई दिल्ली में 75 उद्यमियों के सम्मेलन और 75 स्वदेशी पशुधन नस्लों की प्रदर्शनी- उन्नत पशुधन सशक्त किसान सम्मेलन का उद्घाटन किया। मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी राज्य मंत्री डॉ. एल मुरुगन और डॉ. संजीव कुमार बाल्यान इस कार्यक्रम में सम्मानित अतिथि थे और दोनों ने इस कार्यक्रम में भाषण भी दिया। श्री पुरुषोत्तम रूपाला ने डॉ. एल. मुरुगन और डॉ. संजीव बाल्यान के साथ गोजातीय/बकरा/पक्षी/सुअर प्रजातियों की सर्वश्रेष्ठ 75 स्वदेशी नस्लों को प्रदर्शित करने के लिए डिजिटल प्रदर्शनी का उद्घाटन किया। डिजिटल प्रदर्शनी में 75 देशी पशुधन नस्लों और डेयरी तथा मुर्गीपालन किसानों, एफपीओ, नए उद्यमियों, स्टार्ट-अप और उद्योग की सफलता की कहानियों को प्रदर्शित किया गया। इस अवसर पर श्री अतुल चतुर्वेदी, सचिव, डीएएचडी और डॉ. ओ. पी. चौधरी, संयुक्त सचिव, डीएएचडी उपस्थित थे। इस कार्यक्रम में श्री मीनेश शाह, अध्यक्ष, एनडीडीबी, श्री संजय सिंघल, सीओओ, डेयरी एंड बेवरेजेज, आईटीसी लिमिटेड, श्री संग्राम चौधरी, एमडी, बनासकांठा जिला सहकारी दुग्ध उत्पादक संघ लिमिटेड और डेयरी क्षेत्र के अन्य प्रतिनिधि उपस्थित थे। कार्यक्रम में 1200 से अधिक किसान मौजूद थे। देश भर के किसान 1,000 कॉमन सर्विस सेंटरों के माध्यम से इस आयोजन से जुड़े थे।

 

आजादी का अमृत महोत्सव के हिस्से के रूप में, पशुपालन और डेयरी विभाग, एफएएचडी मंत्रालय ने सीआईआई के साथ मिलकर डेयरी और पोल्ट्री किसानों, नए उद्यमियों, स्टार्टअप और उद्योग पर ध्यान केंद्रित करते हुए सम्मेलन का आयोजन किया है। श्री रूपाला ने आज सम्मेलन से पहले गौ पूजा की।

 

https://i0.wp.com/static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image001P9L4.jpg?resize=367%2C505&ssl=1

 

केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री श्री पुरुषोत्तम रूपाला ने सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि सभी हितधारकों के संयुक्त योगदान के कारण भारत का डेयरी क्षेत्र तेजी से बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार का लक्ष्य पशु स्वास्थ्य और ऋण सेवाओं तक किसानों की पहुंच बढ़ाकर पशुधन क्षेत्र का विकास सुनिश्चित करना है।

https://i0.wp.com/static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image002U6FR.jpg?w=810&ssl=1

 

श्री रूपाला ने सम्मेलन में ए-हेल्प के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ किया। उन्होंने कार्यक्रम के दौरान 3 पद्म श्री पुरस्कार विजेताओं – प्रो. मोती लाल मदान, डॉ. कुशल कुंवर सरमा और डॉ सोसम्मा आइपे को सम्मानित किया। इसके अलावा, श्री रूपाला ने सम्मेलन में पशुपालन स्टार्टअप ग्रैंड चैलेंज 2.0 के विजेताओं को भी सम्मानित किया। उन्नत पशुधन सशक्त किसान सम्मेलन में लगभग 75 स्वदेशी नस्लों और 75 उद्यमियों के बारे में कॉफी टेबल बुक लॉन्च किया गया। इस कार्यक्रम में 4 किसानों के वीडियो दिखाए गए, जिन्होंने खेती और डेयरी क्षेत्र में अपनी नवीन तकनीकों के कारण राष्ट्रीय और वैश्विक स्तर पर पहचान हासिल की है।

 

https://i0.wp.com/static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image003I4FD.jpg?w=810&ssl=1

https://i0.wp.com/static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image004VQJW.jpg?w=810&ssl=1

https://i0.wp.com/static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image005DJH7.jpg?w=810&ssl=1

 

सम्मेलन में मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी राज्य मंत्री डॉ. एल मुरुगन ने अपने संबोधन में बताया कि कैसे भारत किसानों के घर तक गुणवत्तापूर्ण पशु स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने की दिशा में तेजी से आगे बढ़ रहा है।

मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी राज्य मंत्री डॉ. बाल्यान ने विस्तार से बताया कि कैसे एनपीडीडी योजना पूरे भारत में डेयरी उत्पादन और प्रसंस्करण बुनियादी ढांचे की स्थापना को आगे बढ़ा रही है।

 

https://i0.wp.com/static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image006V5MO.jpg?w=810&ssl=1

https://i0.wp.com/static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image008UQ3W.jpg?w=810&ssl=1

 

इस सम्मेलन को संबोधित करते हुए श्री अतुल चतुर्वेदी, सचिव, डीएएचडी ने कहा कि देश भर के किसान 1,000 कॉमन सर्विस सेंटर्स के माध्यम से इस आयोजन से जुड़े हुए हैं। डॉ. ओ. पी. चौधरी, संयुक्त सचिव, डीएएचडी ने कहा कि सभी हितधारकों को एक तरह से सहयोग करना चाहिए ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि आने वाली पीढ़ी डेयरी क्षेत्र से लाभान्वित हो सके। डॉ. प्रवीण मलिक, पशुपालन आयुक्त, डीएएचडी ने धन्यवाद प्रस्ताव दिया।

इस सम्मेलन में तीन तकनीकी विषयगत सत्रों जैसे उत्पादकता बढ़ाना और पशु स्वास्थ्य में सुधार, मूल्य संवर्धन और बाजार संबंध और नवाचार एवं प्रौद्योगिकी पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है। इसमें मुख्य चलन को प्रदर्शित करने, अवसर की पहचान करने और किसानों की आय बढ़ाने पर ध्यान देने के साथ डेयरी और पोल्ट्री क्षेत्र के लिए एक स्पष्ट रोडमैप तैयार करने पर ध्यान केंद्रित किया गया है। सम्मेलन के सत्र कुछ ऐसे नवीन समाधान/सर्वोत्तम प्रथाओं का प्रदर्शन कर रहे हैं जो डेयरी और पोल्ट्री क्षेत्र को बदलने और किसानों की आय बढ़ाने की क्षमता रखते हैं और इसका उद्देश्य डेयरी और पोल्ट्री क्षेत्र के लिए एक रोडमैप तैयार करना होगा। यह उभरते हुए अवसरों में एक गहरा गोता है और प्रगतिशील किसानों, उद्यमियों के साथ-साथ स्टार्ट-अप के अनुभवों से सीखने का एक मंच होगा कि कैसे मूल्यवर्धन, विविध उत्पाद पोर्टफोलियो और बेहतर बाजार पहुंच ने डेयरी और पोल्ट्री क्षेत्र में बदलाव लाया और आय में वृद्धि के अवसरों को भी बढ़ाया।

https://i0.wp.com/static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image009RQFU.jpg?w=810&ssl=1

 

Leave a Reply