कोरोना से जनता की जिंदगी की सुरक्षा सर्वोपरि है : मुख्यमंत्री श्री चौहान फसलों के सर्वे का कार्य 7 दिन में पूरा कर 10 दिनों के भीतर शुरु करें मुआवजा वितरण स्वामी विवेकानंद जयंती पर प्रदेश में मनाया जाएगा रोजगार दिवस 5 लाख 26 हजार हितग्राहियों को होंगे ऋण स्वीकृति-पत्र वितरित मुख्यमंत्री श्री चौहान ने फसल क्षति, रोजगार मेले और कोरोना नियंत्रण की समीक्षा की

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रालय में कोरोना नियंत्रण की समीक्षा करते हुए कहा कि जनता की जिंदगी की सुरक्षा सर्वोपरि है। इसके लिए हम कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना टेस्ट ठीक से हों। व्यवस्थाओं के आकलन के आधार पर कोविड से निपटने की रणनीति बने। अभी 50 प्रतिशत क्षमता के साथ स्कूल खोले जा रहे हैं। नाइट कर्फ्यू लगा है। कक्षा 1 से 8 वीं में प्रतिबंध लगाने के बारे में बाद में निर्णय लिया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोविड केयर सेंटर सक्रियता से कार्य करें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि 16 जनवरी को 15-18 वर्ष के बच्चों के शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन की रिपोर्ट दी जाए। जहाँ स्थिति ठीक नहीं है वहाँ प्रतिशत सुधारें।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में प्रतिदिन केस बढ़ रहे हैं। अभी प्रदेश में 304 प्रतिशत की पॉजीटीविटी दर आ रही है। इंदौर में लगभग 650, भोपाल में 450, ग्वालियर में 25, जबलपुर में 30 और उज्जैन में 32 केस प्रतिदिन आ रहे हैं। सीनियर सिटीजन को दिक्कत आ रही है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रदेश में ऑक्सीजन सपोर्टेड बेड, होम आइसोलेशन सहित अन्य व्यवस्थाओं पर चर्चा की। प्रदेश में 305 मरीज आइसोलेशन बेड में हैं और कुल 450 भर्ती हैं, 8606 एक्टिव केस हैं।

बैठक में बताया गया कि इंदौर में कोविड केयरसेंटर में 92 मरीज हैं। भोपाल में 8 मरीज कोविड केयर सेंटर में हैं। ग्वालियर में 6 हैं। जबलपुर में 33 होम आइसोलेशन में हैं। उज्जैन में 2 और सागर में 5 मरीज कोविड केयर सेंटर में हैं। रीवा में 34 एक्टिव केस हैं। सभी मरीज होम आइसोलेशन में हैं। शहडोल में 91 केस हैं। सभी मरीज होम आइसोलेशन में हैं। मुरैना में 68 पॉजिटिव में 3 हॉस्पिटल में हैं। होशंगाबाद में 47 एक्टिव केस हैं।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि होम आइसोलेशन में मरीजों से बातचीत जारी रखें, दिन में 2 बार बात हो। व्यवस्था नियंत्रण में हो। मरीजों को गाइड करें। क्या लेना है और क्या नहीं लेना है की समझाइश दें।

इंदौर कलेक्टर ने बताया कि संख्या बढ़ेगी। चिंता की बात नहीं है। इसी तरह भोपाल कलेक्टर ने कहा कि भोपाल में आगे और मरीज बढ़ेंगे। अभी 1442 होम आइसोलेशन में हैं। ग्वालियर में एकदम 291 केस आने से काफी बढ़ोतरी हुई है। जबलपुर में 644 एक्टिव केस हैं। सागर में 20-25 केस रोज बढ़ रहे हैं।

वन मंत्री कुंवर विजय शाह खंडवा से शामिल हुए। उन्होंने मास्क लगवाने की सख्ती करने की बात कही। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि बड़े मेलों, उत्सव, कार्यक्रम नहीं होंगे।

स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री इंदर सिंह परमार ने स्कूलों में एक से 8 वीं की कक्षाओं को ऑनलाइन संचालित करने का सुझाव रखा।

अतिवृष्टि और ओलावृष्टि की समीक्षा

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ओलावृष्टि से फसल क्षति की समीक्षा करते हुए कहा कि अतिवृष्टि और ओलावृष्टि से प्रदेश के विभिन्न जिलों में क्षति हुई है। अभी 75 तहसीलों के 1500 गाँव शामिल हैं। सर्वे सभी जगह प्रारंभ करा दिया जाये। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रभारी मंत्री अपने प्रभार के जिलों को देखेंगे। कलेक्टर्स ओलावृष्टि, अतिवृष्टि से प्रभावित गाँवों में फसलों का सर्वे 7 दिन में पूरा करें और 10 दिन के भीतर मुआवजा वितरण की कार्यवाही शुरु कर दें। जिनका नुकसान हुआ है वह सर्वे से नहीं छूटें। साथ ही अपात्र किसानों को शामिल नहीं करें। अंतर्विभागीय संयुक्त दलों का गठन किया जाये। सर्वेक्षण पूरा होने के बाद प्रभावित किसानों की जानकारी चस्पा कर पढ़कर सुनाई जाये। जन-प्रतिनिधियों को विश्वास में लेकर सर्वे में उनका सहयोग प्राप्त करें। आधुनिक टेक्नॉलाजी का उपयोग करें। कमिश्नर भी मुआवजे के भुगतान एवं सर्वे में सहयोग करें। किसानों के बैंक खातों में ही भुगतान किया जाये।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि संकट की घड़ी में सरकार पूरी तरह किसानों के साथ है। कलेक्टर्स संवेदनशीलता से किसानों से मिलें। कटिबद्धता और जिम्मेदारी से कार्य करें। प्रभारी मंत्री मॉनिटरिंग करें।

रोजगार दिवस पर स्वीकृति-पत्रों का वितरण

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने रोजगार दिवस की समीक्षा में कहा कि 12 जनवरी को स्वामी विवेकानंद के जन्म-दिवस को रोजगार दिवस के रुप में मना रहे हैं। हर महीने रोजगार दिवस होगा। नौजवानों को स्व-रोजगार के स्वीकृति-पत्र देंगे। बैंक सहयोग कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि रोजगार दिवस मैं भोपाल में रहूँगा। मंत्री अपने प्रभार का जिला तय कर लें। कोविड की स्थिति देखते हुए 100 हितग्राहियों को एक स्थान पर आमंत्रित करें। ऋण स्वीकृति-पत्र वितरित होंगे। कलेक्टर सुनिश्चित करें कि स्वीकृति-पत्र घर पहुँच जायें।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि 5 लाख 26 हजार लोगों को स्वीकृति-पत्र मिलना है। कलेक्टर्स जिले के प्रभारी मंत्री को ऋण स्वीकृति की सूची भेजें। प्रभारी मंत्री ऋण स्वीकृति-पत्र वितरण सुनिश्चित करायें। एक दिन में पाँच लाख से अधिक हितग्राहियों को स्वीकृति-पत्र दे रहे हैं। यह स्व-रोजगार की दिशा में एक बड़ी पहल है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोविड के नियमों का पालन करते हुए गरिमामय कार्यक्रम करें। कार्यक्रम का जिले से भी बेहतर प्रचार प्रिंट,इलेक्ट्रानिक और सोशल मीडिया में हो। कार्यक्रम का आयोजन पूरे प्रचार-प्रसार के साथ होना चाहिए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वे हितग्राहियों से संवाद भी करेंगे। इसमें 5-6 जिलों के हितग्राही शामिल होंगे।

मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री मनीष रस्तोगी, प्रबंध संचालक मार्कफेड श्री पी. नरहरि सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply