राज्य मंत्री श्री परमार शाला प्रबंधन समिति के प्रशिक्षण कार्यक्रम को करेंगे संबोधित कर्तव्‍य-पालन और शालाओं की बेहतरी की शपथ भी दिलायेंगे प्रदेश की लगभग 89 हजार 680 शासकीय शालाओं में होगा आयोजन

स्‍कूल शिक्षा (स्‍वतंत्र प्रभार) राज्‍य मंत्री श्री इन्‍दर सिंह परमार प्रदेश के शासकीय प्राथमिक एवं माध्‍यमिक विद्यालयों में नवगठित शाला प्रबंधन समितियों के उन्‍मुखीकरण प्रशिक्षण सत्र को वर्चुअली संबोधित करेंगे। प्रदेश की सभी माध्‍यमिक शालाओं और कक्षा 1 से 8 की संयुक्‍त माध्‍यमिक शालाओं में शनिवार 26 फरवरी 2022 को शाला प्रबंधन समिति प्रशिक्षण में समिति सदस्‍यों को कर्त्तव्‍य पालन और अपने बच्‍चों की शालाओं की बेहतरी की शपथ भी दिलवायेंगे। कार्यक्रम को प्रमुख सचिव स्‍कूल शिक्षा विभाग श्रीमती रश्मि अरूण शमी भी संबोधित करेंगी। कार्यक्रम का सजीव प्रसारण राज्‍य शिक्षा केन्‍द्र के यू-ट्यूब चैनल https://youtu.be/HHtRba5n93w पर किया जायेगा।

राज्‍य शिक्षा केन्‍द्र के संचालक श्री धनराजू एस ने बताया कि शिक्षा का अधिकार अधिनियम के तहत शासकीय एवं अनुदान प्राप्‍त माध्‍यमिक और प्राथमिक शालाओं में 2 वर्ष की समयावधि के लिए शाला प्रबंधन समिति के गठन का प्रावधान है। इस वर्ष प्रदेश की सभी शासकीय प्राथमिक एवं माध्‍यमिक शालाओं में दो वर्ष (2021-22 एवं 2022-23) के लिए समितियां गठित की गई हैं। 18 सदस्‍यीय इन समितियों में विद्यार्थियों के अभिभावक, शिक्षक और स्‍थानीय निकाय के पंच/पार्षद सदस्‍य होते हैं। समिति के सदस्‍यों में न्‍यूनतम 50 प्रतिशत महिलाएँ होती हैं। समिति के अध्‍यक्ष और उपाध्‍यक्ष का चुनाव, अभिभावकों में से ही किया जाता है और शाला के प्रधान पाठक, समिति के सदस्‍य सचिव होते हैं। ये समितियाँ ही स्‍थानीय स्‍तर पर शालाओं के दैनिक कार्यों का संचालन करती हैं।

प्रशिक्षण संबंधी जानकारी

राज्‍य शिक्षा केन्‍द्र ने यूनिसेफ मध्‍यप्रदेश के साथ मिलकर प्रशिक्षण सामग्री तैयार की है। सबसे पहले राज्‍य स्‍तर पर विभाग ने एसआरजी (राज्‍य स्‍त्रोत समूह) का एक दिवसीय प्रशिक्षण आयोजित किया, जिसमें प्रति जिला 4 सदस्‍यों के मान से कुल 208 सदस्‍यों का प्रशिक्षण हुआ। इनमें जिलों के एपीसी, डाइट फैकेल्‍टी और शिक्षक आदि सम्मिलित हैं।

राज्‍य स्‍त्रोत समूह के द्वारा अपने-अपने जिलों में जिला स्‍त्रोत समूह के सदस्‍यों को प्रशिक्षित किया गया। प्रदेश में कुल 5154 विभागीय सहयोगियों को जिला स्‍त्रोत समूह सदस्‍य के रूप में प्रशिक्षण प्रदान किया गया।

जिला स्‍त्रोत समूह सदस्‍यों के द्वारा प्रदेश की सभी माध्‍यमिक और प्राथमिक शालाओं के लगभग 89 हजार 680 प्रधान पाठकों को मैदानी प्रशिक्षक (मास्‍टर ट्रेनर) के रूप में गहन प्रशिक्षण प्रदान किया गया। ये मैदानी प्रशिक्षक अपनी-अपनी शालाओं के शाला प्रबंधन समितियों के सदस्‍यों का उनके कार्य, दायित्‍व और अधिकारों के बारे में उन्‍मुखीकरण करेंगे। प्रदेश की सभी प्राथमिक और माध्‍यमिक शालाओं में यह प्रशिक्षण 26 एवं 28 फरवरी को आयोजित किया जा रहा हैं।

आई.वी.आर.एस. नंबर का लोकार्पण

स्‍कूल शिक्षा राज्‍यमंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार) श्री इन्‍दर सिंह परमार प्रशिक्षण कार्यक्रम में राज्‍य शिक्षा केन्‍द्र और यूनिसेफ के द्वारा एस.एम.सी. सदस्‍यों की सुविधा के लिए विभिन्‍न शैक्षिक जानकारियाँ प्राप्‍त करने के लिए आई.वी.आर.एस. नंबर 8604-8604-85 का लोकार्पण भी करेंगे। विद्यार्थियों के शैक्षिक समर्थन की दिशा में, शाला प्रबंधन समिति की सारगर्भित जानकारी एवं समिति के कार्य दायित्‍व, माता पिता तथा अभिभावकों के कार्य दायित्‍व और बच्‍चों की शैक्षिक गतिविधियों की जानकारी, सहजतापूर्वक प्रदान करने की दृष्टि से आई.वी.आर.एस. नंबर तैयार किया गया है। इस नंबर पर कॉल कर, रिकार्डेड वॉइस के द्वारा अनेक शैक्षिक जानकारियाँ प्राप्‍त की जा सकेंगी।

Leave a Reply