मंत्री सुश्री ठाकुर ने किया अपर लेक बोट क्लब में टूरिस्ट सेलिंग बोट का शुभारंभ



समुद्र में चलने वाली सेलिंग बोट का आनंद ले भोपाल ताल में


पर्यटन, संस्कृति और आध्यात्म मंत्री सुश्री Usha Thakur ने कहा कि पर्यटन निगम के नवाचारों से भोपाल पर्यटन की दृष्टि से राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बना रहा है। ड्राइव इन सिनेमा, रेल रेस्टोरेंट और अब सेलिंग बोट इसका नवीनतम उदाहरण है। मंत्री सुश्री ठाकुर अपर लेक के बोट क्लब में पर्यटकों के लिए ‘टूरिस्ट सेलिंग बोट’ के संचालन की सुविधा का शुभारंभ कार्यक्रम को संबोधित कर रही थी। सुश्री ठाकुर ने कहा कि राजा भोज की पावन नगरी भोपाल में आदिकाल से ही नवाचार की परंपरा रही है। पर्यटन विभाग पर्यटकों को तनावमुक्त रखते हुए आनंदमय जीवन जीने की सुविधा देने के लिए दृढ़ संकल्पित होकर नित नए नवाचार कर रहा है।

मंत्री सुश्री ठाकुर ने पूजन कर बोट संचालन का शुभारंभ किया। सुश्री ठाकुर ने पर्यटकों को सेलिंग बोट की सवारी करने का आमंत्रण देते हुए सेलिंग बोट की सवारी का आनंद लिया। उन्होंने बोट में पर्यटकों को दी जाने वाली सुविधाओं का जायजा भी लिया।

प्रमुख सचिव श्री शिव शेखर शुक्ला ने कहा कि वॉटर स्पोर्ट्स का नया फीचर सेलिंग बोट बड़े ताल की शोभा बढ़ाएगा। सेलिंग बोट का प्रदूषण रहित और पर्यावरण हितैषी होना इसे और खास बनाता है। महिलाओं की सुविधा और सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए बोट में क्रू कैप्टन एक महिला को बनाया गया है। टूरिज्म सेक्टर में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने के लिए प्रदेश के टूरिज्म होटल, टूरिस्ट स्पॉट और पर्यटन विभाग द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाओं में स्थानीय क्षेत्र की महिलाओं को प्रशिक्षण देकर रोजगार दिया जाएगा।

पर्यटन निगम के प्रबंध संचालक श्री एस. विश्वनाथन ने कहा कि यह गर्व की बात है कि समुद्र में चलने वाली सेलिंग बोट अब भोपाल लेक में चलेगी। पर्यटकों को 1 घंटे के टूर में वन विहार के आसपास के क्षेत्रों में भी यात्रा कराई जाएगी। पर्यटन निगम पर्यटकों को रोमांचक गतिविधियों से जोड़ने के लिए नित नए नवाचार कर रहा है। इसके तहत खंडवा में सैलानी आईलैंड में स्कूबा डाइविंग और केन नदी,बेतवा नदी तथा जबलपुर के भेड़ाघाट में रिवर वाटर राफ्टिंग जैसी गतिविधियाँ भी प्रारंभ की जायेंगी।

पर्यटन विकास निगम ने मेहुला मरीन के सहयोग से बोट क्लब में पर्यटकों के लिए यह खास सुविधा प्रारंभ की है। सेलिंग बोट का आनंद लेने के लिए सूर्योदय से सुबह 9 बजे तक 300 रूपये प्रति पर्यटक प्रति घंटे, सुबह 10 बजे से दोपहर 3 बजे तक 200 रूपये और शाम 4 बजे से सूर्यास्त तक 300 रूपये प्रति पर्यटक प्रति घंटे का शुल्क निर्धारित किया गया है।

सेलिंग बोट जिसे पालदार नाव भी कहते है, हवा से चलती है और ईंधन इस्तेमाल नहीं होने के कारण पूरी तरह से प्रदूषण रहित है। यह “जे क्लास केबिन सैल याट” है, जो कि अंतर्राष्ट्रीय मानकों के अनुरूप बनायी गई है और वर्ल्ड सेलिंग एसोसिएशन के द्वारा प्रमाणित है। यह नाव करीब 22 फीट लम्बी है और इसमें 8 लोगों के बैठने की व्यवस्था है। इस बोट को हवा के जरिये चलाकर 2 से 3 घंटे सेलिंग का आनंद पर्यटक ले सकेंगे जो एक अत्यन्त रोचक एवं अद्वितीय अनुभव होगा। यह बोट भोपाल में पर्यटन प्रगति के लिए एक विशेष आकर्षण के रूप में साबित होगी तथा इससे पर्यटन विकास निगम एवं प्रदेश की छवि को राष्ट्रीय तथा अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ख्याति मिलेगी।

इस अवसर पर पर्यटन निगम के महाप्रबंधक, श्री केशव राव शाद, श्री सुहैल क़ादिर, श्री जैमन मैथ्यू, श्री संदेश यशलाह, श्री सुरेंद्र प्रताप सिंह, यांत्रिकी सलाहकार श्री विजय सिंह वर्मा, कार्यपालन यंत्री श्री ब्रजेश तिवारी, रीजनल मैनेजर श्री अजय शर्मा, प्रशासनिक अधिकारी श्री राकेश अर्गल, बोट क्लब के प्रबंधक श्री अनिल कुरूप, विन्ड एण्ड वेव्स के प्रबंधक श्री सी. बी. सिंह, श्री प्रसन्न जगदाले और श्री संजय वर्मा सहित निगम के अधिकारी- कर्मचारी उपस्थित थे।

Leave a Reply