कोरोना का कहर जिले में कोरोना से तीसरी मौत पहाड़ा गांव की 44 साल के शिक्षक का भोपाल में निधन

कोरोना का कहर:जिले में कोरोना से तीसरी मौत, पहाड़ा गांव के 44 साल के शिक्षक का भोपाल में निधन

अशोकनगर5 घंटे पहले

  • कोरोना जैसी महामारी के दौर में भी ट्यूशन और कोचिंग चालू, अनदेखी जिम्मेदारों की, खतरा पूरे शहर को
  • लापरवाही बरतने वालो अब सुधरो, क्योंकि मृत शिक्षक की आयु उम्रदराज नहीं थी

जिले में कोरोना से मौत का तीसरा मामला रविवार को सामने आया। जब भोपाल में पहाड़ा गांव के शिक्षक का इलाज के दौरान निधन हो गया। वहीं मृतक शिक्षक की बेटी भी पॉजिटिव निकली है जिनका इलाज जिला अस्पताल में चल रहा है। भोपाल में मृत हुए शिक्षक की उम्र मात्र 44 साल थी। ऐसे में उन लोगों के लिए भी यह बड़ा खतरा हो सकता है जो 50 से नीचे की उम्र मानकर सोशल डिस्टेंसिंग के साथ मास्क लगाने तक में परहेज कर रहे हैं।

जिले में कोविड-19 से अब तक तीन मौत हो चुकी हैं। यानी जिले में कोरोना की वजह से मृत्युदर का आंकड़ा अब 3.65 फीसदी हो गया है। जबकि प्रदेश में पॉजिटिव निकले मरीजों में मौतें 2.96 प्रतिशत हैं, जबकि देश में 2.31 फीसदी है। यानी हमारे जिले में प्रदेश और देश की तुलना में कोरोना से मौत का आंकड़ा अधिक है। जब हमने इसके पीछे की पड़ताल की तो कुल संक्रमण 82 लोगों की स्थिति में 3 मौतें अधिक चिंताजनक हैं। कोरोना हर उम्र वर्ग के लिए खतरनाक है। इसलिए सोशल डिस्टेंसिंग के साथ मास्क लगाना, भीड़भाड़ वाली जगहों पर जाने से परहेज करें।

सांस लेने की तकलीफ पर किया था रेफर
शिक्षक संजीव रघुवंशी को सांस लेने में दिक्कत आने पर जिला अस्पताल से भोपाल रैफर किया गया था। वहीं उनके परिवार के सभी लोगों का टेस्ट कराया गया जिसमें उनकी बेटी को छोड़कर सभी परिजनों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। श्री रघुवंशी कुछ दिन पहले अपने बेटे और उनके पूना से आए दोस्त को भोपाल लेने गए थे।

शहर में ट्यूशन और कोचिंग कक्षाएं संचालित, जिम्मेदार कौन
शहर में कोरोना संकट के दौरान जहां सभी स्कूल बंद हैं। वहीं दूसरी तरफ ट्यूशन और कोचिंग संस्थान चालू हैं जहां पर झुंड में बच्चों को कोरोना संक्रमण की परवाह किए बगैर शिक्षकों द्वारा पैसा कमाने पढ़ाया जा रहा है। ऐसा नहीं है कि जिम्मेदार अधिकारियों को इस बात की जानकारी नहीं है। इसके बाद भी इस तरह अवैध तरीके से संचालित हो रहे कोचिंग और ट्यूशन कक्षाओं पर सांठगांठ कर जिम्मेदार अंकुश लगाने में असफल हैं।

बेटी संक्रमित निकली, जाती थी रसायन शास्त्र का ट्यूशन पढ़ने
जानकारी के मुताबिक मृतक की बेटी जो कोरोना पॉजिटिव निकली है वह शहर में किसी ट्यूशन कोचिंग पर पढ़ने के लिए जाती थी। इस दौरान बालिका के साथ करीब 40 अन्य विद्यार्थी भी उसी कक्षा में पढ़ते थे। इस स्थिति में बालिका की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद अब संक्रमण का खतरा ट्यूशन पर आने वाले अन्य बच्चों को भी बन गया है।
टीम करेगी कार्रवाई
आपके द्वारा यह मामला मेरे संज्ञान में लाया गया है। जिला शिक्षाधिकारी को निर्देश दिए जाएंगे कि कोविड-19 संक्रमण दौर में ट्यूशन करने वालों के खिलाफ टीम गठित कर कार्रवाई की जाए। – सुरेश जाधव, एसडीएम अशोकनगर। अशोक नगर से आकाश यादव की रिपोर्ट ब्यूरो चीफ अशोकनगर

Leave a Reply