जिले की रेत ठेका कंपनी आरकेटीसी घाटे में चल रही है,
रेल्वे ट्रेक से इन्दौर के लिये पहुंच रही नर्मदा-तवा की रेत

होशंगाबाद से दिव्या मेहरा की ख़बर। जिले में आरकेटीसी कंपनी ने रेत का ठेका 262 करोड़ में लिया है। उसमें लगभग 118 खदान का ठेका लिया है। पर फिलहाल अभी 37 खदानें ही चालू है। अब जिले की तवा- नर्मदा की रेत इन्दौर, उज्जैन, सागर ,और नासिक रेल्वे ट्रेक से पहुंचेगी ऐसी योजना रेत खदानों का ठेका लेने वाली आरकेटीसी रेत कपंनी ने बनाई है। इटारसी के पवारखेडा मे स्थित केपीएफपी जो कि प्राइवेट सेक्टर का फ्रेट टर्मिनल है। यहाँ से रेत की लोडिंग आरकेटीसी रेत कपंनी के द्वारा की जा रही है। और रतलाम डिवीजन के मांगलिया साइडिंग मे रेत भेजी जा रही है। आरकेटीसी रेत कपंनी के क्षेत्रीय अधिकारी रिंकू बोहरा ने बताया कि उन्हे रेल परिवहन से रेत भेजना सस्ता पड रहा है। इन्दौर के लोगो को सस्ते दाम मे यह रेत पडेगी। सड़क मार्ग से रेत भेजना काफी महंगा पडता है। गाडियो मे टूटफूट, डीजल भी मंहगा, रास्ते मे जगह जगह परेशानी और सडक दुर्घटनाओ की भी संभावना रहती है। लेकिन ट्रेन परिवहन के द्वारा इसका परिवहन सस्ता पड रहा है। और आसानी से रेत दूरस्थ स्थानो पर पहुँच रही है। कुछ रेक इन्दौर भेज दिये गये हैं। कंपनी की योजना है कि प्रतिदिन दो रेक इन्दौर के लिये भेजे जायेगे। करोना महामारी के चलते रेत कंपनी घाटे में चल रही है।

Leave a Reply