दांडी मार्च विश्व इतिहास में ऐसे करिश्माई आंदोलन के रूप में दर्ज है जिसमें मुट्ठी भर नमक में पूरे देश को आंदोलित कर दिया:-डॉक्टर शादाब सिद्दीकी

-कार्यक्रम को संबोधित करते हुए आबकारी अधिकारी डॉक्टर शादाब सिद्दीकी—कार्यक्रम में शामिल छात्राओं एवं स्टाफ के सदस्य

झाबुआ। देशव्यापी स्वतंत्रता के अमृत महोत्सव का प्रारंभ जिले के अग्रणी माता जीजाबाई शासकीय कन्या स्नातकोत्तर महाविद्यालय मोती तबेला इंदौर में उत्साह पूर्वक हुआ शासन के निर्देशानुसार साबरमती से प्रधानमंत्री के कार्यक्रम के सीधे प्रसारण को देखने से पूर्व प्राचार्य डॉक्टर सुमित्रा वास्केल ने उद्घाटन की औपचारिक घोषणा की तथा प्रशासनिक अधिकारी एमडी सोमानी ने छात्राओं को इस 75 सप्ताह के कार्यक्रम को दांडी यात्रा से क्यों प्रारंभ किया महत्व को समझायाl तत्पश्चात छात्राओं एवं स्टाफ के सदस्यों ने साबरमती से होने वाले इस महान उत्सव के उद्घाटन समारोह का सीधा प्रसारण देखा इस कार्यक्रम में कोरोना प्रोटोकॉल का पूरी तरह पालन किया गया तथा अन्य महाविद्यालयों को भी प्रोटोकॉल पालन करने का निर्देश प्रदान किया गया था। इस सीधे प्रसारण के पश्चात डॉक्टर शादाब सिद्दीकी जो कि वर्तमान में झाबुआ में आबकारी अधिकारी के रूप में पदस्थ हैं छात्राओं एवं शिक्षकों को व्याख्यान दिया उन्होंने बताया कि भारत का स्वतंत्रता आंदोलन विश्व के किसी भी अन्य देश की स्वतंत्रता की लड़ाई से कई अर्थों में भिंन्न है। हमने सत्याग्रह और अहिंसा जैसे आध्यात्मिक सिद्धांतों से स्वतंत्रता हासिल की यह आंदोलन सिर्फ अंग्रेजों के विरुद्ध नहीं बल्कि समाज में व्याप्त कुरीतियों महिलाओं की दयनीय स्थिति जातिगत भेदभाव धार्मिक भिन्नता आदि के विरुद्ध भी था,महात्मा गांधी ने आजादी हासिल करने का जो रास्ता प्रशस्त किया वह एक ऐसे राज्य की कल्पना थी जो सत्ता विहीन है,12 मार्च 1930 से आरंभ हुआ दांडी मार्च विश्व इतिहास में ऐसे करिश्माई आंदोलन के रूप में दर्ज है जिसमें मुट्ठी भर नमक में पूरे देश को आंदोलित कर दिया,यह आंदोलन पूरी दुनिया में रोल मॉडल की तरह अध्ययन का विषय होना चाहिए। स्वागत भाषण प्राचार्य डॉ सुमित्रा वास्केल ने दिया एवं कार्यक्रम का संचालन एवं अतिथि परिचय डॉक्टर तृप्ति जोशी द्वारा प्रदान किया गया आभार डॉ चंद्रकांता भट्ट ने व्यक्त किया।

Leave a Reply