मप्र / अभी एक माह और झेलने होंगे गड्‌ढे….क्योंकि 15 नवंबर तक ही दुरुस्त हो सकेंगी निगम की सड़कें

 शहर में निगम की 3879 किमी सड़कें दावा- वीआईपी रोड को इस माह के अंत तक कर देंगे दुरुस्त

पाल . बारिश के कारण खराब हुई सड़कों को दुरुस्त करने के लिए नगर निगम ने 15 नवंबर तक टारगेट तय किया है। सड़कों को तय समय सीमा में दुरुस्त करने के लिए नगर निगम आयुक्त बी विजय दत्ता ने गुरुवार शाम अपर आयुक्तों अौर सिटी इंजीनियरों की बैठक ली। कमिश्नर ने अफसरों से पूछा कि विधानसभावार क्षेत्र में कितनी सड़कें खराब हैं? इनमें से किसके रिपेयरिंग के वर्क अॉर्डर जारी हो गए हैं?…और कितनी सड़कों के टेंडर जारी हो गए हैं?

पैचवर्क का रोडमैप तैयार करने के लिए शनिवार को भी सभी अपर आयुक्त अपने विधानसभा क्षेत्र के सब इंजीनियरों के साथ बैठक करेंगे। शहर में नगर निगम की 3879 किमी से अधिक सड़कें हैं। तेज बारिश और सीवेज व पानी की पाइपलाइन बिछाने के कारण इसमें आधी से ज्यादा सड़कों पर कहीं गड्ढे हैं तो कहीं उनकी सरफेस उखड़ गई है। वीआईपी रोड पर डामरीकरण शुरू कर दिया गया है। अफसरों का दावा है कि यह सड़क इस माह के अंत तक दुरुस्त हो जाएगी।

15 अक्टूबर से… डामरीकरण कार्य में आएगी तेजी

 सीएम इंफ्रा के 40 करोड़ मिले – निगम को पिछले साल विधानसभा चुनाव से पहले सीएम इंफ्रा के तहत स्वीकृत 40 करोड़ की राशि भी मिल गई है। इस राशि से वीआईपी रोड और बीआरटीएस कोरिडोर की रिपेयरिंग के साथ कुछ अन्य सड़कों के निर्माण के वर्क अॉर्डर दे दिए गए थे, लेकिन भुगतान नहीं होने से कांट्रेक्टर्स ने काम अधूरा छोड़ दिया था। 

 यहां रिपेयरिंग शुरू.. आनंद नगर से हथाईखेड़ा सड़क पर भी चल समारोह से पहले गड्ढे भर दिए गए हैं। इस महीने के अंत तक यहां डामरीकरण शुरू हो जाएगा। कार्पोरेशन बैंक से कटारा हिल्स तक की जिस सड़क को लेकर सीपीए और नगर निगम के बीच विवाद चल रहा था उसकी रिपेयरिंग 15 अक्टूबर से शुरू हो जाएगी।

सड़कों की दुर्दशा की एक वजह यह भी… सड़कों की समीक्षा के बाद निगम के कांट्रेक्टर्स ने निगमायुक्त से मुलाकात की। कांट्रेक्टर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष जयदेव चौहान ने कहा कि कुल 115 करोड़ रुपए का भुगतान रुका हुआ है। महासचिव जितिन राठौर ने कहा कि दीपावली से पहले भुगतान हो जाए तो बेहतर होगा। निगमायुक्त ने उन्हें आश्वस्त किया कि वे जल्द भुगतान कराएंगे। उधर, अपर आयुक्त (वित्त) डीएस हाड़ा गुरुवार को रिलीव हो गए। उनके स्थान पर अपर आयुक्त मयंक वर्मा को वित्त विभाग का प्रभार दिया गया है। इधर, कोलार क्षेत्र के वार्ड 83 की पार्षद मनफूल श्याम मीणा ने उनके क्षेत्र की सड़क निर्माण नहीं होने पर अनिश्चितकालीन धरना शुरू कर दिया।

अगले साल ही शुरू हो सकेगा प्लास्टिक मिक्स सड़कों का निर्माण : शहर के भीतर प्लास्टिक मिक्स सड़कों का निर्माण अगले साल ही शुरू हो पाएगा। निगम ने हाल ही में प्लास्टिक मिक्स सड़कों के निर्माण की शर्त लगा दी थी, लेकिन कांट्रेक्टर्स के विरोध के बाद इसे शिथिल कर दिया गया है। अपर आयुक्त कमल सोलंकी ने बताया कि फिलहाल हमारा फोकस सड़कों की रिपेयरिंग में तेजी लाने पर है। यह काम पूरा होने के बाद एक वर्कशाॅप का आयोजन किया जाएगा जिसमें कांट्रेक्टर्स को प्लास्टिक मिक्स सड़कों की तकनीक का प्रशिक्षण दिया जाएगा। एेसे में अगले साल ही इन सड़कों का निर्माण शुरू हो पाएगा। एमपीआरआरडीए और एमपीआरडीसी पहले से ही प्लास्टिक मिक्स सड़कें बना रहे हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: