पति की मौत के दो घण्टे भीतर उनकी पत्नी ने भी अंतिम सांस ले ली।

नीमच। शादी में सात फेरे लेते समय जिंदगी भर का साथ निभाने के किए गए बुजुर्ग दंपति के वादे को मौत भी जुदा नहीं कर सकी। जावद तहसील के ग्राम पंचायत गुर्जरखेड़ी सांखला के गाँव गोठा निवासी 85 वर्षीय शंकर धोबी की रविवार की रात मौत हो गई। पति की मौत के दो घण्टे बाद भीतर उनकी पत्नी बसंती बाई ने भी अंतिम सांस ले ली। दोनों शवों को अलग-अलग अर्थी पर गाँव से मुक्तिधाम लेजाया गया। और गांव के ही मुक्तिधाम पर एक ही चिता पर दोनों पुत्र बद्रीलाल ओर नानालाल ने मुखाग्नि दी। 
ग्राम गोठा निवासी भगीरथ धोबी ने बताया कि दादी जी करीब डेढ़ साल लकवे की बीमारी से ग्रसित थे उनका हमने बहुत इलाज करवाया पर कोई फायदा नही हुआ ओर वही दादाजी घूमफिर सकते थे और कोई बीमारी नही थी। रविवार की रात करीब 12 बजे शंकर ने दम तोड़ दिया। पिता की मौत होते ही घर में कोहराम मच गया। फिर मा को भी इशारो समझाया। ओर फिर रोते हुए मां ने भी पिता की मौत के दो घंटे के भीतर शरीर त्याग दिया। पति-पत्नी की कुछ ही देर में हुई मौत की खबर से गांव के लोग स्तब्ध रह गए। आज की सुबह दोनो शवो को अलग अलग अर्थी पर दोनों शव रखकर अंतिम यात्रा निकाली गई। गांव के बाहर स्थित मुक्तिधाम पर एक ही चिता पर दोनों को लिटाया गया। दोनों पुत्रों ने माता-पिता को मुखाग्नि दी। अंतिम यात्रा में काफी संख्या में लोग मौजूद रहे। 

Leave a Reply