कलयुग के देवता अजर अमर श्री हनुमानजी महाराज की जय।

कुकड़ेश्वर 27 अप्रैल मंगलवार पूर्णिमा के दिन सभी नगर वासी एवं ग्रामीण जन एवं क्षेत्रवासी अपने अपने घरों में देसी घी का दीपक लगाकर हवन पूजा पाठ करें उक्त जानकारी पटेल संघ के प्रदेश प्रवक्ता राजेंद्र पटेल ने सभी धर्म प्रेमी जनता से विनम्र निवेदन करते हुए बताया है कि भयंकर कोरोना महामारी के संकट से बचने के उपाय घर में रहकर करें और बालाजी के मंदिर पर जाकर करें तो और अच्छा लाख डाउन के नियमों को पालन करते हुए क्योंकि हनुमान जी को बल याद दिलाना पड़ता है अच्छा मौका है आप के हाथ से छूट न जाए मौका एवं अपने अपने घर में हनुमान चालीसा का ध्यान करें

सभी से विनम्र प्राथना है कि पुरा पढे और सभी हनुमानजी महाराज से प्रार्थना करे। 27 अप्रैल मंगलवार को हनुमानजी महाराज का जन्म दिन है। पूर्णिमा भी है और मंगलवार भी हनुमानजी महाराज अष्ट सिद्धी के दाता है। असम्भव को सम्भव बनाने वाले देव है। लेकिन हनुमानजी महाराज को श्राप मिला हुआ है गुरुकुल में कि तुम तुम्हारी शक्तियों को भुल जाओगे। जब तक कोई याद नही दिलाएगा। तो बहुत सुनहरा मौका है 27 अप्रैल को। सारी मानव जाति का बेहाल है।
।।। आओ सब मिलकर कलयुग के देव श्री हनुमानजी महाराज को उनकी शक्ति याद दिलाऐ। और मानव जाति के अच्छे के लिए अपना योगदान करे। 27 अप्रैल मंगलवार को शाम 8 बजे से हनुमान चालीसा के पाठ हम सभी को अपने घरों में करना है। एक घी का दीपक जलाकर कर करे तो और भी अच्छा है। करोड़ों लोगों की एक ही समय की गई प्रार्थना निश्चय ही फलदायी होगी। इसमें सन्देह नहीं
इतना तो हम करही सकते है।अपने ग्रूप के सभी सदस्यों के साथ शेयर करें और 27 अप्रैल को शाम 8 बजे हनुमान चालीसा के पाठ सबको करने के लिए प्रेरित करे।
।। कहहिं रीछपति सुन हनुमाना। का चुप साधि रहेऊ बलवाना।। पतनय बल पवन समाना।।
बुद्धि विवेक विग्यान निधाना।। वन सो काज कठिन जग माही।।
जो नई तात तुम नाही।।
राम काज लगी तब अवतारा।।
सुनतहि भयहु पर्वताकारा।।*

Leave a Reply